Rajasthan@ UP बॉर्डर से लौटी कांग्रेस: भारी भरकम काफिले के साथ उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जा रहे कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष यूपी बॉर्डर से लौटे

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में पिछले दिनों हुई हिंसा के विरोध में आज प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने यूपी बॉर्डर पर पहुंचकर विरोध जताया। हालांकि यूपी बॉर्डर से प्रदेश कांग्रेस का पैदल मार्च लखीमपुर तक बताया जा रहा था,लेकिन इसे टाल दिया गया।

भारी भरकम काफिले के साथ उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जा रहे कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष यूपी बॉर्डर से लौटे

जयपुर। 
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में पिछले दिनों हुई हिंसा के विरोध में आज प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने यूपी बॉर्डर पर पहुंचकर विरोध जताया। हालांकि यूपी बॉर्डर से प्रदेश कांग्रेस का पैदल मार्च लखीमपुर तक बताया जा रहा था,लेकिन इसे टाल दिया गया। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने भरतपुर जिले के ऊंचा नगला बॉर्डर से लखीमपुर खीरी तक पैदल मार्च निकालने की घोषणा एक दिन पहले ही सोशल मीडिया पर की थी, लेकिन आज यूपी बॉर्डर पर पहुंचने के बाद लखीमपुर खीरी तक पैदल मार्च टालने की घोषणा कर दी गई। प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा ने कहा कि प्रियंका गांधी को रिहा कर दिया गया, इसलिए कांग्रेस की ओर से पैदल मार्च नहीं निकाला जाएगा। अब लखीमपुर खीरी नहीं जाएंगे। कांग्रेस नेता बॉर्डर पर सभा करके और पुतला दह दहन करने के बाद वापस राजधानी लौट आए।


प्रदेश कांग्रेस की ओर से बुधवार को ही लखीमपुर खीरी तक के पैदल मार्च की घोषणा की थी। इस पर भरतपुर जिले के प्रभारी सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी ने बुधवार को ही बैठकें लेकर कार्यकर्ताओं को इसकी जिम्मेदारी दी थी। आज सुबह कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद डोटासरा काफिले के साथ जयपुर से भरतपुर के लिए रवाना हुए। वहां पहुंचने के बाद सभा की गई। उत्तर प्रदेश की सीमा तक गए, इसके बाद विरोध जताकर वापस आ गए।

सभा में संबोधित करते हुए डोटासरा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी किसान नरसंहार में पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है। उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने संवेदना ही हदें पार कर दी। हादसे के पीड़ित किसानों से मिलकर संवेदना जताने जा रहे नेताओं के साथ भाजपा ने जिस तरह का बर्ताव किया है वह पूरे देश ने देखा है।
इधर पायलट और कृष्णम को हिरासत से छोड़ा
वहीं दूसरी ओर मुरादाबाद में धारा 144 तोड़ने के आरोप में हिरासत में लिए गए पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम को रिहा कर दिया गया है।  पायलट को उत्तर प्रदेश पुलिस ने अलसुबह दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर लाकर छोड़ दिया। इन दोनों को बुधवार शाम मुरादाबाद में हिरासत में लिया था। दोनों नेताओं को हिरासत में लेने के बाद गेस्ट हाउस में रखा गया। फिर देर रात मुरादाबाद से लेकर दिल्ली बॉर्डर रवाना हो गए। पायलट उत्तर प्रदेश पुलिस की हिरासत से रिहा होने के बाद सीधे दिल्ली पहुंच गए हैं। 

Must Read: पालड़ी थानाधिकारी की नाकामियों को छुपा रहे एसपी

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :