BJP का आरोप, "गहलोत राज जंगलराज": प्रदेश में बढ़ते अपराध पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने सीएम पर लगाया जंगलराज का आरोप

राजस्थान में बढ़ते अपराधों पर विपक्ष की ओर से आज सरकार पर  सवाल खड़े किए गए। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने राजस्थान में गहलोत के शासन काल को जंगलराज बताते हुए अपराधों के लिए कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। पूनिया ने कहा कि  राजस्थान में कांग्रेस के नेता सिर्फ अपनी सत्ता बचाने में जुटे हुए हैं।

प्रदेश में बढ़ते अपराध पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने सीएम पर लगाया जंगलराज का आरोप

जयपुर। 
राजस्थान(Rajasthan) में बढ़ते अपराधों पर विपक्ष की ओर से आज सरकार पर  सवाल खड़े किए गए। BJP के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ( Satish Poonia) ने राजस्थान में गहलोत के शासन काल को जंगलराज बताते हुए अपराधों के लिए कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। Poonia ने कहा कि  राजस्थान में कांग्रेस के नेता सिर्फ अपनी सत्ता बचाने में जुटे हुए हैं। इसके चलते अपराधी बेखौफ होकर घुम रहे है। वहीं दूसरी ओर प्रदेश की जनता के बीच डर बढ़ रहा है। पूनिया ने कहा कि प्रदेश में हर जिले में लूट, चोरी, हत्या और बलात्कार जैसी वारदातें बढ़ रही है।

 लेकिन प्रदेश के CM के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही। इसकी वजह से प्रदेश की जनता का जीना दूभर हो गया है। प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि राजस्थान में पुलिस विभाग के आंकड़ों के अनुसार ही 14% अपराधों में वृद्धि हुई है। जबकि हकीकत में यह आंकड़ा और भी अधिक है। पूनिया ने कहा कि राजस्थान में गृह विभाग की जिम्मेदारी भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ही पास है। ऐसे में पुलिस महकमे की प्रॉपर मॉनिटरिंग नहीं हो पा रही। अब जनता के लिए परेशानी का कारण बन गया है।
पुलिस की कार्यशैली पर कटारिया की नाराजगी
आपको बता दें कि इससे पहले नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया(Leader of Opposition Gulabchand Kataria) ने भी राजस्थान पुलिस की कार्यशैली पर नाराजगी जाहिर की। कटारिया ने कहा है कि पुलिस के मुखिया महिला अपराधों की वारदातों को झूठा बता रहे हैं। अगर हकीकत में ऐसा है तो उन्हें झूठ बोलने वाले लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करना चाहिए। प्रदेश देश में अपराध में नंबर वन बन गया है। लेकिन राजस्थान पुलिस इसे छुपा रही है, जो दुर्भाग्यपूर्ण है। बता दें कि आज राजस्थान के DGP एम.एल. लाठर (m.l. Lather)ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राजस्थान में बढ़ते महिला अपराधों पर सफाई पेश की थी। इसमें उन्होंने 37% महिला अपराधों के मामलों को झूठा करार दिया था। वहीं बढ़ते अपराधों को पहले के मुकाबले कम बताया था। जिसको लेकर अब सियासत शुरू हो गई है।

Must Read: एनसीपी अध्यक्ष चम्पावत की क्षत्रिय युवक संघ के संघप्रमुख से मुलाकात नया समीकरण बना सकती है

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :