राजस्थान में सरकारी कर्मचारियों का लालच: राजस्थान के 28 हजार सरकारी कर्मचारियों द्वारा राशन कार्ड से उठाया सस्ता राशन, अब 27 रुपए किलो की दर से होगी वसूली

राशन कार्डधारी सदस्यों की जन आधार से मैपिंग अभियान के दौरान राशन कार्ड डेटा का राजस्थान सरकार स्वास्थ्य सेवाओं (आरजीएचएस) में नामांकित परिवार के सदस्यों से मिलान करने पर पाया गया कि 27 हजार 911 सरकारी कार्मिक ऎसे हैं जो या तो सरकारी नौकरी कर रहे हैं या सरकारी सेवा से सेवानिवृत्त होकर पेंशन प्राप्त कर रहे हैं

राजस्थान के 28 हजार सरकारी कर्मचारियों द्वारा राशन कार्ड से उठाया सस्ता राशन, अब 27 रुपए किलो की दर से होगी वसूली

जयपुर।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सार्वजनिक वितरण प्रणाली के समस्त लाभ जन आधार कार्ड के माध्यम से दिये जाने की बजट घोषणा की अनुपालना में राजस्थान जन आधार प्राधिकरण, आयोजना विभाग तथा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा एनएफएसए राशन कार्डधारी सदस्यों की जन आधार से मैपिंग का माह जुलाई, 2021 से एक सघन अभियान चलाया जा रहा है। 
खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के शासन सचिव नवीन जैन ने बताया कि मैपिंग अभियान के दौरान राशन कार्ड डेटा का राजस्थान सरकार स्वास्थ्य सेवाओं (आरजीएचएस) में नामांकित परिवार के सदस्यों से मिलान करने पर पाया गया कि 27 हजार 911 सरकारी कार्मिक ऎसे हैं जो या तो सरकारी नौकरी कर रहे हैं या सरकारी सेवा से सेवानिवृत्त होकर पेंशन प्राप्त कर रहे हैं और राशन का सस्ता गेहूँ भी प्राप्त कर रहे हैं।
उन्होंने बताया कि इन सरकारी कार्मिकों में अधिकांश परिवार केवल एक, दो, तीन या चार सदस्यीय हैं। 
इससे प्रथम दृष्टया प्रतीत होता है कि ये सरकारी कार्मिक जानबूझ कर राशन के सस्ते गेहूं का लाभ ले रहे थे। सर्वाधिक 7 हजार परिवार चार सदस्यों के हैं और 5 हजार परिवार 5 सदस्यों के हैं।
ज्यादातर परिवार ऎसे भी हैं जिन्हाेंने हाल ही में माह मार्च, 2022 का भी राशन का सस्ता गेंहूँ प्राप्त किया है। 
इन सरकारी कार्मिकों में सर्वाधिक 3 हजार 379 परिवार जयपुर जिले के हैं। 3 हजार 200 से अधिक परिवार अलवर जिले के हैं। लगभग 15 हजार कार्मिक 7 जिलों जयपुर, अलवर, उदयपुर, बांसवाडा, कोटा, जोधपुर और डूँगरपुर से है। 

27 रुपए किलो की दर से होगी वसूली
जैन ने बताया कि विभाग ने निर्णय लिया है कि इन चिन्हित 27 हजार 911 सरकारी कार्मिकों से नियमानुसार राशि 27.00 रुपए प्रति किलोग्राम गेंहूँ के हिसाब से वसूली कर राशि राजकोष में जमा करायी जाएगी।
इन सरकारी कार्मिकों के परिवारों के राशनकार्डों को तुरन्त प्रभाव से ब्लॉक किया जा रहा है तथा वसूली उपरांत इन राशनकार्डों को सार्वजनिक वितरण प्रणाली से हटा दिया जाएगा। 
पूर्व में भी इस प्रकार के वसूली अभियान में ऐसे कुल 83 हजार 130 राजकीय कर्मचारियों को चिन्हित किया गया था, जिनके द्वारा खाद्य सुरक्षा योजना का अनुचित लाभ लिया जा रहा था। 
इनमें से 65 हजार 499 कार्मिकों से 80.50 करोड़ की वसूली अब तक की जा चुकी है। पूर्व में उदयपुर संभाग में सर्वाधिक वसूली की गई थी।

Must Read: आबू रोड आरपीएफ थाने के एसआई की मौत मामले में पिता ने कांग्रेस नेता, पत्रकार सहित 7 लोगों के खिलाफ करवाया हत्या का मामला दर्ज

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :