Sri Lanka Crisis: श्रीलंका में प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने दिया इस्तीफा, झड़प में सांसद की मौत, पूरे देश में लगाया गया कर्फ्यू

आर्थिक संकट से जूझ रही श्रीलंका सरकार को जिसका खतरा था आखिरकार वही हुआ। आर्थिक संकट श्रीलंका की राजपक्षे सरकार पर भारी पड़ा और अंत में प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे (Mahinda Rajapaksa) को अपना इस्तीफा देना पड़ा।

श्रीलंका में प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने दिया इस्तीफा, झड़प में सांसद की मौत, पूरे देश में लगाया गया कर्फ्यू

नई दिल्ली |  आर्थिक संकट से जूझ रही श्रीलंका सरकार को जिसका खतरा था आखिरकार वही हुआ। आर्थिक संकट श्रीलंका की राजपक्षे सरकार पर भारी पड़ा और अंत में प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे (Mahinda Rajapaksa) को अपना इस्तीफा देना पड़ा। आज सोमवार को प्रधानमंत्री महिंदा ने राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। बता दें कि, पीएम महिंदा ने इससे पहले कई बार कहा था कि वह जरूरत पड़ने पर इस्तीफा दे सकते हैं। 

ये भी पढ़ें:- OMG! : बिजली हुई गुल तो अंधेरे में दुल्हनें भी गई बदल और फिर...

पूरे देश में कर्फ्यू लगाया गया
जानकारी के अनुसार, कम से कम दो कैबिनेट मंत्रियों ने भी अपने इस्तीफे की घोषणा की है। वहीं, महिंदा राजपक्षे के समर्थकों द्वारा राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के कार्यालय के बाहर प्रदर्शनकारियों पर हमला करने के बाद श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में सेना के जवानों को तैनात कर दिया गया है। बता दें कि, इस हमले में सत्तारूढ़ पार्टी के एक सांसद की मौत हो गई और करीब 78 लोग घायल हो गए हैं। 9 अप्रैल से श्रीलंका में हजारों प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे हुए हैं। हालातों को काबू में करने के लिए सोमवार को पूरे देश में कर्फ्यू लगा दिया।

ये भी पढ़ें:- Rohit Joshi Rape Case: बेटे पर लगे रेप के आरोपों पर गहलोत सरकार के मंत्री महेश जोशी का आया बयान, जानें क्या कहा

आवश्यक वस्तुओं की कीमतें छू रही आसमान 
आपको बता दें कि, ब्रिटेन से आजादी मिलने के बाद श्रीलंका अबतक के सबसे गंभीर आर्थिक संकट से गुजर रहा है। आवश्यक वस्तुओं की कीमतें आसमान छू रही हैं। इसके चलते देश के लोगों को भारी आर्थिक परेशानियों से गुजरना पड़ रहा हैं। यहां रोजमर्रा के सामानों के लिए लोगों को कई गुणा कीमत चुकानी पड़ रही है फिर भी सामान नहीं मिल रहा है। श्रीलंका में यह संकट विदेशी मुद्रा की कमी के कारण पैदा हुआ है। जिसके कारण देश खाद्य पदार्थों और ईंधन के आयात के लिए भुगतान करने में असमर्थ हो गया है।

Must Read: भारत से विदेशों में चावल के निर्यात में 109 प्रतिशत रिकॉर्ड, 6115 मिलियन डॉलर तक जा पहुंचा निर्यात

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :