राज्य में माइंस नीलामी की तैयारी: Rajasthan सरकार पोटाश, बेसमेटल, टंगस्टन, लाइमस्टोन सहित 12 मिनरल्स की नीलामी की कर रही हैं तैयारी

राज्य सरकार पोटाश, टंगस्टन, प्लेटिनियम सहित​ ​12 मिनरल्स के ब्लॉक्स के नीलामी की तैयारी कर रहा है। ऊर्जा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस, पेट्रोलियम व एनर्जी डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया है कि राजस्थान में 12 मिनरल्स की नीलामी की तैयारी शुरु कर दी गई है। 

Rajasthan सरकार पोटाश, बेसमेटल, टंगस्टन, लाइमस्टोन सहित 12 मिनरल्स की नीलामी की कर रही हैं तैयारी

जयपुर।
राज्य सरकार पोटाश, टंगस्टन, प्लेटिनियम सहित​ ​12 मिनरल्स के ब्लॉक्स के नीलामी की तैयारी कर रहा है। ऊर्जा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस, पेट्रोलियम व एनर्जी डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया है कि राजस्थान में 12 मिनरल्स की नीलामी की तैयारी शुरु कर दी गई है। 
इनमें पोटाश के 3, बेसमेटल के 6, टंगस्टन का एक और निकल और प्लेटिनियम ग्रुप के दो ब्लॉक्स तैयार किए जा रहे हैं।
उन्होंने बताया कि यह ब्लॉक्स हाल ही में जियोलोजिकल सर्वे ऑफ इण्डिया द्वारा राज्य सरकार को सौंपी गई रिपोर्ट के आधार पर तैयार किए जा रहे हैं। 
रिपोर्ट के मुताबिक बीकानेर संभाग के साथ ही अब सवाई माधोपुर, चूरु और करौली में पोटाश के भंडार खोज गए है। पोटाश के इन ब्लॉक्स को कंपोजिट लाइसेंस के तौर पर आक्शन किया जाएगा। इससे
संबंधित द्वारा एक्सप्लोरेशन किया जाएगा।
एसीएस डॉ अग्रवाल ने बताया कि विभाग को ऑक्शन के लिए तैयार ब्लॉक्स और नए ब्लॉक्स तैयार कर ऑक्शन करने की कार्यवाही में तेजी लानी होगी। प्रदेश में माइनर और मेजर खनिज की खोज, दोहन की विपुल संभावनाएं हैं। इससे प्रदेश में राजस्व बढ़ोतरी के साथ ही नया निवेश और रोजगार के बेहतर अवसर विकसित हो सकते हैं। उन्होंने अधिकारियों को रणनीति बनाने के निर्देश दिए ताकि प्रदेश खनिज खोज व खनन में अग्रणीप्रदेश बन सके।
मिनरल एक्सप्लोरेशन कारपोरेशन के सीएमडी डॉ. रंजीत रथ ने बताया कि एमईसीएल प्रदेश में राज्य सरकार के साथ मिलकर खनिज खोज खनन कार्य में सहभागिता निभाएगा। रथ ने बताया कि राज्य में पोटाश के खोज कार्य में तेजी लाई जा रही है। 
डीएमजी केबी पण्डया ने कहा कि राजस्थान में लाइमस्टोन के ब्लॉक्स की नीलामी में तेजी लाई गई है। पिछले दिनों ही 6 ब्लॉक्स की नीलामी हो चुकी है और सात ब्लॉक्स की नीलामी की प्रक्रिया जारी है।
इस दौरान उपसचिव माइंस नीतू बारुपाल,  जियोलोजिकल विभाग, हिन्दुस्तान कॉपर के श्री सुभ्रता गुहा, डॉ. गोपाल राठी, जियोलोजिकल सर्वें ऑफ इंडिया के उपमहानिदेशक डॉ. संजय दास, निदेशक तकनीकी एसके कुलश्रेष्ठ, एमईसीएल के आरके जैन, विभाग के अनिल वर्मा, आलोक जैन, सूनील वर्मा आदि उपस्थित थे।

Must Read: सिरोही के वलदरा गांव में 2 करोड़ की पेयजल योजना स्वीकृत, सरतरा गांव में 5 बीघा आबादी भूमि आवंटित, विधायक ने शिविर में बांटे पट्टे

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :