तकनीक से चोरों की मौजां: वाहन चोरों में क्रेटा का क्रेज और यूट्यूब से सीख रहे लॉक तोड़ना

अंतरराज्यीय वाहन चोर गैंग का खुलासा, 4 आरोपी गिरफ्तार, 11 लग्जरी कारे बरामद, रेंज आईजी रुपिंदर सिंघ ने किया खुलासा, 100 से ज्यादा चोरी की वारदातें कबूली, हाईटेक चाइनीज सॉफ्टवेयर डिवाइस से देते थे चोरी की वारदात अंजाम, यूट्यूब से सीखा चोरी का तरीका

वाहन चोरों में क्रेटा का क्रेज और यूट्यूब से सीख रहे लॉक तोड़ना
अजमेर पुलिस की गिरफ्त में वाहन चोर

अजमेर जिला पुलिस को गुरुवार को बड़ी कामयाबी मिली है । जिला पुलिस ने हाइटेक चाइनीस सॉफ्टवेयर डिवाइस से 5 मिनट में होंडा की क्रेटा गाड़ियों को चोरी करने के मामले में अंतर्राज्यीय गिरोह के 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिनसे 11 लग्जरी गाड़ियां बरामद हुई है।

बरामद कारो की कीमत डेढ़ करोड़ रुपये से अधिक है। पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने 100 से ज्यादा वारदातें करना कबूली है।

आरोपियों की पहली पसंद क्रेटा गाड़ी है, जिन्हें चोरी करने के बाद वह तस्करों को बेचा करते थे। गुरुवार को अजमेर रेंज आईजी रुपिंदर सिंघ ने पूरे मामले का खुलासा किया । इस मौके पर अजमेर एसपी चूनाराम जाट, एडिशनल एसपी डॉ प्रियंका रघुवंशी, आदर्श नगर थानाधिकारी सुगन सिंह भी मौजूद थे ।

खुलासे के बाद पुलिस ने मीडिया के सामने मुख्य आरोपी से वारदात का पूरा डेमू करवाया। पुलिस आरोपियों से मामले में पूछताछ में जुटी है। जिनसे कई तस्करों के गिरोह और वारदातों के बारे में खुलासे हो सकते हैं।

रेंज आईजी रूपेन्द्र सिंह ने आदर्श नगर थाने में प्रेस वार्ता कर बताया कि अजमेर जिले में आदर्श नगर, अलवर गेट, केकड़ी, ब्यावर, बिजयनगर, किशनगढ़ सहित अन्य जिलों में लग्जरी वाहनों की चोरी की वारदात के खुलासे के लिए टीम का गठन किया गया और वारदात के आधार पर पूर्व में चालनशुदा मुल्जिमानों का डेटाबेस तैयार का सभी से पूछताछ की गई।

टीम द्वारा अलग-अलग जगह हुई वारदातों के घटनास्थल का निरीक्षण कर आसपास के सीसीटीवी बारीकी से निरीक्षण कर घटना में प्रयुक्त कर वाहनों का रूट विश्लेषण किया गया। घटना के संबंध में जगह-जगह मुखबीर लगाए गए।

4 आरोपियों को किया गिरफ्तार

प्रेस वार्ता में आईजी सिंघ ने बताया कि जिला स्पेशल टीम के सदस्यों द्वारा घटना के संबंध में राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों से सूचना एकत्रित कर संदिग्ध आरोपियों के बारे में जानकारी प्राप्त की गई।

स्पेशल टीम ने लग्जरी गाड़ियों की चोरियां करने वाले संदिग्ध सरगना जिला सवाई माधोपुर निवासी, कुंजीलाल गुर्जर (34) पुत्र रामधन, जिला दौसा निवासी विनोद कुमार मीणा (32) पुत्र रामस्वरूप सहित जोधपुर निवासी वीमल कुमार (24) पुत्र बाबूलाल को गिरफ्तार किया। जिनसे मामले में मनोवैज्ञानिक तरीके से पूछताछ की गई। 

100 वारदात कबूली
पुलिस पूछताछ के बाद तस्करों के सरगना जिला जोधपुर, निवासी रामनिवास विश्नोई (32) पुत्र मोहनराम को भी गिरफ्तार किया।
तस्करों को बेचते थे । गाड़ी तस्करों के सरगना रामनिवास विश्नोई से पूछताछ में सामने आया कि उसे तीनों आरोपियों द्वारा 2 से 2.5 लाख रुपए में गाड़ियां बेचा जाता था। विश्नोई से 9 क्रेटा कार एक i10, एक i 20 सहित कुल 11 लग्जरी गाड़ी जब्त की है।

रामनिवास क्रेटा गाड़ियों को मुनाफा कमाने के लिए अजमेर में एक फॉर्म हाउस किराए पर लेकर छुपाकर रखता था और फिर मादक पदार्थों की तस्करी करने वालों को बेच देता था। चोरी के तीन आरोपियों से वारदात में उपयोग में लेने वाले हाईटेक एक्सटूल OBD STAR KEY MASTERS डिवाइस, सेंसर चिपे, मास्टर चाबी, पेचकस बरामद किया गया है।

वारदात का तरीका, पुलिस ने करवाया डेमो

अजमेर एसपी चुनाराम जाट के अनुसार गाड़ियों की डिमांड होते ही मुख्य आरोपी कुंजीलाल अपने साथियों के साथ गाड़ी चोरी करने की फिराक में रात को शहर में घूमता और जहां भी हुंडई कंपनी की क्रेटा, i10, i20, लग्जरी गाड़ियां देखते वहां पर रेकी करते और मौका मिलते ही कुंजीलाल का साथी विनोद मीणा गाड़ी के साइड में पीछे की तरफ के साइड कांच को तोड़कर एक हाथ अंदर डालकर फाटक खोलता और वह अंदर जाकर मास्टर चाबी से गाड़ी को केवल ऑन कर बाहर आ जाता।

फिर कुंजीलाल अपने द्वारा दिल्ली से लाई हुई एक्सटूल फास्टट्रैक डिवाइस को लेकर गाड़ी के अंदर जाता और गाड़ी के सिस्टम को हैक कर कोड प्राप्त कर गाड़ी को स्टार्ट कर चोरी कर ले जाते, बाद में शहर से बाहर जाकर गाड़ी के नंबर प्लेट बदलकर वारदात को अंजाम देते। इस पूरे घटनाक्रम का मीडिया के सामने आरोपी कुंजीलाल से डेमो भी करवाया गया।

यूट्यूब से सीखा गाड़ियों का लॉक तोड़ना :
आरोपियों द्वारा पूछताछ में बताया गया कि लग्जरी गाड़ियों के लॉक तोड़ने का सिस्टम यूट्यूब पर वीडियो देखकर सीखा। फिर टेक्सुअल हाइड्रिक डिवाइस से सिक्योरिटी सिस्टम हैक कर देते और फिर गाड़ियों को चोरी कर ले जाते हैं।

पुलिस के अनुसार चोर गिरोह लाखों की कीमत के हाईटेक डिवाइस की मदद से लग्जरी गाड़ियों का सिक्योरिटी सिस्टम हैक कर लग्जरी गाड़ी को मात्र 5 मिनट में चोरी कर लेते हैं।

पूर्व में कई मामले है दर्ज 
पुलिस के अनुसार आरोपी कुंजीलाल के विरुद्ध पूर्व में कुल 38 आपराधिक मामले दर्ज हैं। जिनमें चोरी, नकबजनी, आर्म्स एक्ट के प्रकरण दर्ज है। इसके साथ ही आरोपी विनोद कुमार मीणा के विरुद्ध 27 प्रकरण दर्ज हैं। सभी आरोपी जयपुर, जोधपुर, दौसा, भीलवाड़ा, सवाई माधोपुर सहित अन्य जिलों में कई वारदातों में वांछित है।

यह थे टीम में शामिल 
जिले में लगातार हो रही चौपहिया वाहन चोरियों के खुलासे के लिए पुलिस अधीक्षक चुनाराम जाट, एडिशनल एसपी सिटी विकास सांगवान के सुपरविजन में दक्षिण सीओ सुनील सिहाग के नेतृत्व में आदर्श नगर थानाधिकारी सुगन सिंह, जिला स्पेशल टीम प्रभारी एसआई विजय सिंह के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया जिसमें जिला स्पेशल टीम के प्रभारी एसआई विजय सिंह, हेड कांस्टेबल आशिष गहलोत (विशेष योगदान),देवेंद्र सिंह (विशेष योगदान), मनोहर सिंह, गोपाल गोरा, जोगेंद्र सिंह, सुनील मिल, कांस्टेबल हिम्मत तोषिक, गजेन्द्र मीणा, अभय सिंह, मुकेश टांडी, गेगल थाने के कांस्टेबल प्रेमचंद व चालक मनोज सिंह शामिल थे । इसके अलावा आदर्श नगर थाने की टीम में थानाधिकारी सुगन सिंह, एएसआई हरबान सिंह, भूरी सिंह, हेडकांस्टेबल सुरेश, कांस्टेबल विनोद कुमार, करतार सिंह, नंदकिशोर व सुनील लक्षकार शामिल थे । वही अन्य टीम में जोधपुर डीएसटी वेस्ट टीम के प्रभारी एसआई मनोज कुमार, कांस्टेबल सुरेश विश्नोई, सुनील, हेड कांस्टेबल हिम्मत सिंह, महेंद्र सिंह, श्याम सुंदर, अजमेर जिला स्पेशल टीम के हेड कांस्टेबल सीताराम गुर्जर, कांस्टेबल संतराम, रामनिवास, महिपाल सिंह, सुरेंद्र दाहिमा, अजमेर पुलिस लाइन के कांस्टेबल पवन कुमार व ब्यावर सिटी थाने के कांस्टेबल कृष्ण कुमार शामिल थे ।

Must Read: महिला को खेत में ले जाकर गैंगरेप, चार गिरफ्तार

पढें क्राइम खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :