आनलाइन ठगी: पाली के एसपी की बना दी फर्जी आईडी, कोतवाली पुलिस ने चार दिन में दबोच लिया

आनलाइन ठगी करने वालों ने आईपीएस तक को नहीं छोड़ा है। पाली के पुलिस अधीक्षक राहुल कोटकी की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर लोगों से रकम ऐंठ रहे एक शातिर को कोतवाली पाली की पुलिस ने गिरफ्तार किया है। चार दिनों तक मशक्कत के बाद वह हत्थे चढ़ा है। 

पाली के एसपी की बना दी फर्जी आईडी, कोतवाली पुलिस ने चार दिन में दबोच लिया
पुलिस की गिरफ्त में आरोपित

पाली |आनलाइन ठगी करने वालों ने आईपीएस अधिकारियों तक को नहीं छोड़ा है। पाली के पुलिस अधीक्षक राहुल कोटकी की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर लोगों से रकम ऐंठ रहे एक शातिर को कोतवाली पाली की पुलिस ने गिरफ्तार किया है। चार दिनों तक मशक्कत के बाद वह हत्थे चढ़ा है। 
आरोपित खेतों में बैठकर प्रतिष्ठित व्यक्तियो के नाम से फर्जी फेसबुक आईडी बनाता है। फिर उनके फेसबुक मित्रों को मैसेंजर के माध्यम से अपने आपको अस्पताल में भर्ती होना बताकर या अन्य आकस्मिक कार्य के बारे में जानकारी देकर रुपए मांगता है। हालांकि ऐसा करने वाला एक गिरोह है जो आसाम, उड़ीसा, बिहार से फर्जी आईडी के माध्यम से सिम खरीदकर राशि धोखाधड़ीपूर्वक बैंक अथवा अन्य यूपीआई अकाउंट में ट्रांसफर करवाता है और फिर तत्काल निकाल लेता है। मुल्जिम द्वारा एंड्रॉइड मोबाईल में फेसबुक लाॅगिन की जाकर धोखाधड़ी की जाती हैं। मुल्जिम के एन्ड्रॉईड मोबाईल में लाॅगिन विभिन्न फेक फेसबुक आईडी, फेक सिम व बैंक खाते व स्टेटमैन्ट मिले है। एसपी के नाम से यह वसूली शुरू हुई तो पुलिस चेती। कोतवाली पुलिस ने शातिर अभियुक्त की तलाश में यूपी और राजस्थान में दबिश दी। कांस्टेबल महेश की प्रभावी मेहनत ने इस मामले में राजफाश करने में मदद की। 

पाली पुलिस का कहना है कि एसपी के निर्देश में एक अभियान चलाकर फर्जी फेसबुक आईडी से पैसे ऐंठने वालों के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। इसी बीच किसी ने पुलिस अधीक्षक आईपीएस राहुल कोटकी के नाम से फर्जी फेसबुक आईडी बनाई और लोगों से पैसे ऐंठने चालू कर दिए। इसकी जानकारी एसपी को हुई तो उन्होंने अपर पुलिस अधीक्षक तेजपालसिंह, पाली वृत्ताधिकारी निशांत भारद्वाज के निर्देशन में एक टीम गठित की। कोतवाली प्रभारी गौतम जैन ने चार दिन की मशक्कत के बाद आरोपित को दस्तयाब किया है। पुलिस ने गांव-नानंदेरा, तहसील कांमा जिला भरतपुर निवासी सद्दाम पुत्र आस मोहम्मद को गिरफ्तार किया है। 

सावधान रहें
इस तरह की वारदात लगातार सामने आ रही है। आपसे अनुरोध है कि आपके पास भी किसी का इस तरह मैसेज आए तो उसे इग्नोर करें अथवा संबंधित को काल करके उसकी तस्दीक जरूर करें ताकि ठगी का शिकार होने से बच सकें।

Must Read: क्या सिरोही पुलिस आनंदपाल और आईपीएस हिम्मत अभिलाष टांक की मिलीभगत के राज खोल पाएगी?

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :