जवाई बांध : : मारवाड़ जंक्शन विधायक जोजावर ने बेडा में पर्यटन व्यवसाइयों के साथ रखी बैठक, कहा स्थानीय लोगों के लिए पर्यटन से आय बढ़ाने की अपार संभावनाएं

विश्व में तेंदुए जैसे दुर्लभ वन्यजीव के लिए एक सुरक्षित आवास बनकर उभर रहे जवाई लेपर्ड कंज़र्वेशन रिज़र्व में वन एवं वन्यजीव संरक्षण के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने एवं अपने सुझाव रखने के लिए मारवाड़ जंक्शन विधायक खुशवीर सिंह जोजावर ने शनिवार को जवाई लेपर्ड कंज़र्वेशन क्षेत्र का भ्रमण किया।

मारवाड़ जंक्शन विधायक जोजावर ने बेडा में पर्यटन व्यवसाइयों के साथ रखी बैठक, कहा स्थानीय लोगों के लिए पर्यटन से आय बढ़ाने की अपार संभावनाएं

पाली/जवाई बांध। 

विश्व में तेंदुए जैसे दुर्लभ वन्यजीव के लिए एक सुरक्षित आवास बनकर उभर रहे जवाई लेपर्ड कंज़र्वेशन रिज़र्व में वन एवं वन्यजीव संरक्षण के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने एवं अपने सुझाव रखने के लिए मारवाड़ जंक्शन विधायक खुशवीर सिंह जोजावर ने शनिवार को जवाई लेपर्ड कंज़र्वेशन क्षेत्र का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने बेड़ा क्षेत्र के वाइल्डलाइफ टूरिज्म से जुड़े होटल व्यवसाइयों से क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने एवं स्थानीय लोगों को ज्यादा से ज्यादा इससे रोजगार मिलने के मुद्दे पर चर्चा की। जोजावर स्वयं एक वन्यजीव प्रेमी है एवं अपने विधानसभा क्षेत्र में वन्यजीव एवं वन संरक्षण के लिए कई सराहनीय कार्य किये है। इनकी अब तक की कार्यशैली एवं वन्यजीव संरक्षण के जज्बे ने कई लोगों को प्रेरणा दी है एवं स्थानीय लोग अब आगे आकर बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे है।  

घास बीड विकसित करने की आवश्यकता 
विधायक जोजावर ने मुख्य रूप से क्षेत्र में गोचर भूमि, सिवायचक व अन्य सरकारी भूमि पर सम्बंधित ग्राम पंचायत की मदद से जूली फ़्लोरा हटाने एवं घास बीड विकसित करने का सुझाव दिया ताकि यहाँ पर शाकाहारी वन्यजीवन अच्छी तरह  से पनपे एवं उन्हें एक सुरक्षित आवास उपलब्ध हो सकें। उन्होंने कहा कि जब यहाँ पर शाकाहारी वन्यजीवन अच्छी तरह से पनपने लगेगा तो तेंदुओं को नेचुरल प्रे बेस की उपलब्धता में बढ़ावा होगा साथ ही तेंदुओं द्वारा गांव के मवेशियों का शिकार करने की घटनाएं स्वतः कम हो सकेगी। 

स्थानीय लोगों को मिले ज्यादा से ज्यादा रोजगार 
विधायक जोजावर ने कहा कि इस क्षेत्र में वाइल्डलाइफ टूरिज्म बढ़ने की अभी भी अपार संभावनाएं है। स्थानीय लोगों को वन्यजीव संरक्षण के लिए बढ़ चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए ताकि आगे चलकर यहाँ आने वाली होटल इंडस्ट्री एवं पर्यटकों से प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष आय बढे। इससे क्षेत्र का विकास होगा, आर्थिक दृढ़ता आएगी एवं स्थानीय लोगों को रोजगार की तलाश में बाहर जाने की आवश्यकता नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि यहाँ पर बघेरे देखने दुनियाभर से पर्यटक आ रहे है जिसके चलते आज इस क्षेत्र ने अपनी अलग पहचान स्थापित की है। अब स्थानीय लोगों का ही दायित्व है इस पहचान को बरक़रार रखने का। स्थानीय लोगो को वन्यजीव संरक्षण पर विशेष जोर देना होगा ताकि  भविष्य में किसी प्रकार की दिक्कत न हो।  

सफारी संचालकों के कार्य की सराहना की  
स्थानीय सफारी संचालकों द्वारा क्षेत्र में पिछले कुछ समय से वन्यजीव संरक्षण के लिए स्वयं से फण्ड इकठ्ठा किया जा रहा है। यहाँ पर अक्सर वन्यजीव मवेशियों का शिकार करते है जिससे मवेशी पालक को नुकसान  होता था एवं उनमें वन्यजीवों के प्रति हीन भावना पनप रही थी। ऐसे में यहाँ पर फ़ूड पोइज़निंग जैसी घटना न हो इसके लिए यहाँ सफारी का कार्य कर रहे युवाओं ने एक ग्रुप बनाकर स्वयं के स्तर पर फण्ड इकठ्ठा करना शुरू किया एवं सम्बंधित गांव में एक प्रतिनिधि नियुक्त किया। इसके बाद जब भी वन्यजीव मवेशी का शिकार करता है तो ग्रुप के सदस्य स्वयं मौके पर पहुंचकर उसकी प्रमाणिकता जांच करते है इसके बाद मवेशी मालिक को मुआवजा राशि भी दे रहे है। इससे मवेशी पालकों में भी वन्यजीव के प्रति हीन भावना नहीं पनप रही और सभी इस कार्य से खुश है। विधायक खुशवीर सिंह जोजावर ने सफारी संचालकों के इस कार्य की सराहना भी की एवं इसके साथ ही भविष्य में वन विभाग से मिलने वाले मुआवजे के लिए विभाग के उच्चाधिकारी से बात की एवं इसके लिए राज्य सरकार से विशेष फंड स्वीकृत करवाने का कहा। 

तेंदुए का दीदार करने विश्वभर से यहाँ आते है पर्यटक 
जवाई लेपर्ड कंज़र्वेशन रिज़र्व में दुर्लभ वन्यजीव तेंदुए का दीदार करने विश्वभर से पर्यटक आते है। पिछले कुछ समय में इस क्षेत्र की लोकप्रियता इतनी बढ़ी है कि यहाँ पर कई बड़े होटेलियर्स आ रहे है, यह क्षेत्र अब नए टूरिस्ट डेस्टिनेशन के रूप में अपनी अलग पहचान बना रहा है। 

यह रहे मौजूद

इस दौरान देवी सिंह राणावत बेड़ा, बलजीत सिंह राणावत बेड़ा, शैलेश्वर सिंह राणावत बेड़ा, यदुवीर सिंह राणावत बेड़ा, नारायण सिंह राणावत बेड़ा, पुष्पेंद्र सिंह राणावत वरावल, भानुप्रताप सिंह राणावत वरावल, नरेश गहलोत, थानाराम कोठार आदि उपस्थित रहे।

Must Read: Rajasthan में 17 जनवरी से 5 फरवरी तक स्कूल स्तर पर ही होगी बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षाएं

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :