सीएम बनाम पूर्व सीएम बयानबाजी: बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा नहीं करने के आरोप पर सीएम गहलोत ने दिया जवाब

राजस्थान के कोटा संभाग में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा नहीं करने के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बयान पर दो दिन बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जवाब दिया। सीएम गहलोत ने पटलवार करते हुए कहा कि कोरोना अभी गया नहीं है। ऐसे में सीएम बाहर जाएगा तो भीड़ जुटेगी और लोग कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ने का आरोप लगाएंगे।

बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा नहीं करने के आरोप पर सीएम गहलोत ने दिया जवाब

जयपुर। 
राजस्थान(Rajasthan) के कोटा संभाग (Kota Division) में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा नहीं करने के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Former CM Vasundhara Raje) के बयान पर दो दिन बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जवाब दिया। सीएम गहलोत ने पटलवार करते हुए कहा कि कोरोना अभी गया नहीं है। ऐसे में सीएम बाहर जाएगा तो भीड़ जुटेगी और लोग कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ने का आरोप लगाएंगे। जानकारी के अनुसार बुधवार को राजस्थान हाउसिंग बोर्ड (Rajasthan Housing Board) की आवासीय योजनाओं के शिलान्यास समारोह में बोलते हुए CM गहलोत ने कहा कि कोविड की दूसरी और तीसरी लहर की चर्चा की। गहलोत ने कहा कि देश से कोरोना अभी गया नहीं है। विशेषज्ञों(Experts) के मुताबिक कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए। मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों को अपनाना चाहिए। इसके चलते आज मैं खुद कहीं बाहर नहीं निकल पा रहा हूं। अगर मैं बाहर निकला तो लोगों की भीड़ जुटेगी और फिर लोग ही कहेंगे कि मुख्यमंत्री(Chief Minister) खुद कोरोना का प्रोटोकॉल तोड़ रहे है। मेरे लिए तो बड़ी समस्या बनी हुई है कि इसमें क्या करें?
आखिर क्या आरोप लगाए थे राजे ने...
पूर्व सीएम वसुंधरा राजे(Vasundhara Raje) ने दो दिन पहले झालावाड़ क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई दौरा किया था। इसके बाद राजे ने एक बयान जारी कर कहा था कि बाढ़ और अतिवृष्टि की मार से परेशान हाड़ौती की जनता खून के आंसू रो रही है। प्रदेश की सरकार(State Government) जयपुर के सिविल लाइन्स में चैन की नींद सो रही है। चक्रवात तूफान से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिमी बंगला, उड़ीसा क्षेत्र का दौरा किया। MP के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया। लोगों को राहत पहुंचाई। ऐसे में अब राजस्थान के भी मुख्यमंत्री बाहर निकलें और जनता की सुध लें।

Must Read: राज्यपाल ने वन क्षेत्र की सुरक्षा और संरक्षण में जनभागीदारी को बताया जरूरी, बीटीपी के विधायक के साथ ब्रह्माकुमारी सारिका, शिविका और डॉ. प्रताप ने की भेंट

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :