गेहू-चीनी के निर्यात पर भी रोक: मोदी सरकार का देश की जनता के हित में बड़ा कदम, ब्रोकन राइस के निर्यात पर आज से प्रतिबंध

कम बारिश से इस साल चावल का उत्पादन प्रभावित होने की संभावना के बाद देश की मोदी सरकार ने जनता के हित में बड़ा फैसला लेते हुए टूटे चावल (ब्रोकन राइस) के निर्यात पर आज से प्रतिबंध लगा दिया है। यानि अब ये चावल देश से बाहर नहीं भेजा जाएगा

मोदी सरकार का देश की जनता के हित में बड़ा कदम, ब्रोकन राइस के निर्यात पर आज से प्रतिबंध

नई दिल्ली | देश के कई इलाकों में कम बारिश से इस साल चावल का उत्पादन प्रभावित होने की संभावना के बाद देश की मोदी सरकार ने जनता के हित में बड़ा फैसला लेते हुए टूटे चावल (ब्रोकन राइस) के निर्यात पर आज से प्रतिबंध लगा दिया है। यानि अब ये चावल देश से बाहर नहीं भेजा जाएगा और देश में ही इसकी आपूर्ति की जाएगी। 

इस सीजन में अब तक 12 फीसदी गिरा चावल का कुल रकबा
डायरेक्टर जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड संतोष कुमार सारंगी की ओर से जारी किए गये नोटिफिकेशन में कहा गया है कि 9 सितंबर 2022 से ब्रोकन राइस (टूटे चावल) के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। कृषि मंत्रालय के अनुसार, दुनिया के दूसरे सबसे बड़े उत्पादक दक्षिण एशियाई देश भारत में चावल का कुल रकबा इस सीजन में अब तक 12 फीसदी गिर गया है। भारत का वैश्विक चावल व्यापार का लगभग 40 प्रतिशत हिस्सा है।

ये भी पढ़ें:- Watch Video: जयपुर एयरपोर्ट पर झूम कर नाची बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना, रंगी राजस्थानी रंग में

गेहू और चीनी के निर्यात पर भी लगाई गई थी रोक
बता दें कि, इससे पहले भारत में खाद्य सुरक्षा की रक्षा के लिए गेहूं और चीनी के निर्यात पर भी प्रतिबंध लगाया गया है। भारत ने इसी साल मई में गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगाते हुए कहा था कि देश की खाद्य सुरक्षा खतरे में है, क्योंकि कई राज्यों में रिकॉर्ड तोड़ गर्मी की वजह से गेहूं की पैदावार कम हुई थी। इसी के साथ देश में खाद्य आपूर्ति की सुरक्षा के लिए चीनी निर्यात पर भी रोक लगाई गई दी थी।

ये भी पढ़ें:- जानें किस जिले में हैं कितने पद: बेरोजगारों को गहलोत सरकार का तोहफा, एलडीसी पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू

Must Read: सोनी ने भारत में वायरलेस सबवूफर के साथ नया साउंडबार लॉन्च किया

पढें बिज़नेस खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :