Corona को लेकर CM की ओपन समीक्षा बैठक: CM की कोरोना समीक्षा बैठक में मंत्रियों के बीच मतभेद, कोई धार्मिक स्थल तो कोई स्कूल—कॉलेज बंद करने के पक्ष में, CM ने 3 जनवरी से सख्ती करने के दिए निर्देश

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में शुक्रवार को कोरोना समीक्षा बैठक आयोजित की गई। प्रदेश में 3 जनवरी के बाद धार्मिक स्थल बंद करने की तैयारी। मंत्रियों का सुझाव स्कूल—कॉलेजों को भी किया जाए बंद। मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखना और कोरोना वैक्सीनेशन पर सभी का जोर।

CM की कोरोना समीक्षा बैठक में मंत्रियों के बीच मतभेद, कोई धार्मिक स्थल तो कोई स्कूल—कॉलेज बंद करने के पक्ष में, CM ने 3 जनवरी से सख्ती करने के दिए निर्देश


जयपुर। 
राजधानी में एक ही दिन 185 नए कोरोना संक्रमित आने के बाद मुख्यमंत्री ने एक ओर कोरोना समीक्षा बैठक ली। 
आज मुख्यमंत्री निवास पर लाइव ओपन समीक्षा बैठक में चिकित्सकों के साथ जनप्रतिनिधियों से भी कोरोना को बढ़ने से रोकने के लिए सुझाव मांगे गए। 
कोरोना समीक्षा बैठक में जहां कुछ मंत्रियों ने स्कूल कॉलेजों को बंद करने का सुझाव दिया तो कुछ ने प्रदेश के धार्मिक स्थलों को बंद करने का सुझाव दे दिया। 
किसी ने शादियों में मेहमानों की सख्यां कम करने की बात रखी तो किसी ने वैक्सीनेशन अभियान चलाने का सुझाव दिया। 
इस दौरान गहलोत सरकार के कुछ मंत्रियों का मतभेद भी देखने को मिला तो राजधानी में सैंपलिंग कम रहने पर चिकित्सा अधिकारी को सीएम की ओर से फटकार तक लगाई गई। 
अंत में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यह कहते हुए बैठक पूर्ण की कि आप सभी के सुझावों का ध्यान रखते हुए 3 जनवरी से पहले गृह विभाग की ओर से नई एसओपी जारी की जाएगी। 
बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हमें प्रदेश में वैक्सीनेशन को लेकर सख्ती करनी ही होगी। इसमें अभियान चलाकर लोगों को 1 माह का समय दिया जाए। 
इसके बाद उस पर सख्ती लगाई जाए। इसके साथ ही सीएम ने 3 जनवरी से प्रदेश में नाइट कर्फ्यू में सख्ती बरतने के निर्देश दिए।

स्कूल—कॉलेज बंद कर दो या फिर धार्मिक स्थल, शादियों पर फिलहाल नहीं: खाचरियावास

सीएम की बैठक में खाद्य आपूर्ति मंत्री प्रता​प सिंह खाचरियावास ने कोरोना के नियमों को सख्ती से पालना कराने के लिए स्कूल—कॉलेज बंद करने का सुझाव दिया। 
जयपुर मेयर ने भी इसका समर्थन किया। हालांकि इस पर बात नहीं बनी तो खाचरियावास ने धार्मिक स्थलों को आज से ही बंद करने का सुझाव दिया। नए साल पर धार्मिक स्थलों पर भारी भीड़ रहने की संभावना जताई जा रही है। 
ऐसे में जलदाय मंत्री महेश जोशी ने धार्मिक स्थलों को 3 जनवरी से बंद करने की मांग की। जोशी ने कहा कि हम अचानक ऐसे आदेश नहीं निकाल सकते। 
इस दौरान शादियों में 200 लोगों से कम करने की बात आई तो प्रता​प सिंह ने विरोध किया। उन्होंने कहा कि इससे गरीब लोग मारे जाएंगे।इससे अच्छा धार्मिक स्थल बंद कर दिए जाए। 
इस पर स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने नए साल पर सरकार की ओर से दी गई छूट पर कहा कि इससे पब्लिक में मैसेज ठीक नहीं है।लोग नेगेटिव कमेंट कर रहे हैं। 
इस पर प्रता​प सिंह नाराज हो गए। उन्होंने कहा कि नए साल पर पाबंदी नहीं लगाई जा सकती। लोग आप के आदेश नहीं मानेंगे। आप राजस्थान में रोक लगाकर देख लो कोन आपकी बात मानेगा। 


सीएम ने की खाचरियावास की तारीफ 
शादियों में 200 लोगों की सख्यां कम करने के मामले में प्रताप सिंह खाचरियावास द्वारा विरोध किया गया। खा​चरियावास ने कहा कि इससे गरीब लोग मारे जाएंगे। 
इस पर सीएम ने खाचरियावास की तारीफ की कि वे हमेशा गरीब लोगों का पक्ष लेते है। उन्होंने कहा कि आप गरीबों के भत्ते देने का भी सुझाव दे सकते थे। लेकिन यह अच्छी बात है कि आप हमेशा गरीबों के पक्ष में बोलते है। 

15 दिन पहले भी 4 हजार सैंपलिंग आज भी 4 हजार ही 
सीएम की बैठक में कोरोना को लेकर हो रही सैं​पलिंग चर्चा का विषय बना रहा। इस दौरान चिकित्सकों से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने एक साथ सैंपलिंग बढ़ाने का समर्थन किया। स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने तो यहां तक कह दिया कि 15 दिन पहले 4 हजार सैंपलिंग हो रही थी, आज भी 4 हजार सैंपलिंग हो रही है। ऐसे में हमें यह बढ़ानी चाहिए। कोरोना के विस्फोट को समय पर कंट्रोल करने के लिए हमें प्रतिदिन 20 हजार तक सैंपलिंग करनी चाहिए। मेडिकल एक्सपर्ट डॉ. वीरेंद्र सिंह ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए हम सभी को सावधानी रखनी होगी। 
आज की रात के सेलिब्रेशन में खतरा है। हम घर पर ही न्यू ईयर मना सकते हैं। अगर बाहर निकलें तो इनडोर कार्यक्रम से बचें। इनडोर कार्यक्रम है तो मास्क लगाकर रहें और डांस व गाने से बचें। एसएमएस अस्पताल की वरिष्ठ डॉ. मोनिका राठौड़ ने कहा कि जयपुर सहित बड़े शहरों में कुछ दिनों में केस बढ़ जाएंगे।


वहीं एसएमएस अस्पताल के डॉ अशोक अग्रवाल ने कहा कि दुनिया का ट्रेंड देखते हुए राजस्थान में अगले एक महीने में 40 से 50 हजार कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ सकते है। देश में यह संख्या 30 से 35 लाख हो सकती है।
जयपुर में अब हर होर्डिंग्स पर होगा कोरोना पोस्टर
सीएम गहलोत ने कहा कि कोविड को लेकर हमें मिलकर जागरूकता अभियान चलाना होगा। 
राजधानी के सभी होर्डिंग्स पर से कोरोना बचाव के विज्ञापन नजर आने चाहिए। इसका जागरूकता का प्रचार प्रसार तेजी से और लाउड स्पीकर से करना चाहिए। सभी की सजगता और सतर्कता से ही कोविड के प्रसार को रोका जाना संभव हो सकेगा।
बैठक में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, जलदाय मंत्री डॉ. महेश जोशी, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, गृह राज्यमंत्री राजेन्द्र सिंह यादव, विधायक अमीन कागजी, रफीक खान, महापौर जयपुर हैरिटेज मुनेश गुर्जर, महापौर जयपुर ग्रेटर शील धाबाई ने भी विचार व्यक्त किए। 

Must Read: वन विभाग की हॉफ ने किया पिंडवाड़ा रेस्क्यू सेंटर का उद्घाटन, श्रेष्ठ कार्य के लिए फारेस्ट गार्ड अंजू को किया सम्मानित

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :