वास्तुकला का नायाब उदाहरण: श्रीकृष्ण की जिस मूर्ति को पूजती थी मीरा, वही मूर्ति विराजमान है राजस्थान के इस मंदिर में, मीराबाई संग होती है पूजा

दुनियाभर में भगवान श्रीकृष्ण के सभी मंदिरों में भगवान कृष्ण के साथ राधा जी या फिर रुक्मणी जी विराजती हैं, लेकिन राजस्थान में एक ऐसा दिव्य मंदिर भी है जहां श्रीकृष्ण के साथ मीरा बाई विराजमान हैं। इस अद्भुत मंदिर श्री कृष्ण के साथ राधा नहीं बल्कि मीरा बाई की पूजा की जाती है।

श्रीकृष्ण की जिस मूर्ति को पूजती थी मीरा, वही मूर्ति विराजमान है राजस्थान के इस मंदिर में, मीराबाई संग होती है पूजा

जयपुर | दुनियाभर में भगवान श्रीकृष्ण के सभी मंदिरों में भगवान कृष्ण के साथ राधा जी या फिर रुक्मणी जी विराजती हैं, लेकिन राजस्थान में एक ऐसा दिव्य मंदिर भी है जहां श्रीकृष्ण के साथ मीरा बाई विराजमान हैं। इस अद्भुत मंदिर श्री कृष्ण के साथ राधा नहीं बल्कि मीरा बाई की पूजा की जाती है।

कहां है श्रीकृष्ण का ये अद्भुत मंदिर?
भगवान श्रीकृष्ण का ये अद्भुत मंदिर राजस्थान की राजधानी जयपुर के आमेर में स्थित है। सुरम्य हरीभरी पहाड़ियों के बीच बसा ये प्रसिद्ध मंदिर ‘जगत शिरोमणि’ मंदिर के नाम से जाना जाता है। जयपुर से इसकी दूरी मात्र 11 किलोमीटर है और यहां आसानी से पहुंचा जा सकता है। आमेर में सागर रोड पर स्थित जगत शिरोमणि लगभग 422 साल पुराना है। हिंदू वास्तु शिल्प के आधार पर बना यह मंदिर सबसे लोकप्रिय और पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। आमेर के इस प्रसिद्ध मंदिर में मीराबाई और भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। मंदिर में भगवान की प्रतिमा के ठीक सामने उनका वाहन गरूड़ भी विराजमान हैं।

ये भी पढ़ें:-  Jaipur : राजस्थान में छात्रसंघ चुनाव का घमासान! अध्यक्ष पद के लिए रितु बराला और नरेंद्र यादव होंगे आमने-सामने

किसने करवाया निर्माण? 
इस विश्वविख्यात जगत शिरोमणि मंदिर का निर्माण आमेर के महाराजा मानसिंह प्रथम की पत्नी महारानी कनकवती ने अपने पुत्र जगतसिंह की याद में करवाया था। मंदिर का निर्माण कार्य 1599 ई. में शुरु हुआ था और 1608 ई. में मंदिर बनकर तैयार हुआ था। मंदिर निमार्ण में 9 लाख 72 हजार, गरुड़ की विशाल मूर्ति पर एक लाख 25 हजार एवं तोरण स्तंभों पर 80 हजार रू खर्च हुए थे। उस समय मंदिर के निर्माण में करीब ₹11,70,000 खर्च किए थे। मंदिर के मुख्य उपासना गृह मीरा गिरिधर गोपाल और विष्णु की प्रतिमाएं हैं। महारानी की इच्छा थी कि उनके पुत्र को इस मंदिर के द्वारा सदियों तक याद किया जाए इसलिए इस मंदिर का निर्माण जगत शिरोमणि रखा गया। ये मंदिर लाल व सफेद पत्थरों से बना हुआ है और वास्तुकला का नायाब उदाहरण है। मंदिर की स्थापत्य कला में हिन्दु,मुसलिम, जैन और दक्षिण भारतीय शैली में बना यह मंदिर राजपूत स्थापत्य कला का अनूठा उदाहरण है। यहां जन्माष्टी के पर्व पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ दर्शन के लिए आती है। 

ये भी पढ़ें:- हाई अलर्ट जारी : जन्माष्टमी और गणेश चतुर्थी से पहले महाराष्ट्र में हड़कंप! रायगढ़ में मिली दो संदिग्ध नाव, तीन एके-47 राइफल और कारतूस बरामद

श्रीकृष्ण की जिस मूर्ति को पूजती थी मीराबाई, वही मूर्ति है विराजमान 
आमेर के जगत शिरोमणि मंदिर को लेकर लोगों की मान्यता है कि यहां स्थापित श्री कृष्ण की मूर्ति वही मूर्ति है जिसकी मीराबाई पूजा करती थी। कहा जाता है कि, मुगल सैनिकों ने श्रीकृष्ण की इस प्रतिमा को नष्ट करने की कोशिश की थी, लेकिन आमेर के शासकों ने इनकी रक्षा की थी। इस मंदिर में कई फिल्मों की शूटिंग भी हो चुकी है। जिनमें अक्षय कुमार की फिल्म भूल-भुलैया भी शामिल है।

Must Read: ज्ञानव्यापी मस्जिद का सर्वे पूरा, शिवलिंग मिलने के बाद कोर्ट का आदेश, केवल 20 लोग ही कर सकेंगे नमाज अदा 

पढें अध्यात्म खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :