Rajasthan @ प्रशासन गांवों के संग अभियान: मुख्यमंत्री ने करीरी गांव में प्रशासन गांवों के संग अभियान के तहत जनसमूह को किया संबोधित कहा, जनता के सेवक के रूप में तत्पर हैं सरकार

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार आमजन की समस्याओं का तत्परता से निराकरण कर उन्हें राहत देने के लिए प्रतिबद्ध है। हम सब जनता के सेवक के रूप में जनता की सेवा में जुटे हुए हैं।

मुख्यमंत्री ने करीरी गांव में प्रशासन गांवों के संग अभियान के तहत जनसमूह को किया संबोधित कहा, जनता के सेवक के रूप में तत्पर हैं सरकार

जयपुर।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार आमजन की समस्याओं का तत्परता से निराकरण कर उन्हें राहत देने के लिए प्रतिबद्ध है। हम सब जनता के सेवक के रूप में जनता की सेवा में जुटे हुए हैं। ‘प्रशासन गांवों के संग’ अभियान इस दिशा में बड़ा कदम है। हमारा प्रयास है कि इस अभियान के माध्यम से लोगों के काम मौके पर ही किए जाएं। लम्बे समय से जिन समस्याओं का हल नहीं हो पाया है, उनका भी इस अभियान के माध्यम से त्वरित समाधान हो। गहलोत शुक्रवार शाम को जयपुर जिले के करीरी गांव में ‘प्रशासन गांवों के संग’ अभियान शिविर में उपस्थित जन समुदाय को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस अभियान के सफलतापूर्वक संचालन के लिए राज्य सरकार पूरी गंभीरता से जुटी हुई है। हम गांव-गांव जाकर शिविरों का जायजा ले रहे हैं। सभी जिलों में जाकर शिविरों का मूल्यांकन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरोना की विषम परिस्थितियों तथा राजस्व में भारी कमी के बावजूद राज्य सरकार ने विकास कार्यों में कोई कमी नहीं आने दी। सड़क, बिजली, पानी, शिक्षा सहित सभी क्षेत्रों में विकास के अभूतपूर्व कार्य हुए हैं। करीब 1 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है और करीब 70 हजार पदों पर भर्तियां प्रक्रियाधीन हैं।


किसान कल्याण की दिशा में हर कदम
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने किसान कल्याण की दिशा में हर संभव कदम उठाए हैं। अगले वित्तीय वर्ष में किसानों के लिए अलग से बजट पेश करने की महत्वपूर्ण घोषणा की गई है। साथ ही, किसानों को दिन में बिजली उपलब्ध कराने की दिशा में भी महत्वपूर्ण निर्णय हमारी सरकार ने किया है। सभी जिलों में किसानों को दिन में बिजली उपलब्ध कराने की दिशा में तेजी से प्रयास किए जा रहे हैं। गहलोत ने कहा कि पूर्वी राजस्थान के 13 जिलों के लिए महत्वपूर्ण ईस्टर्न राजस्थान कैनाल प्रोजेक्ट को धरातल पर लाना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा देने की घोषणा की थी। राज्य सरकार केन्द्र से लगातार परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा देने की मांग कर रही है। मांग पूरी होने पर इस प्रोजेक्ट के काम को गति मिल सकेगी।


राजस्थान रिफाइनरी का प्रोजेक्ट भी महत्वपूर्ण
 मुख्यमंत्री ने कहा कि ईआरसीपी की तरह ही राजस्थान रिफाइनरी का प्रोजेक्ट भी राजस्थान के विकास की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण है। हमारे पिछले कार्यकाल में इस महत्वाकांक्षी परियोजना का शिलान्यास किया गया था, लेकिन पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में इस योजना का काम आगे नहीं बढ़ सका। अब हमारी सरकार पूरी प्रतिबद्धता से इस काम को पूरा करने में जुटी है ताकि इससे प्रदेशवासियों को रोजगार के बड़े अवसर सुलभ हो सकें और रिफाइनरी के आस-पास के क्षेत्र में उद्योगों का विकास हो।गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार जनता के सुख-दुख की भागीदार है। हमने इसी सोच के साथ कोविड के दौरान जनता की तकलीफों को दूर करने का प्रयास किया। राजस्थान में कोरोना का बेहतरीन प्रबंधन देश-दुनिया के लिए मिसाल बना है। उन्होंने कहा कि कई देशों में कोरोना की तीसरी लहर के मामले तेजी से बढ़े हैं। ऎसे में, हमें सावधानी रखना जरूरी है। शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि राज्य सरकार जनता से किए गए वादों को पूरा करने के लिए संकल्पबद्ध है। जनघोषणा पत्र में किए गए वादों को तेजी से पूरा किया जा रहा है। साथ ही, राज्य सरकार किसान, युवा, महिला सहित सभी वर्गों के उत्थान के लिए एक से बढ़कर एक फैसले ले रही है। विधायक  आलोक बेनीवाल ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री राजेन्द्र यादव, तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग सहित अन्य जनप्रतिनिधि, प्रमुख शासन सचिव राजस्व आनंद कुमार, चेयरमैन डिस्कॉम  भास्कर ए सावंत, संभागीय आयुक्त  दिनेश यादव, जिला कलेक्टर  अंतर सिंह नेहरा सहित अन्य अधिकारी एवं ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Must Read: किया कांग्रेस अध्यक्ष पद चुनाव का ऐलान, जानें कब होगा, कैसा रहेगा चुनावी शेड्यूल

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :