फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट: ग्रीस के स्टेफानोस सितसिपास ने जर्मनी के एलेक्जेंडर को हराकर बनाई फाइनल में जगह

पेरिस में चल रहे फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट में फाइनल में एंट्री के लिए जोरदार मैच देखने को मिला। पांच मैच के सेट में दो-दो की बराबरी के बाद अंतिम सेट में ग्रीस के स्टेफानोस सितसिपास ने  जीत अपने नाम दर्ज कराई। वल्र्ड नंबर-5 ग्रीस के स्टेफानोस सितसिपास ने वल्र्ड नंबर-6 जर्मनी एलेक्जेंडर ज्वेरेव को हराकर फाइनल में....

ग्रीस के स्टेफानोस सितसिपास ने जर्मनी के एलेक्जेंडर को हराकर बनाई फाइनल में जगह

नई दिल्ली, एजेंसी। 
पेरिस में चल रहे फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट (French Open Tennis Tournament) में फाइनल में एंट्री के लिए जोरदार मैच देखने को मिला। पांच मैच के सेट में दो-दो की बराबरी के बाद अंतिम सेट में ग्रीस के स्टेफानोस सितसिपास (Stefanos Tsitsipas) ने  जीत अपने नाम दर्ज कराई। वर्ल्ड नंबर-5 ग्रीस के स्टेफानोस सितसिपास ने वर्ल्ड नंबर-6 जर्मनी एलेक्जेंडर ज्वेरेव (Alexander Zverev) को हराकर फाइनल में जगह बना ली है। 5 सेट तक चले इस कड़े मुकाबले में सितसिपास ने 6-3, 6-3, 4-6, 4-6, 6-3 से जीत हासिल की। फाइनल में सितसिपास का सामना नोवाक जोकोविच से होगा। सितसिपास ने इस जीत के साथ ही दो रिकॉर्ड भी बना लिए। एक तो वे इस जीत के साथ ही कसी भी ग्रैंड स्लैम के फाइनल में पहुंचने वाले ग्रीस के पहले खिलाड़ी बन गए हैं। वहीं दूसरा वे ग्रैंड स्लैम फाइनल में पहुंचने वाले दूसरे सबसे युवा खिलाड़ी (22 साल 9 महीने) भी हैं। एंडी मरे 22 साल (8 महीने) की उम्र में 2010 ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में पहुंचे थे। हालांकि, तब उन्हें फाइनल में रोजर फेडरर के हाथों हार का सामना करना पड़ा था।
इससे पहले 24 साल के ज्वेरेव और 22 साल के सितसिपास पहली बार फ्रेंच ओपन में भिड़े। दोनों के बीच अब तक कुल 8 मुकाबले हुए हैं। इसमें से सितसिपास ने 6 और ज्वेरेव ने 2 मैच जीते हैं। दोनों हाल ही में मैक्सिको में हुए अकापुल्को के फाइनल में भिड़े थे। ज्वेरेव ने यह मैच 6-4 7-6 से अपने नाम किया था। सितसिपास ने इसका बदला भी ले लिया। बताया जा रहा है कि सितसिपास 2019 और 2021 ऑस्ट्रेलियन ओपन और 2020 फ्रेंच ओपन के सेमीफाइनल में पहुंच सके थे। 
जीत से भावुक हो गए सितसिपास 
मैच के बाद सितसिपास भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि मैं बस अपने बारे में सोच रहा था। मैं एथेंस के बाहर एक छोटे से इलाके से हूं। मेरा सपना इस टूर्नामेंट में खेलना था। मेरा सपना फ्रेंच ओपन के टॉप राउंड में खेलने का था। मुझे उम्मीद नहीं थी कि मैं ऐसा कर पाऊंगा। आज कोर्ट में कई लोग ऐसे थे, जो मुझे चीयर कर रहे थे। ग्रीस का झंडा लहरा रहे थे। इनका होना मेरे लिए प्लस पॉइंट था। यह बेहद जरूरी है कि मैं अपना रोल अच्छी तरीके से निभाऊं, ताकि मेरे देश में लोग मुझे सम्मान दें। उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि ग्रीस अब टेनिस कम्यूनिटी का हिस्सा है। मुझे खुशी है कि मैं और मारिया सक्कारी अपना काम अच्छे से कर रहे हैं और ग्रीक टेनिस की उम्मीदों को जगाए हुए हैं। सक्कारी को महिला सिंगल्स के सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा था।

Must Read: इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाली एशेज सीरीज का आगाज 8 दिसंबर से 

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :