दुर्घटना की आशंका: भीनमाल में हो रहे घटिया सड़क निर्माण को लेकर ग्रामीणों में नाराजगी, मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

भीनमाल कस्बे के जागरूक नागरिकों और सामाजिक संगठनों ने कस्बे की सड़कों के खराब होने से आम लोगों को हो रही परेशानियों से अवगत कराते हुए आज भीनमाल उपखंड अधिकारी को राज्य के मुख्यमंत्री, पीडब्लूडी मंत्री, जन आयोग अभियान निराकरण विभाग, जिला कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा। 

भीनमाल में हो रहे घटिया सड़क निर्माण को लेकर ग्रामीणों में नाराजगी, मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

भीनमाल | राजस्थान में जालोर जिले के भीनमाल कस्बे के जागरूक नागरिकों और सामाजिक संगठनों ने कस्बे की सड़कों के खराब होने से आम लोगों को हो रही परेशानियों से अवगत कराते हुए आज भीनमाल उपखंड अधिकारी को राज्य के मुख्यमंत्री, पीडब्लूडी मंत्री, जन आयोग अभियान निराकरण विभाग, जिला कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा। 

इस ज्ञापन में इन सभी को अवगत कराते हुए बताया गया कि, भीनमाल से मीठी बेरी तक एमडीआर 174 रोड जो 68 किलोमीटर लंबी है और जिसकी लागत 52 करोड़ रुपये स्वीकृत हुई है उसका निर्माण कार्य प्रगति पर है। इसके निर्माण कार्य में नियमानुसार तय मापदंडों को नजरअंदाज किया जा रहा है और पूर्णता घटिया किस्म की गुणवंताहिन सामग्री का प्रयोग किया जा रहा है। 

सड़क निर्माण के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति
इस संबंध में एडवोकेट श्रवण ढाका ने बताया कि उक्त सड़क का निर्माण जो सरासर गलत तरीकों से किया जा रहा है जिसमें मापदंडों को छोड़कर गुणवंता हिन सामग्री का प्रयोग किया जा रहा है। उक्त रोड के दोनों तरफ सड़क बनाने हेतु 50 फीट की सफाई, झाड़ी कटिंग आदि कार्य किए जाने जाने थे वह पूर्णता नहीं किये गए हैं। केवल नाम मात्र की खानापूर्ति कर निर्माण किया जा रहा है। इसके अलावा निर्माण परिधि के बीच में आ रहे विद्युत पोल, खंभों आदि को भी नहीं हटाया गया है जिससे आवागमन के समय ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है और दुर्घटना होने की आशंका है। 

ये भी पढ़ें:-  सरकार अब ले रही गांधी की सुध: नक्की झील किनारे गांधी वाटिका में लगी गांधी की प्रतिमा बदलेगी

हो रहा गुणवत्ताहीन सड़क का निर्माण
उक्त सड़क के दोनों तरफ जो प्रस्तावित सड़क की चौड़ाई बढ़ाने के लिए खुदाई कर क्रेशर गति से भरा जाना था वहां बाड़ू पत्थर की कंक्रीट डालकर गुणवत्ताहीन सड़क का निर्माण किया जा रहा है। उक्त सड़क का निर्माण भी समतलीय करने के बजाय उबड़-खाबड़ तरीके से किया जा रहा है। जबकि नियमानुसार सड़क को साफ कर वहां से मिट्टी को हटाकर गड्ढा भरना प्रस्तावित है। इस तरह के निर्माण कार्य से बारिश के समय पानी का भराव होने की आशंका है। जिससे सड़क जल्दी टूट जाएगी।

ठेकेदार की मिलीभगती से हो रहा गलत कार्य
वहीं दूसरी ओर, उक्त सड़क के ठेकेदार द्वारा मिलीभगती कर पुरानी बनी कच्ची सड़क पर ही कंकर-पत्थर डालकर एवं अनउपयोगी सामग्री डालकर सड़क का दूषित तरीके से निर्माण किया जा रहा है जो सरासर गलत है। नियमानुसार पुरानी सड़क को तोड़कर एक लेवल में लेकर उसके ऊपर 60/40 एमएम क्रेसर गिट्टी (ब्लेक टुकड़ी) डालकर नई सड़क का निर्माण किया जाने का प्रावधान है। लेकिन इन नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए हाथों से बाड़ू पत्थर टुकड़े डाले जा रहे हैं। 

नहीं लगाया गया सड़क निर्माण का डिस्प्ले
सड़क निर्माण से पूर्व संवेदक द्वारा एक डिस्प्ले गोल्ड लगाया जाता है। जिसमें सड़क निर्माण संबंधी सभी जानकारी दी होती है। जैसे कि सड़क निर्माण पर कितनी लागत, सड़क दूरी, इसमें कौन सी सामग्री का उपयोग होगा, संबंधित अधिकारी व ठेकेदार के मोबाइल नंबर इत्यादि विवरण होता है। लेकिन मौके पर इस तरह का कोई भी बोर्ड नही लगाया गया है। जैसी मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया।

ये भी पढ़ें:- आखिर सच क्या है?: केजरीवाल के गुजरात दौरे के बीच आप नेता का दावा, बड़े नेताओं के इशारे पर हमारे कार्यालय पर रेड की कार्रवाई

प्रशासन को दिया गया दो दिन का समय
ज्ञापन में मांगों के साथ ही प्रशासन को 2 दिन का समय दिया गया है। जिसके अनुसार, अगर 2 दिन के अंदर निर्माण कार्य में सुधार नहीं होता है तो ग्रामीणों द्वारा मौके पर कार्य रुकवाया जाएगा। जिसकी समस्त जिम्मेदारी प्रशासन की होगी। 

ज्ञापन सौंपने के दौरान ये सब रहे मौजूद
ज्ञापन सौंपने के दौरान एडवोकेट श्रवण ढाका, मानाराम पालरिया जोगाऊ, ओमप्रकाश तेतरवाल,राजुराम मांजू, किशनाराम जाणी वाड पंच, ओमप्रकाश ढाका,घेवर बिश्नोई, अर्जुन पुरोहित, जैसा राम देवासी, नरिगाराम मेघवाल, दिनेश पुरोहित,फुलाराम पुरोहित, सांवलाराम पुरोहित, धौलाराम गौदार,हरदान जाणी, गोपी किशन पालडिया,लादुराम सारण, रामकिशन सारण,जगदिश सारण,वेहनाराम देवासी, राजपालसिंह पुनासा,रामलाल बिश्नोई जोगाऊ, सोनाराम बिश्नोई, बाबुलाल सियाग, सहित कई ग्रामीण जन मौजूद रहे।

Must Read: Rajasthan की भर्तियों में हो रही धांधली से परेशान CRPF असिस्टेंट कमांडेंट ने दिया इस्तीफा, शौर्य चक्र से सम्मानित ने रीट भर्ती रद्द करने की उठाई मांग

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :