वैक्सीनेशन बढ़ाने की अनोखी पहल: वैक्सीन लगाने वालों को लॉटरी से मिलेंगे 7 करोड़ रुपए, सरकार ने वैक्सीन के प्रति लोगों के रूझान बढ़ाने के लिए शुरू की योजना

अमेरिका जैसे देश में लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए   7 करोड़ रुपए तक के ईनाम की घोषणा की गई है। अमेरिका में वैक्सीन लगवाओं और लॉटरी के माध्यम से ईनाम का इंतजार करो। अमेरिका के ओहियो राज्य ने वैक्सीनेशन के प्रति लोगों में जागरुकता पैदा करने के लिए लॉटरी सिस्टम के जरिए ईनाम देने का ऐलान किया है।

वैक्सीन लगाने वालों को लॉटरी से मिलेंगे 7 करोड़ रुपए, सरकार ने वैक्सीन के प्रति लोगों के रूझान बढ़ाने के लिए शुरू की योजना

नई दिल्ली।
भारत में कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लगाने वालों की तादात एकाएक बढ़ सी गई। कोरोना से डर कहें या लोगों में इसकी प्रति जागरूकता की भारत में वैक्सीन सेंटर पर दवा ही उपलब्ध नहीं है। वैक्सीन लगाने वाले तो तैयार है, लेकिन दवा के डोज लिमिटेड आ रहे  है, ऐसे में राजस्थान के अधिकांश सेंटर पर दवा नहीं मिल रही है। वहीं दूसरी ओर अमेरिका (US) जैसे देश में लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए   7 करोड़ रुपए तक के ईनाम की घोषणा की गई है। 
अमेरिका में वैक्सीन लगवाओं और लॉटरी के माध्यम से ईनाम का इंतजार करो। अमेरिका के ओहियो (Ohio) राज्य ने वैक्सीनेशन के प्रति लोगों में जागरुकता पैदा करने के लिए लॉटरी सिस्टम के जरिए ईनाम देने का ऐलान किया है। आज से इसकी शुरुआत हो रही है। हर हफ्ते ड्रॉ के जरिए पांच लोगों को चुना जाएगा। हर एक को 10 लाख डॉलर (करीब 7.2 करोड़ रुपए) मिलेंगे। यह कवायद इसलिए शुरू की गई है क्योंकि यह हर रोज वैक्सीनेशन कराने वाले लोग कम हो रहे हैं। इसकी वजह से यह प्रॉसेस स्लो हो गया है। अब सरकार इसे फिर तेज करना चाहती है। इसीलिए, सरकार लोगों को लॉटरी के जरिए वैक्सीनेशन के लिए प्रोत्साहित करना चाहती है।
ओहियो के गवर्नर माइक डीवाइन (Ohio Governor Mike DeWine) ने कहा कि हम उन पांच लोगों को लॉटरी के जरिए चुनेंगे, जिन्होंने वैक्सीन की कम से कम एक डोज लगवाई है। इसकी शुरुआत 26 मई से होगी। हो सकता है कि कुछ लोग कहें कि मैं पागल हो गया हूं और सरकारी पैसा लुटा रहा हूं। लेकिन, उन्हें समझना चाहिए कि जब जान बचाने के लिए वैक्सीन मौजूद हो, और हम वैक्सीन न लगवाएं तो क्या होगा? ड्रॉ सबके सामने निकाला जाएगा। इसके लिए ऑनलाइन प्रॉसेस भी इस्तेमाल की जा सकती है। लॉटरी में शामिल होने के लिए कोई खास शर्तें नहीं हैं। इसकी दो कैटेगरी हैं। वयस्कों के लिए उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए। उन्हें ओहियो का मूल निवासी होना चाहिए। विजेताओं को भुगतान फेडरल कोविड-19 रिलीफ फंड के जरिए किया जाएगा। युवाओं के लिए भी (12 से 17 साल) अलग लॉटरी सिस्टम रखा गया है। लेकिन, इसमें कैश प्राइज नहीं है। इनाम में उस युवा को चार साल की स्कॉलरशिप मिलेगी। इसमें ट्यूशन, बुक्स और रूम का खर्च शामिल होगा। इसके लिए ऑनलाइन अप्लाई करना होगा। इनके लिए फाइजर वैक्सीन को अप्रूवल दिया जा चुका है। ओहियो में अब तक 48 लाख लोगों ने (18 साल से ऊपर) वैक्सीनेशन कराया है। यह राज्य की कुल जनसंख्या का 53.4% है। अगर पूरे अमेरिका की बात करें तो अब तक 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में वैक्सीनेशन का प्रतिशत 58.7% है। हालिया दिनों में कुछ राज्यों ने वैक्सीनेशन कराने वालों लोगों को फ्री बियर, पिज्जा, ट्रेन टिकट और स्कॉलरशिप जैसे ऑफर दिए हैं। CDC के मुताबिक, एक महीने पहले हर रोज वैक्सीन के 30 लाख डोज लगाए जा रहे थे, अब यह संख्या 20 लाख हो गई है। यानी वैक्सीन लगवाने में लोगों की रुचि कम हो रही है और यह सरकार के लिए फिक्रमंदी की बड़ी वजह है।

Must Read: तेल कंपनी की गैस लाइन लीकेज से समुद्र में लगी आग, वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :