जल संरक्षण पोस्टर का किया विमोचन: विश्व जल दिवस पर बिना "मास्क" जल बचाने का संदेश दिया जलदाय मंत्री कल्ला ने, 13 लोगों के समूह में केवल 1 के मुंह पर मास्क

जल दिवस पर कल्ला ने कहा कि जल संरक्षण हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। पानी की एक भी बूंद व्यर्थ नहीं जाए, इसके लिए सभी को जागरुक रहने और दूसरों को प्रेरित करने की जरूरत है।

विश्व जल दिवस पर बिना  "मास्क"  जल बचाने का संदेश दिया जलदाय मंत्री कल्ला ने, 13 लोगों के समूह में केवल 1 के मुंह पर मास्क

बीकानेर ।
जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला सोमवार को विश्व जल दिवस पर जल संरक्षण का संदेश लोगों को दे रहे थे। कल्ला ने जागरुकता फैलाने वाले पोस्टर का विमोचन किया,लेकिन  हालात देखो कि एक ओर जहां सीएम अशोक गहलोत सावधानी बरतने, मास्क लगाने और दो गज की दूरी जैसी कोरोना गाइड लाइन का सख्ती से पालन करने का संदेश दे रहे है, वहीं जलदाय मंत्री इस सख्ती की धज्जियां उड़ाते हुए नजर आ रहे है।
विश्व जल दिवस के अवसर पर बीकानेर में जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता कार्यालय में मंत्री जी ना तो दो गज की दूरी का पालन करते हुए पाए गए, और ना ही मंत्री जी ने मास्क लगाया। इतना ही नहीं, जब मंत्री जी ने ही मास्क नहीं लगाया तो उनके साथ उनके विभाग के कर्मचारी तो कैसे लगाते। तस्वीर में खड़े करीबन 13 लोगों में से केवल एक ही व्यक्ति मास्क लगाकर खड़ा है, लेकिन दो गज की दूरी का तो पालन उसने भी नहीं किया। 
जल संरक्षण हमारी सामूहिक जिम्मेदारी
बहरहाल, जल दिवस पर कल्ला ने कहा कि जल संरक्षण हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। पानी की एक भी बूंद व्यर्थ नहीं जाए, इसके लिए सभी को जागरुक रहने और दूसरों को प्रेरित करने की जरूरत है। कल्ला ने सोमवार को विश्व जल दिवस के अवसर पर बीकानेर में जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता कार्यालय में जल संरक्षण से संबंधित पोस्टर, फोल्डर एवं बैनर के विमोचन समारोह को संबोधित भी किया।


उन्होंने कहा कि बरसात के बूंद-बूंद पानी को संरक्षित एवं सुरक्षित रखना आज की सबसे बड़ी जरूरत है। प्रत्येक व्यक्ति इसे समझे। उन्होंने कहा कि जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अभियंताओं सहित सभी कर्मचारी जल संरक्षण को बढ़ावा देने का काम करें। पीएचईडी के सभी कार्यालयों के शौचालयों में डबल बटन के फ्लश हों, जिससे पानी की बचत की जा सकेगी। जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी मंत्री ने कहा कि राजस्थान में देश की 5.5 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है। क्षेत्रफल की दृष्टि से प्रदेश का 10.14 प्रतिशत भू-भाग है, लेकिन हमारे पास देश का सिर्फ 1.1 प्रतिशत जल उपलब्ध है। हमें इस गंभीरता को समझना होगा और पानी का अपव्यय रोकना होगा, अन्यथा भविष्य में गम्भीर जल संकट हमारे सामने होगा। उन्होंने कहा कि विश्व जल दिवस इस संकल्प की शुरूआत का दिन है। प्रत्येक व्यक्ति इस बात की शपथ ले कि पानी का समुचित उपयोग करेंगे।

उन्होंने कहा कि इस बार विश्व जल दिवस को ‘वेल्यूइंग वाटर’ की थीम के साथ मनाया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा भी समुचित जल प्रबंधन की दिशा में प्रभावी कार्य किया जा रहा है, लेकिन इसमें आमजन की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण है। जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता दिलीप गौड़ ने जल संरक्षण एवं जल तंत्र सुदृढ़ीकरण से संबंधित कार्यों के बारे में बताया। अधीक्षण अभियंता दीपक बंसल ने कहा कि गर्मी के मौसम एवं नहरी बंदी के दौरान आम उपभोक्ताओं को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो, इसके मद्देनजर प्रभावी कार्ययोजना तैयार की गई है। इस दौरान अधिशाषी अभियंता विजय वर्मा, शरद माथुर, विकास गुप्ता, बलवीर सिंह तथा कर्मचारी प्रतिनिधि जयगोपाल जोशी आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन जल जीवन मिशन के जिला आईईसी सलाहकार श्याम नारायण रंगा ने किया।

Must Read: Rajathan में New Year पर जमकर छलकाए गए जाम, 1 दिन में 77 करोड़ रुपए की शराब​ बिक्री

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :