मर रहा है माउंट आबू: माउंट आबू के सात होटलों को नोटिस, ग्रीन ट्रिब्यूनल में है मामला, साहब को लिमड़ी कोठी नजर नहीं आई

फर्स्ट भारत की खबर के बाद जिला कलक्टर ने लिमड़ी कोठी मामले में रिपोर्ट मांगी है। परन्तु एसडीएम से ही। अब इस रिपोर्ट में क्या आएगा, यह लगभग  पहले से ही तय है। 

माउंट आबू के सात होटलों को नोटिस, ग्रीन ट्रिब्यूनल में है मामला, साहब को लिमड़ी कोठी नजर नहीं आई
Arial View of Limdi Kothi

माउंट आबू | सिरोही जिला राज्य में सर्वाधिक वन घनत्व वाला जिला है। कहने का अर्थ है यहां का जंगल सर्वाधिक घना है। शायद यही वजह है कि प्रशासन यहां जंगलराज ही चला रहा है।

फर्स्ट भारत की खबर के बाद जिला कलक्टर ने लिमड़ी कोठी मामले में रिपोर्ट मांगी है। परन्तु एसडीएम से ही। अब इस रिपोर्ट में क्या आएगा, यह लगभग  पहले से ही तय है। 

Must Read: मर रहा है माउंट आबू: आखिर इस लिमड़ी कोठी का मालिक कौन है? जिससे सरकारी अफसर इतने डरे हुए हैं

इसी बीच एसडीएम ने माउंट आबू के सात होटलों को ग्रीन ट्रिब्यूनल की ओर से मांगी गई सूचना की अनुपालना में नोटिस थमाकर चार दिन में जवाब मांगा है।

साहब को स्वत: तो लिमड़ी कोठी नजर नहीं आई, लेकिन अब लोग इस मामले को लेकर भी ग्रीन ट्रिब्यूनल जाने की तैयारी में हैं।

सिरोही के माउंट आबू में नो कंस्ट्रक्शन जोन में बनाई जा रही पांच सितारा होटल, विधायक की शिकायत के बावजूद सब मौन! - First Bharat - 

आपको बता दें कि फर्स्ट भारत ने माउंट आबू की लिमड़ी कोठी का मामला लगातार उठाते हुए यहां हो रही धांधली को उजागर किया।

जिला कलक्टर ने इस मामले में एसडीएम से रिपोर्ट भी मांगी है। परन्तु ऐसी रिपोर्ट पहले भी तैयार हुई है। यहां काम अभी तक नहीं रुका है।

जनता अपने घर पर शौचालय तक नहीं बनवा पा रही है और रसूखदार अफसरों की मिलीभगत से माउंट आबू के पर्यावरण को खाक कर रहे हैं।

Must Read : लिमडी कोठी में नियम विरुद्ध निर्माण के बावजूद प्रशासन खामोश, आखिर क्या हैं वजह?  - 

इसी बीच लोकेन्द्रसिंह बनाम राज्य सरकार मामले में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के नोटिस पर उपखण्ड मजिस्ट्रेट ने 7 रेस्टोरेंट अथवा होटलों से दस्तावेज मांगे हैं।

यह दस्तावेज मांगे गए हैं

  1. भूमि के स्वामित्व या उपयोग संबंधी दस्तावेज
  2. भूमि के निर्माण, भवन निर्माण स्वीकृति अथवा साइट प्लान के दस्तावेज
  3. निर्माण एवं मरम्मत कार्य की अनापत्ति का प्रमाण पत्र
  4. वर्तमान में भूमि उपयोग किस काम में ली जा रही है
  5. निर्माण संबंधी पुराने फोटोग्राफ्स

इनको थमाया नोटिस 

  • मैसर्स कनक डाइनिंग हॉल, दुकान नंबर 4, बस स्टैंड के पास, आबू बाजार, आबू पर्वत सिरोही
  • मैसर्स ऋषि वैली रिजॉर्ट, 141 हेटमजी, आबू पर्वत सिरोही
  • मैसर्स हरी निवास रिजॉर्ट, टोल नाका से पहले, हेटमजी, आबू पर्वत
  • मैसर्स हमिंग बर्ड रिजॉर्ट, अचल गढ़ रोड, अचल फोर्ट के पास, अचलेश्वर महादेव मंदिर से पहले, आबू पर्वत
  • मैसर्स अचल रिजॉर्ट, अचलेश्वर महादेव मंदिर रोड, अचलगढ़, आबू पर्वत
  • महेश्वर मान्यवर गार्डन, रिजॉर्ट, अचलेश्वर महादेव मंदिर के पास, ओरिया रोड, आबू पर्वत
  • आबू राज फार्म रिजॉर्ट, ज्ञान सरोवर, आबू पर्वत

इसलिए जरूरत है लगाम की
माउंट आबू में पर्यावरण बदहाल हो रहा है। वजह है होटलों का बेतरतीब निर्माण। आम जन और यहां के निवासी एक ईंट लगाने के लिए,घरों की मरम्मत तक में दु:खी हो रहे हैं और नेता यहां गगनचुम्बी इमारतें खड़ी कर रहे हैं।

Must Read: राजपुरा गैंगरेप : विरोध में भाजपाइयों ने सौंपा ज्ञापन, जिलाध्यक्ष ने मास्क उतारकर सौंपा ज्ञापन

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :