दुष्कर्मी टेनिस कोच पर कार्रवाई: 17साल की टेनिस खिलाड़ी से दुष्कर्म करने के आरोपी कोच गौरांग को राजस्थान खेल काउंसिल किया सस्पेंड

राजधानी के Sawai Mansingh Stadium   में 17 साल की टेनिस खिलाड़ी Tennis player से दुष्कर्म के मामले में आरोपी कोच Gaurang Nalwaya को Rajasthan Sports Council ने सस्पेंड कर दिया है।

17साल की टेनिस खिलाड़ी से दुष्कर्म करने के आरोपी कोच गौरांग को राजस्थान खेल काउंसिल किया सस्पेंड

जयपुर।
राजधानी के सवाई मानसिंह स्टेडियम(Sawai Mansingh Stadium)  में 17 साल की टेनिस खिलाड़ी ( Tennis player) से दुष्कर्म के मामले में आरोपी कोच गौरांग नलवाया (Gaurang Nalwaya) को राजस्थान खेल काउंसिल (Rajasthan Sports Council) ने सस्पेंड कर दिया है। पुलिस थान में एफआईआर दर्ज होने के 24 घंटे के भीतर पुलिस ने फरार गौरांग को मंगलवार रात को ही गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद उसे बुधवार को कोर्ट से दो दिन के पुलिस रिमांड पर लिया है। दुष्कर्म केस में गौरांग का नाम सामने आने पर राजस्थान खेल काउंसिल ने बुधवार को गौरांग को को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए। रिमांड के दौरान पुलिस अब वारदात में प्रयुक्त कार को बरामद करने के अलावा उदयपुर में उस होटल का मौका मुआयना करेगी। इसमें गौरांग ने 17 साल की अपनी स्टूडेंट से टूर्नामेंट खिलवाने के बहाने ले जाकर दो दिन तक दुष्कर्म किया था।
गौरतलब है कि राजधानी के SMS स्टेडियम में 2012 से टेनिस की कोचिंग दे रहा आरोपी गौरांग नलवाया मूल रूप से उदयपुर का रहने वाला है। वह पिछले काफी अरसे से परिवार के साथ जयपुर में मुहाना स्थित धौलाई में रहता है। वह खुद विवाहित है और उसके दो बच्चे भी हैं। उसके खिलाफ 31 मई को 17 साल की बच्ची के पिता ने ज्योति नगर थाने में केस दर्ज करवाया था। आरोप था कि उनकी बेटी नवंबर 2019 से SMS स्टेडियम में टेनिस खेलने के लिए कोचिंग लेने जा रही थी। इसी दौरान कोच गौरांग ने उसे टूर्नामेंट में आगे बढ़ाने, उसका सलेक्शन करवाने और परफार्मेंस बेहतर करवाने के बहाने नजदीकियां बढ़ाना शुरू किया। वह उसे घर से स्टेडियम तक लेकर भी आने-जाने लगा। इस बीच गौरांग ने झांसे में लेकर बच्ची से जयपुर में दुष्कर्म किया। इस साल मार्च में टूनामेंट के बहाने उदयपुर ले जाकर भी दुष्कर्म किया। पिता का आरोप है कि कोच ने उनकी बेटी को किसी को भी दुष्कर्म की बात बताने पर करियर बिगाड़ने की धमकी भी दी। बताया जा रहा है कि पिछले कुछ दिनों से पीड़ित गुमसुम चल रही थी। तब उसके मोबाइल पर मैसेज और कॉल्स से कोच गौरांग की करतूत का पता चला। तब 17 वर्षीया पीड़िता के पिता ने ज्योति नगर थाने पहुंचकर 31 मई की रात को गौरांग के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करवाया। इसकी भनक लगने पर गौरांग फरार हो गया। तब ज्योति नगर थाना प्रभारी सरोज धायल के नेतृत्व में गठित टीम ने गौरांग को 1 जून की रात को गिरफ्तार कर लिया।

Must Read: भरतपुर में आत्मदाह का प्रयास करने वाले संत का दिल्ली में इलाज के दौरान निधन 

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :