Students up to class 7 will be promoted : कोरोना के चलते शिक्षा विभाग कक्षा 1 से 7वीं तक के विद्यार्थियों को अगली कक्षा में करेगा प्रमोट, बिना परीक्षा नई कक्षा में बैठेंगे छात्र

काेरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए कक्षा छह और सात के बच्चों को बिना परीक्षा के ही उत्तीर्ण करने का निर्णय किया गया है। इससे पहले कक्षा एक से पांच तक के सभी विद्यार्थियों को भी बिना परीक्षा ही उत्तीर्ण करने का आदेश दिया गया था। ऐसे में लगातार दूसरी बार कक्षा एक से सात तक के सभी विद्यार्थियों को बिना परीक्षा पास जा रहा

कोरोना के चलते शिक्षा विभाग कक्षा 1 से 7वीं तक के विद्यार्थियों को अगली कक्षा में करेगा प्रमोट, बिना परीक्षा नई कक्षा में बैठेंगे छात्र

जयपुर(Jaipur)। 
राजस्थान में काेरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए कक्षा छह और सात के बच्चों को बिना परीक्षा के ही उत्तीर्ण करने का निर्णय किया गया है। इससे पहले कक्षा एक से पांच तक के सभी विद्यार्थियों को भी बिना परीक्षा ही उत्तीर्ण करने का आदेश दिया गया था। ऐसे में लगातार दूसरी बार कक्षा एक से सात तक के सभी विद्यार्थियों को बिना परीक्षा पास जा रहा है।

उच्च माध्यमिक कक्षा के विद्यार्थियों के प्रैक्टिकल एग्जाम भी उन जिलों में स्थगित कर दिए गए हैं, जहां जिला प्रशासन ने सभी स्कूलों को बंद कर दिया है।
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के अनुसार राज्य सरकार की स्वीकृति मिलने पर कक्षा छह व सात की परीक्षा नहीं करवाने का निर्णय किया गया है। अब इन दोनों कक्षाओं की परीक्षाएं नहीं होंगी। सभी बच्चों को 15 अप्रेल से अगली कक्षा में प्रमोट माना जाएगा। इस प्रमोशन के लिए किसी तरह की परीक्षा नहीं कराने के सख्त निर्देश दिए गए हैं। प्रदेशभर में सरकारी प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर की स्कूलों में 34 लाख 41 हजार 843 विद्यार्थी पंजीकृत हैं। राज्य में 18 हजार 45 स्कूल पंजीकृत हैं। जबकि 31 हजार 180 प्राथमिक स्कूल हैं। इन स्कूलों में कक्षा आठ में करीब साढ़े बारह लाख बच्चे पंजीकृत हैं। जबकि कक्षा छह व सात में दस लाख से अधिक स्टूडेंट्स पंजीकृत हैं। इसी तरह गैर सरकारी स्कूलों में भी इतने ही बच्चे पंजीकृत है। ऐसे में करीब 50 लाख बच्चों को सरकार ने बिना परीक्षा ही उत्तीर्ण कर दिया है।