महाराष्ट्र में 31 मार्च तक लॉकडाउन: कोरोना के बढते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने 31 मार्च तक लॉकडाउन लगाने का किया ऐलान

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच नागपुर में 31 मार्च तक हार्ड लॉकडाउन लगा दिया गया है। पहले यह लॉकडाउन 21 मार्च तक लगाया गया था। राज्य के ऊर्जा मंत्री और शहर के अभिभावक मंत्री नितिन राउत ने लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए शनिवार को लॉकडाउन 31 मार्च तक जारी रखने का ऐलान किया।

कोरोना के बढते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने 31 मार्च तक लॉकडाउन लगाने का किया ऐलान

जयपुर।
महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच नागपुर में 31 मार्च तक हार्ड लॉकडाउन लगा दिया गया है। पहले यह लॉकडाउन 21 मार्च तक लगाया गया था। राज्य के ऊर्जा मंत्री और शहर के अभिभावक मंत्री नितिन राउत ने लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए शनिवार को लॉकडाउन 31 मार्च तक जारी रखने का ऐलान किया। शहर में शुक्रवार को 25,681 नए मामले दर्ज किए गए। इसके साथ ही कुल पॉजिटिव केस बढ़कर 24,22,021 हो गए हैं। वहीं दूसरी ओर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने नंदुरबार में पत्रकारों से बात करते हुए वायरस से बचाव के लिए बिना किसी डर के टीका लगवाने की अपील की है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि लॉकडाउन एक विकल्प है, लेकिन उन्हें विश्वास है कि लोग खुद नियमों का पालन करेंगे। राज्य में कोरोना गाइडलाइन्स को भी सख्त कर दिया गया है।

अकेले धारावी में बढ़े 62% कोरोना मरीज
एशिया की सबसे बड़ी झुग्गी बस्ती यानी धारावी में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। मार्च में अब तक कोरोना वायरस के 272 मामले आए हैं, जबकि फरवरी में कुल 168 मामले आए थे। इस हिसाब से संक्रमण के मामले 62% बढ़े हैं। BMC के जी-नॉर्थ के सहायक निगम आयुक्त किरण दिघवकर ने कहा कि धारावी में संक्रमण के बढ़ते मामले प्रशासन के लिए खतरे की घंटी है। हालांकि, उनका कहना है कि वे पिछले साल के मुकाबले इस बार स्थिति से निपटने के लिए बेहतर तरीके से तैयार हैं। अधिकारियों ने बताया कि अब जो मामले आ रहे हैं वे झुग्गी बस्ती के अलग-अलग इलाकों से हैं, न कि किसी एक जगह से। धारावी में अब भी 72 मरीज कोविड-19 का इलाज करा रहे हैं। अभी तक इस महामारी की चपेट में आए 4,133 लोगों में से 3,745 संक्रमण मुक्त हो चुके हैं, जबकि 316 लोगों की मौत हो चुकी है। यह झुग्गी बस्ती 2.5 वर्ग किलोमीटर से भी ज्यादा क्षेत्र तक फैली है।

28 नवंबर के बाद इतनी संख्या में आए पॉजिटिव 
महाराष्ट्र में शुक्रवार को 25,681 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। नए संक्रमितों का यह आंकड़ा बीते 28 नवंबर 2020 के बाद सबसे अधिक है। उस दिन 41,815 मरीज मिले थे। यह संख्या देश में कुल मिले मरीजों का करीब 63% है। महाराष्ट्र में 2.85 लाख कोरोना मरीजों का इलाज हो रहा है। राज्य में मामलों की कुल संख्या बढ़कर 24 लाख 22 हजार 21 पर पहुंच गई है।

सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन


महाराष्ट्र सरकार ने अधिसूचना जारी कर सभागारों को 31 मार्च तक 50 % क्षमता के साथ ही चलाने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही चेतावनी दी है कि अगर नियमों का उल्लंघन किया गया तो महामारी खत्म होने तक उन्हें बंद किया जा सकता है। स्वास्थ्य एवं आवश्यक सेवा को छोड़ बाकी निजी कार्यालयों को 50 % क्षमता के साथ खोलने का निर्देश दिया गया है। मॉल या शॉपिंग सेंटर्स में जाने वालों के लिए बीएमसी ने एंटीजन टेस्ट या नेगेेटिव रिपोर्ट को अनिवार्य कर दिया है।
सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक समारोह की अनुमति नहीं है। शादी और संबंधित कार्यक्रम में मेहमानों की संख्या 50 से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। अगर इन नियमों का उल्लंघन किया जाता है, तो आयोजन स्थल के मालिकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। किसी व्यक्ति के अंतिम संस्कार में 20 लोगों से ज्यादा की अनुमति नहीं है।

Must Read: बेंगलुरु ईदगाह मैदान विवाद: गणेश उत्सव मनाने को लेकर सतर्कता से चल रही भाजपा

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :