सड़कों पर दौड़ रही नावें: राजस्थान में भारी बारिश बनी मुसीबत, बाढ़ जैसे हालातों में सेना ने संभाला मोर्चा

जोधपुर भारी बारिश की मार से अभी तक उभर नहीं पाया है। यहां पिछले तीन दिनों से जारी बारिश का दौर आज कुछ कम हुआ है लेकिन भारी मात्रा में जल भराव के चलते कई निचली बस्तियां पानी में डूबी हुई है। जिसके चलते सेना की मदद ली जा रही है। 

राजस्थान में भारी बारिश बनी मुसीबत, बाढ़ जैसे हालातों में सेना ने संभाला मोर्चा

जोधपुर | राजस्थान में इस बार लगता है मानसून कुछ ज्यादा ही मेहरबान हो गया है। जिसके चलते राज्य के कई जिले बरसाती आफत में आ गए है। सीएम अशोक गहलोत का गृह जिला जोधपुर भी भारी बारिश की मार से अभी तक उभर नहीं पाया है। यहां पिछले तीन दिनों से जारी बारिश का दौर आज कुछ कम हुआ है लेकिन भारी मात्रा में जल भराव के चलते कई निचली बस्तियां पानी में डूबी हुई है। जिसके चलते सेना की मदद ली जा रही है। 

ये भी पढ़ें:- Hanumangarh Curfew: हनुमानगढ़ में बवाल, स्थानों पर कर्फ्यू, पत्थरबाजी में थानाधिकारी समेत 3 जख्मी, इंटरनेट सेवाएं बंद

बाढ़ के हालातों के बीच सेना ने संभाला मोर्चा
सूर्य नगरी में इस मानसूनी सीजन में मेघ जमकर बरसे हैं। जिसके चलते जोधपुर में बारिश ने 78 साल के रिकॉर्ड तोड़ दिया हैं। बारिश ने रिकॉर्ड तो तोड़ा ही है साथ में कई इलाकों की स्थिति भी बिगाड़ कर रख दी है। शहर के कई इलाके पानी से घिरे हुए है। ऐसे में न्यू रूप नगर कॉलोनी और डर्बी कॉलोनी भी पूरी तरह से जलमग्न हो गई है। ऐसे में हालात विकट होने पर एनडीआरएफ और सेना की नौकाओं को राहत कार्य के लिए मौके पर बुलाया गया है। इनके जरिए पानी में घिरे घरों में फंसे लोगों को रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। इसके अलावा सेना के जवान कई दिनों से घरों में फंसे लोगों को खाने का सामान भी पहुंचा रहे हैं।

ये भी पढ़ें:- राजस्थान में बॉर्डर पर : पाकिस्तान का दुस्साहस, अंधेरी रात में घुसपैठ की कोशिश, BSF ने की विफल

बारिश के चलते स्कूलों में छुट्टी
आपको बता दें कि, जोधपुर में कई दिनों से जारी भारी बारिश के दौर के चलते लगातार तीसरे दिन जोधपुर के ग्रामीण और शहरी इलाकों के सभी स्कूलों में अवकाश घोषित किया हुआ है। 

Must Read: जालोर के भीनमाल में 66 दिन से चल रहा नर्मदा आंदोलन सरकार के आवश्वासन के बाद स्थगित

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :