Bandi River हो रही है छलनी: जालोर के भीनमाल थाना इलाके में बांडी नदी में हो रहा है अवैध बजरी खनन, भीनमाल थानाधिकारी बन रहे है अनजान

जालोर के भीनमाल थाना इलाके में बांडी नदी में हो रहा है अवैध बजरी खनन, भीनमाल थानाधिकारी बन रहे है अनजान

गणपतसिंह माण्डोली, राजेन्द्रसिंह दूदौड़
भीनमाल।
जालोर के भीनमाल इलाके में बांडी नदी इलाके में बजरी माफिया सक्रिय हैं। हालात यह है कि बांडी नदी में 20 से 25 फीट तक गड्ढे हो गए, इतना ही नहीं , बजरी माफियाओं के हौंसले इतने बुलंद हो गए कि दिन दहाड़े बेधड़ ट्रैक्टरों से बजरी का अवैध खनन किया जा रहा है। इससे भी बड़ी चौंकाने वाली बात यह है कि भीनमाल पुलिस इन सबसे अनजान है। भीनमाल पुलिस से बजरी खनन के सवाल किए गए तो जवाब मिला बजरी खनन हो रहा है तो कार्रवाई करेंगे! ऐसे में बजरी माफियाओं के द्वारा किए जा है अवैध खनन में पुलिस की मिलीभगत साफ नजर आ रही हैं।


भीनमाल क्षेत्र से निकल रही बांडी नदी जगह-जगह से छलनी हो रही है। पिछले चार माह से बजरी माफियां दिनरात नदी से बजरी का अवैध खनन कर रहे हैं। बजरी माफियाओं ने नदी को 20-25 फीट तक खोद डाला। इन बजरी माफियाओं को कोई रोकने-टोकने वाला नहीं है। यही वजह है कि बजरी माफियाओं के हौंसले बढ़े हुए है। बजरी माफिया अवैध बजरी में हर माह करोड़ों रुपए कमा रहे है। पुलिस विभाग कुंभकरणी नींद सो रहा है।


यहां हो रहा है खनन
क्षेत्र के कोरा, कुशलापुरा, कोटकास्तान, भादरड़ा गांव से निकल रही बांडी नदी में बजरी का अवैध खनन हो रहा है। इन गांवों में प्रतिदिन बजरी के 200-300 ट्रेक्टर अवैध बजरी भरकर बाजार में बिकने के लिए आ रही है। भीनमाल व आस-पास के गांवों में अवैध बजरी धड़ल्ले से बेच रहे है।एक बजरी का ट्रेक्टर बजरी माफिया 2 हजार रुपए में बेच रहे है। इस हिसाब से प्रतिदिन 300 ट्रेक्टर के हिसाब से 6 लाख रुपए की बजरी अवैध रुपए से बेच कर चांदी कांट रहे है।

सूचना मिलते ही करते है कार्यवाही
जहां भी बजरी के अवैध खनन की जानकारी मिलती है, तुरंत कार्रवाई करते है। बांडी नदी में बजरी का अवैध खनन हो रहा है, तो कार्रवाई करेंगे।
दुलीचंद, पुलिस निरीक्षक-भीनमाल

पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे
पुलिस विभाग के अधिकारी अगर अवैध बजरी खनन में लिप्त पाये गये, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। अवैध बजरी खनन किसी कीमत पर होने नहीं देंगे। कितना भी बड़ा आदमी हो, उसके खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
श्यामसिंह, पुलिस अधीक्षक-जालोर

Must Read: रालसा ने जेल, विमंदित बाल गृहों, बाल गृहों, नारी निकेतन, वन स्टॉप सेन्टर, रैन बसेरों के नियमित निरीक्षण के दिए निर्देश

पढें लाइफ स्टाइल खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :