Rajasthan @ परीक्षा में नकल और डोटासरा: शिक्षा मंत्री के 'रीटोत्सव' को लेकर कांग्रेस—भाजपा आमने—सामने, भाजपा सांसद ने डोटासरा को बर्खास्त करने, परीक्षा रद्द करने की उठाई मांग

रीट परीक्षा को रीटोत्सव बताने वाले शिक्षा मंत्री डोटासरा इस परीक्षा को गिनीज बुक में दर्ज कराना चाह रहे है, जबकि पेपर आउट मामले को लेकर भाजपा के सांसद डॉ मीणा बेरोजगारों के साथ धरने पर बैठे है और परीक्षा रद्द करने के साथ डोटासरा को बर्खास्त करने की मांग कर रहे है। आज सोशल मीडिया पर बयान बाजी की जा रही है।

शिक्षा मंत्री के 'रीटोत्सव' को लेकर कांग्रेस—भाजपा आमने—सामने, भाजपा सांसद ने डोटासरा को बर्खास्त करने, परीक्षा रद्द करने की उठाई मांग

जयपुर।
राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा(Rajasthan Teacher Eligibility Test) के आयोजन को लेकर जहां प्रदेश की गहलोत सरकार 'रीटोत्सव' को गिनीज बुक आफ रिकॉर्ड में दर्ज कराने का दावा कर रही है, वहीं पेपर आउट मामले में और परीक्षा को रद्द करने को लेकर दो शब्द तक कहने को तैयार नहीं हैं। बेरोजगारों के साथ हजारों युवा राजधानी जयपुर में प्रदर्शन कर परीक्षा रद्द करने और मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहे है, वहीं दूसरी ओर अब भाजपा भी इस मामले को लेकर तथाकथित तौर पर विरोध कर रही है। भाजपा के सांसद डॉ किरोड़ीलाल मीणा रीट परीक्षा में हुई धांधली की निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर युवाओं के साथ शहीद स्मारक पर धरना दे रहे हैं। मीणा ने कहा कि रीट परीक्षा को तत्काल रद्द कर देने के साथ ही शिक्षा मंत्री डोटासरा को बर्खास्त कर देना चाहिए।  वहीं इस पूरे प्रकरण की जांच सीबीआई से करानी चाहिए। इस मामले को लेकर डॉ मीणा ने सोशल मीडिया पर ट्वीट किया तो जवाब में शिक्षा मंत्री भी इस सोशल वार में कूद गए और सांसद पर युवाओं को भ्रमित करने का आरोप लगाते हुए ट्वीट कर दिया। वहीं दूसरी ओर भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी ट्वीट कर इस परीक्षा को रद्द कर सीबीआई जांच की मांग की।

डोटासरा जी ये बताओ पेपर आउट कैसे हुआ: डॉ मीणा
रीट परीक्षा को लेकर सांसद डॉ किरोडीलाल मीणा ने ट्वीट किया कि रीट पेपर लीक के मामले में शिक्षा मंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष @GovindDotasra जी का बयान हास्यास्पद है। मुझ पर व्यक्तिगत आरोप लगाने की बजाय उन्हें यह बताना चाहिए कि तमाम दावों के बावजूद पेपर कैसे और क्यों आउट हुआ? पेपर आउट होने के बावजूद परीक्षा स्थगित क्यों नहीं हो रही? उन्होंने लिखा कि पेपर लीक मामले में जो तथ्य सामने आए हैं उनसे यह स्पष्ट है कि परीक्षा में व्यापक स्तर पर गड़बड़ी हुई है और बड़े लोग इसमें शामिल हैं। कुछ लोगों की गिरफ्तारी भी हुई है। इसकी तह तक जाने के लिए राज्य सरकार को स्वयं आगे बढ़कर सीबीआई जांच के लिए कहना चाहिए।

मीणा ने कहा कि शिक्षा मंत्री @GovindDotasra  जी की मुझ पर व्यक्तिगत छींटाकशी से मुझे दुख अवश्य हुआ है, लेकिन इससे बेरोजगारों के प्रति मेरा समर्पण रत्ती भर भी कम नहीं होगा।मैं उनके हक की आवाज़ को और ताकत के साथ सरकार तक पहुंचाने का काम करूंगा।युवाओं को न्याय दिलाना मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता है। प्रदेश के बेरोजगार युवा जब भी अपनी पीड़ा लेकर मेरे पास आते हैं मैं उनकी मांगों को आवाज़ देता हूं। एक जनप्रतिनिधि होने के नाते यह मेरा दायित्व है। रीट परीक्षा में पेपर लीक के मामले में जब तक बेरोजगारों को न्याय नहीं मिलेगा, मेरा संघर्ष जारी रहेगा।

बरसात में भी धरने पर रहे सांसद मीणा
वहीं डॉ. किरोड़ीलाल मीणा आज बरसात में भी धरना स्थल पर प्रदर्शन कर रहे युवाओं के साथ बैठे रहे। युवाओं द्वारा लगातार कांग्रेस सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए रीट परीक्षा मामले में सीबीआई जांच की मांग की गई। जबकि भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने ट्वीट किया कि युवाओं को रोजगार भत्ते और नौकरी देने के ख्वाब दिखा सत्ता में आई #Congress आज उन्हीं के साथ छल कपट पर उतरी हुई है। हर परीक्षा के पेपर लीक हो रहे हैं, पर कोई एक्शन नहीं। पूरे सरकारी तंत्र की शक्ति मुख्यमंत्री जी ने सिर्फ अपनी सरकार बचाने में लगाई हुई है। 

कांग्रेस का हाथ पर्चे लीक करने वालों के साथ....
वहीं दूसरी ओर सोशल मीडिया पर परीक्षाओं में हो रही धांधली को लेकर राजस्थान की कांग्रेस सरकार के खिलाफ जमकर ट्वीट किए जा रहे है। एक ​ट्वीट किया गया कि कांग्रेस का हाथ पर्चे लीक करने वालों के साथ..., तो उसी ट्वीट में लिखा हुआ है कि कांग्रेस का रजिस्टर्ड कार्यकर्ता बत्तीलाल है। 

Must Read: वसुंधरा समर्थकों को संगठनात्मक कार्यक्रमों से रखा दूर या खुद ही बना रखी है दूरी

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :