Jalore @ भीनमाल नर्मदा नीर प्रोजेक्ट: नर्मदा नीर आंदोलन के समर्थन में मुंबई के प्रवासी भीनमाल महासंघ, पीएम और सीएम के नाम भेजा ज्ञापन

राजस्थान के जालोर जिले के भीनमाल उपखंड मुख्यालय पर चल रहा आंदोलन अब धीरे—धीरे बृहद रूप लेता जा रहा हैं। नर्मदा नीर प्रोजेक्ट की मांग पर भीनमाल के स्थानीय लोगों द्वारा लगातार देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन भेजे हैं।

नर्मदा नीर आंदोलन के समर्थन में मुंबई के प्रवासी भीनमाल महासंघ, पीएम और सीएम के नाम भेजा ज्ञापन

मुंबई/जालोर। 
राजस्थान के जालोर जिले के भीनमाल उपखंड मुख्यालय पर चल रहा आंदोलन अब धीरे—धीरे बृहद रूप लेता जा रहा हैं। नर्मदा नीर प्रोजेक्ट की मांग पर भीनमाल के स्थानीय लोगों द्वारा लगातार देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन भेजे हैं। भीनमाल उपखंड मुख्यालय पर चल रहे आंदोलन के समर्थन में मुम्बई महानगर के भीनमाल क्षेत्र के प्रवासियों ने इस संबंध में रविवार को बैठक आयोजित की। 
बैठक में उपस्थित अखिल भारतीय राजस्थानी प्रवासी महासंघ के अध्यक्ष राज के पुरोहित ने नर्मदा परियोजना की क्रियान्विति नहीं होने पर चिंता जताई। पुरोहित ने कहा कि शुद्ध और नियमित पेयजल का प्रत्येक को हक़ है। किसी भी स्थिति में यह कार्य राज्य सरकार को अतिशीघ्र पूरा करना चाहिए। पुरोहित ने कहा कि आवश्यकता पड़ी तो  वे स्वयं भीनमाल जाकर आंदोलन का हिस्सा बनेंगें। पुरोहित ने प्रवासियों के साथ भीनमाल वासियों को आश्वासन दिया कि वे इस मामले में राज्य सरकार के मुखिया व सक्षम अधिकारियों से बात करेंगे। इससे पूर्व कार्यक्रम का संचालन करते हुए कन्हैयालाल खंडेलवाल ने नर्मदा परियोजना की प्रारम्भ से लेकर अब तक हुई प्रगति, तकनीकी बाधाओं, प्रशासनिक शिथिलता व आंदोलन की आवश्यकता के संबंध में विस्तृत रूप से जानकारी दी।


मातृभूमि की सेवा हमारा कर्तव्य:वर्धन
बैठक में उपस्थित भीनमाल जैन संघ मुम्बई के महासचिव मुकेश वर्धन  ने कहा कि हम सभी प्रवासियों का भी कर्तव्य बनता है कि हमारी मातृभूमि की सेवा के लिए हम भी संघर्ष करें। उन्होंने आंदोलन को पूरा समर्थन देने की बात कही। इस दौरान नरेंद्र भंडारी, सरदार पुरोहित, चेतन राठौड़ , मंगल सेठ, नरेंद्र वानिगोता ने भी इस अवसर पर सभी प्रवासियों से अपील की हैं कि भीनमाल में गैर राजनीतिक रूप से जो आंदोलन चल रहा है , उसमें यथासंभव वहां जाकर भी हमें सहयोग करना चाहिए। नर्मदा का पेयजल स्वीकृत होने के बाद अभी तक क्रियान्वयन न होना राज्य सरकार की घोर विफलता है। आर डी फाउंडेशन के अध्यक्ष चेतन राठौड़ ने कहा कि यदि हम सभी एकजुट होकर संघर्ष करेंगे तो सफलता निच्छित रूप से मिलेगी।बैठक में बाबूलाल बोहरा, मंगल पुरोहित, लीला महेंद्र संघवी , ,देव संघवी, अशोक वानिगोता, पृथ्वी मेहता, राजेश मेहता, राजेश जैन, रमेश जेतुवाला, उत्तम चौधरी, कैलाश कुमार, सुरेश भंसाली, देवराज मेहता, मूलचंद बाफना, रमेश जैन, कांतिलाल जैन, दुर्गाराम, सहित बड़ी संख्या में प्रवासी उपस्थित थे।

Must Read: जश्न-ए-अदब साहित्योत्सव का आयोजन सांस्कृतिक करवां आईआईसी में होगा

पढें लाइफ स्टाइल खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :