Pakistan@ प्रशासनिक सेवा हिन्दू लड़की : पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार हिन्दू लड़की को बनाया प्रशासनिक अधिकारी, सना गुलवानी को मिली नियुक्ति

भारत के पड़ौसी मुल्क पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार किसी हिन्दू लड़की को प्रशासनिक अधिकारी बनाया गया हैं 27 साल की डॉक्टर सना रामचंद गुलवानी ने पाकिस्तान की सेंट्रल सुपीरियर सर्विसेस परीक्षा को पास कर लिया।

पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार हिन्दू लड़की को बनाया प्रशासनिक अधिकारी, सना गुलवानी को मिली नियुक्ति

नई दिल्ली, एजेंसी।
भारत के पड़ौसी मुल्क पाकिस्तान(Pakistan) के इतिहास में पहली बार किसी हिन्दू लड़की(Hindu girl) को प्रशासनिक अधिकारी(Administration Officer) बनाया गया हैं 27 साल की डॉक्टर सना रामचंद गुलवानी(Sana Ramchand Gulwani) ने पाकिस्तान की सेंट्रल सुपीरियर सर्विसेस(Central Superior Services)  परीक्षा को पास कर लिया। मई में परीक्षा पास करने के बाद  अब सितंबर में सना गुलवानी को नियुक्ति पर मुहर लग गई। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सना ने यह परीक्षा मई में ही पास कर ली थी। लेकिन उनकी नियुक्ति पर सितंबर में मुहर लगी। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान में अब तक कोई हिंदू लड़की प्रशासनिक सेवा में नहीं रही। सना गुलवानी पहले से डॉक्टर के तौर पर अपनी सेवाएं दे रही है। सना ने पांच साल पहले बेनजीर भुट्टो मेडिकल यूनिवर्सिटी(Benazir Bhutto Medical University) से बैचलर आफ मेडिसिन की डिग्री प्राप्त की थी। मेडिकल से पढ़ाई करने वाली सना के परिजना उसे मेडिकल में ही भविष्य बनाने की बोलते थे,लेकिन उसने पहले डॉक्टर बनकर घरवालों का सपना पूरा किया, फिर प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी की। बताया जाता है कि पाकिस्तान की सीएसएस परीक्षा में इस साल केवल 2 प्रतिशत से कम ही लोग पास हो पाए।

सिंध प्रांत की ग्रामीण सीट से प्रवेश 
सना मूल रूप से शिकारपुर(Shikarpur) की रहने वाली हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, सना ने सिंध प्रांत की ग्रामीण सीट से इस परीक्षा में भाग लिया था और यह सीट पाकिस्तान एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेस (Pakistan Administrative Service) के अंतर्गत आती है।सना के मामले में सबसे खास बात यह रही कि उन्होंने इसे परीक्षा को अपने पहले अटैम्प्ट में ही क्रैक कर लिया। मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि मैं बहुत खुश हूं। यह मेरा पहला प्रयास था और जो मैं चाहती थी, वो मैंने हासिल कर लिया है। उन्होंने इस एग्जाम को क्लियर करने की ठान ली थी और इसके लिए शुरू से काफी मेहनत की।

Must Read: यूक्रेन के 31वें स्वतंत्रता दिवस पर चैपलिन रेलवे स्टेशन पर रूसी गोलाबारी, 22 की मौत

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :