अंतरराष्ट्रीय कुष्ठ निवारण दिवस CM वीसी : कुष्ठ निवारण दिवस के उपलक्ष में सीएम गहलोत ने कुष्ठ रोगियों की सेवा का संकल्प लेना की अपील की

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जनवरी माह के अंतिम रविवार को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय कुष्ठ निवारण दिवस पर लोगों से कुष्ठ रोगियों की सेवा करने की अपील की। सीएम ने कहा कि व्यक्ति सेवा भाव के साथ दूसरों की मदद कर अपने जीवन के उद्देश्य को सार्थक कर सकता है।

कुष्ठ निवारण दिवस के उपलक्ष में सीएम गहलोत ने कुष्ठ रोगियों की सेवा का संकल्प लेना की अपील की

जयपुर।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जनवरी माह के अंतिम रविवार को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय कुष्ठ निवारण दिवस पर लोगों से कुष्ठ रोगियों की सेवा करने की अपील की। 
सीएम ने कहा कि व्यक्ति सेवा भाव के साथ दूसरों की मदद कर अपने जीवन के उद्देश्य को सार्थक कर सकता है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने इसी सोच के साथ कुष्ठ रोगियों की सेवा की और उन्हें समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के प्रयास किए। 
गहलोत ने निवास से वीसी के माध्यम से सार्थक मानव कुष्ठ आश्रम द्वारा अंतरराष्ट्रीय कुष्ठ निवारण दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। 
उन्होंने कहा कि कुष्ठ रोगियों को जब कोई नहीं अपनाता था, उस समय राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने उन्हें गले लगाया और उनकी सेवा करने में कभी संकोच नहीं किया। इससे समाज के कई वर्गों में इस रोग एवं रोगियों के प्रति घृणा कम हुई। आज जरूरत कुष्ठ रोगियों में आत्म विश्वास और उनके उपचार के प्रति जागरूकता पैदा करने की है।
सीएम ने कहा कि जनवरी के आखिरी रविवार को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय कुष्ठ निवारण दिवस के साथ ही शहीद दिवस के इस मौके पर हमें कुष्ठ रोगियों की सेवा का संकल्प लेना होगा, यही बापू को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। 
उन्होंने कहा कि देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं. नेहरू जी के समय 1955 में राष्ट्रीय कुष्ठ रोग नियंत्रण कार्यक्रम शुरू किया गया। पूर्व प्रधानमंत्री  इन्दिरा गांधी के समय 1983 में राष्ट्रीय कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम की शुरूआत हुई। 
इन प्रयासों के परिणाम स्वरूप आज देश कुष्ठ मुक्त होने के कगार पर है और नये कुष्ठ रोगियों की संख्या में भी कमी आई है। गहलोत ने कहा कि सार्थक मानव कुष्ठ आश्रम कुष्ठ रोगियों की सेवा के प्रति समर्पित भाव से कार्य कर रहा है। 
उन्होंने संस्था को मुख्यमंत्री सहायता कोष से 5 लाख रूपए देने की घोषणा की। साथ ही, उन्होंने प्रदेश में चल रहे 16 कुष्ठ आश्रमों में रह रहे कुष्ठ रोगियों के कल्याण के संबंध में सुझाव आमंत्रित किए। 
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा इन सुझावों का परीक्षण कर कुष्ठ आश्रमों में रह रहे लोगों की मदद की दिशा में कदम उठाए जाएंगे।
 उन्होंने स्वयंसेवी संस्थाओं एवं समाज के प्रबुद्धजनों को भी आगे आकर कुष्ठ रोगियों की मदद करने की अपील की।

Must Read: सालभर में पांच लाख का फिल्टर पानी पी जाती है माउंट आबू नगरपालिका

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :