पंचायत समिति सदस्य एवं जिला परिषद चुनाव : जालोर सांसद देवजी पटेल के गोद लिए होतीगांव में मतदान का बहिष्कार

नहर में सिंचाई के लिए पानी देने की मांग को लेकर किया मतदान का बहिष्कार, चितलवाना क्षेत्र के होतीगांव में सुबह से ही ग्रामीणों ने अपनी मांगों को लेकर मतदान का बहिष्कार करते हुए एक भी मतदाता मतदान केंद्र पर नहीं पहुंचा

जालोर सांसद देवजी पटेल के गोद लिए होतीगांव में मतदान का बहिष्कार
जालोर जिले के होतीगांव में सूना पड़ा मतदान केन्द्र

जालोर | चितलवाना क्षेत्र के होतीगांव में सुबह से ही ग्रामीणों ने अपनी मांगों को लेकर मतदान का बहिष्कार करते हुए एक भी मतदाता मतदान केंद्र पर नहीं पहुंचा साथ ही साथ ग्राम पंचायत के 4 बूथों पर मतदान केंद्र पर एक भी मतदान केंद्र में कोई एजेंट भी नहीं बैठा। मतदाताओं ने नर्मदा नहर में सिंचाई के लिए पानी देने की मांग को लेकर मतदान का पूर्ण का बहिष्कार किया। करीब 03:00 बजे तक एक भी मतदाता मतदान केंद्र पर नहीं पहुंचा


यह वही होतीगांव है, जिसे जालोर सिरोही के सांसद देवजी पटेल ने गोद ले रखा है। इन दिनों नहर में सिंचाई के लिए पानी देने की मांग को लेकर लगातार किसानों का प्रदर्शन व धरना चल रहा था लेकिन समझाइश के बाद किसानों धरना उठा लिया था लेकिन अब पंचायत समिति एवं जिला परिषद सदस्य चुनाव के तहत मतदाताओं ने मतदान का पूर्णता विरोध करते हुए नर्मदा नहर में सिंचाई के लिए पानी देने की मांग को लेकर अड़े रहे। मतदान केंद्र पर एक भी मतदाता मतदान के लिए नहीं पहुंचा। वही इस मामले को लेकर जिला कलेक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया नहर में टेल तक पानी पहुंचाया गया है। ग्रामीणों से वार्ता के लिए अधिकारियों को मौके पर भेजा हुआ है। जल्दी अधिकारी ग्रामीणों से समझाइश कर मामले को शांत करेंगे। उन्होंने बताया कि जिला कलेक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि नर्मदा के अधिकारियों व प्रशासनिक अधिकारियों को मौके पर भेज दिया गया है जल्द ही किसानों की समस्या के समाधान का आश्वासन दिया है उन्होंने किसानों व ग्रामीणों को अपील करते हुए कहा कि मतदान उनका अधिकार है अपने मतदान का प्रयोग करें। उन्होंने कहा कि अधिकारियों व ग्रामीणों के बीच समझाइश बाद समस्या का हल निकाला और जल्दी किसानों को पानी उपलब्ध करवा दिया जाकर समस्या के समाधान के लिए प्रयास किए जाएंगे। 

यह है मामला
दरअसल नर्मदा नहर में पानी छोड़ने व किसानों को सिंचाई के लिए पानी देने की मांग को लेकर पिछले कई दिनों से किसान धरने पर बैठे हुए थे इसके अलावा लगातार गुजरात सरकार के नर्मदा प्रोजेक्ट के अधिकारियों से वार्ता भी हुई थी। उसके बाद किसानों ने धरना प्रदर्शन को समाप्त कर दिया था इसके पश्चात अब पंचायती राज में जिला परिषद सदस्य चुनाव को लेकर ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा और ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार शुरू किया ऐसे में गांव के 4 बूथों पर एक भी ग्रामीण चुनाव के लिए मतदान के लिए नहीं पहुंचा तब जाकर विभागीय अधिकारियों व जिला प्रशासन चौक गया करीब 3:00 बजे तक एक भी मतदाता मतदान केंद्र पर नहीं पहुंचा इसके बाद ग्रामीणों से अधिकारियों ने पूछताछ कर समझाइश करने की कोशिश की गई वह लगातार जिला प्रशासन की ओर से मतदाताओं से समझाइश कर मतदान करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

Must Read: चोरी की दारू से रंग जमाया शादी की दावत में, सुहागरात के अगले दिन बींदराजा पहुंचे हवालात

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :