WHO की अपील का असर: अमेरिका जून में डोनेट करेगा 2 करोड़ वैक्सीन डोज, 6 करोड़ डोज डोनेट करने का पहले कर चुका वादा

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन दुनिया के उन मुल्कों की फिर मदद करने जा रही है, जहां कोरोना वायरस से हालात खराब हैं, और जहां की सरकारें वैक्सीन खरीद पाने में ज्यादा कामयाब नहीं हो पाई हैं।

अमेरिका जून में डोनेट करेगा 2 करोड़ वैक्सीन डोज, 6 करोड़ डोज डोनेट करने का पहले कर चुका वादा


नई दिल्ली।
अमेरिका के राष्ट्रपति (US President ) जो बाइडेन (Joe Biden) एडमिनिस्ट्रेशन दुनिया के उन मुल्कों की फिर मदद करने जा रही है, जहां कोरोना वायरस से हालात खराब हैं, और जहां की सरकारें वैक्सीन खरीद पाने में ज्यादा कामयाब नहीं हो पाई हैं। राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने सोमवार रात कहा कि अमेरिका जून में 2 करोड़ वैक्सीन डोज डोनेट करेगा। इसके पहले भी अमेरिका 6 करोड़ वैक्सीन डोज डोनेट करने का वादा कर चुका है। बाइडेन की इस घोषणा के एक दिन पहले ही डब्ल्यूएचओ (WHO) चीफ टेड्रोस घ्रेबिसियस ने अमीर देशों की आलोचना करते हुए कहा था कि वे अपने यहां बच्चों और युवाओं को वैक्सीनेट कर रहे हैं, जबकि उन्हें इसकी जरूरत नहीं है।  WHO चीफ ने कहा था कि बेहतर होगा कि अमीर देश अपनी जिम्मेदारी समझें और उन मुल्कों को वैक्सीन दें, जहां अभी तक फ्रंटलाइन वर्कर्स को ही वैक्सीनेट नहीं किया जा सका है। इसके बाद न्यूयॉर्क टाइम्स ने भी अपने एडिटोरियल में बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन को यही सलाह दी थी। ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की सोमवार रात जारी रिपोर्ट के मुताबिक- अमेरिकी सरकार पहले ही 6 करोड़ वैक्सीन डोनेट करने का ऐलान कर चुकी है। अब राष्ट्रपति ने फैसला किया है कि 2 करोड़ वैक्सीन डोज और भी दान किए जाएंगे। ये वैक्सीन उन देशों को दी जाएंगी, जो या तो गरीब हैं और वैक्सीन नहीं खरीद सकते। या फिर ऐसे देश जहां संक्रमण और मौतें सबसे ज्यादा हो रही हैं। हालांकि, रिपोर्ट में किसी देश का नाम नहीं लिया गया है। इसमें एस्ट्राजेनिका वैक्सीन भी शामिल है। इसे फिलहाल एफडीए से मंजूरी नहीं मिली है।
आप को बता दें कि व्हाइट हाउस (White House) में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जो बाइडेन ने कहा कि हम जानते हैं कि अमेरिका भी महामारी के असर से तब तक सुरक्षित नहीं हो सकता, जब तक दुनिया में इस पर काबू नहीं पाया जाता। कोई भी समंदर और कोई भी दीवार हमें सुरक्षित नहीं रख सकती। WHO के डायरेक्टर जनरल टेड्रोस एडेनहोम घेब्रिसियस ने रविवार को ही एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोविड-19 के वर्तमान हालात पर चर्चा की थी। इस दौरान चीफ ने कहा था- अमीर देश बच्चों को भी वैक्सीनेट कर रहे हैं। मैं इसे रोकने की अपील करता हूं। बच्चों के वैक्सीनेशन में इस्तेमाल की जा रही डोज गरीब देशों को दान देना चाहिए ताकि महामारी से जल्द और ज्यादा बेहतर तरीके से निपटा जा सके। उन्होंने कहा था- हम देख रहे हैं कि कुछ अमीर देश बच्चों और युवाओं को भी वैक्सीनेट कर रहे हैं। दूसरी तरफ दुनिया के वो गरीब देश हैं, जहां अब तक हेल्थ वर्कर्स तक को वैक्सीन नहीं मिल सकी। हम सभी देशों को वैक्सीन देना चाहते हैं। जनवरी में ही मैंने साफ कर दिया था कि वैक्सीनेशन शुरू होने के बाद नैतिक पतन होगा। बदकिस्मती से हम ये अब साफ देख भी पा रहे हैं। कुछ देश ऐसे हैं, जिनके पास वैक्सीन का ढेर है और वो उन लोगों को भी वैक्सीनेट कर रहे हैं जिन्हें कोविड-19 से बहुत कम खतरा है। मैं उनसे फिर अपील करता हूं कि वे अब गरीब देशों की मदद करें। वहां हेल्थ वर्कर भी वैक्सीन नहीं लगवा सके हैं।

Must Read: पूर्वी लद्दाख में सीमा तनाव के बीच उपराष्ट्रपति का अरुणाचल प्रदेश के दौरे से चीन परेशान

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :