खाटूश्यामजी हादसा: एकजुट हुए पीठाधीश व पुजारी, कहा- मंदिर कमेटी दोषी नहीं, हादसे का दोषी है प्रशासन

प्रदेश के सीकर जिले में विश्वविख्यात खाटूश्यामजी मंदिर में भगदड़ मचने से हुई 3 मौत के मामले में नया मोड आ गया है। कई सामाजिक संगठनों और नेताओं ने इस घटना को लेकर श्रीश्याम मंदिर कमेटी पर सवाल उठाए थे।

एकजुट हुए पीठाधीश व पुजारी, कहा- मंदिर कमेटी दोषी नहीं, हादसे का दोषी है प्रशासन

सीकर |  प्रदेश के सीकर जिले में विश्वविख्यात खाटूश्यामजी मंदिर में भगदड़ मचने से हुई 3 मौत के मामले में नया मोड आ गया है। कई सामाजिक संगठनों और नेताओं ने इस घटना को लेकर श्रीश्याम मंदिर कमेटी पर सवाल उठाए थे। ऐसे में अब श्रीश्याम मंदिर कमेटी के पक्ष में कई धार्मिक पीठों के पीठाधीश, महंत और पुजारी आ गए हैं। 

मंदिर कमेटी दोषी नहीं, दोषी प्रशासन
श्रीश्याम मंदिर कमेटी के पक्ष में उतरे पीठाधीश व पुजारियों ने अब प्रशासन पर ही सवाल उठा दिए हैं। उनका कहना है कि, मेले में व्यवस्थाओं को संभालना प्रशासन की जिम्मेदारी है, न कि पुजारियों और मंदिर कमेटी की। ऐसे में मंदिर कमेटी को दोषी नहीं ठहराया जा सकता। सोमवार को मारू पार्क में बोलता बालाजी मंदिर के पास पीठाधीशों, महंतों और पुजारियों की बैठक का आयोजन हुआ। जिसमें खाटूश्यामजी हादसे का दोष मंदिर कमेटी पर लगाए जाने का विरोध किया गया। 

ये भी पढ़ें:- जांच के नाम पर घुमती रहती हैं फाइलें: ‘मेरा मन काफी आहत, दर्द शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता’ कहते हुए कांग्रेस विधायक ने दिया इस्तीफा

बनाई जाएगी कमेटी, सरकार को पेश करेगी रिपोर्ट
सीकर के लोहार्गल में स्थित सूर्य मंदिर के पीठाधीश अवधेशाचार्य महाराज कहा कि खाटूश्यामजी हादसे के दोषी मंदिर पुजारी या कमेटी नहीं थे। इस संबंध में एक कमेटी बनाने का फैसला हुआ। जो राज्य सरकार को एक रिपोर्ट पेश करेगी। प्रदेश में मूर्तियों को खंडित, सोशल मीडिया पर अपमानित और मंदिर की जमीनों पर कब्जा करने समेत विभिन्न मुद्दों पर चर्चा कर एक कमेटी बनाई जाएगी, जो मंदिर-मठों से संबंधित विभिन्न समस्याओं को सरकार और प्रशासन के सामने पेश करेगी और इसके बाद भी जरुरत पड़ी तो आंदोलन करेगी। 

ये भी पढ़ें:- देखें तस्वीरें: राजस्थान सीएम अशोक गहलोत ने फहराया राष्ट्रीय ध्वज

Must Read: सिरोही भाजपा में सब ठीक नहीं: पार्टी में असंतोष चरम पर, टुकड़ों में बंटी है भाजपा

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :