राजस्थान में यास ने किया मौसम खुशनुमा: राजस्थान के 13 जिलों में ताऊ ते के बाद अब यास ने बदला मौसम, राजस्थान इस बार बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवात से चेतावनी

ताऊ ते का असर खत्म होने के दो दिन के बाद प्रदेश में मौसम एक बार फिर पलट गया। जयपुर, बीकानेर, सीकर, डूंगरपुर, टोंक, नागौर में तेज हवा के साथ शनिवार शाम को बारिश हुई। मौसम विभाग ने 13 जिलों में दो दिन आंधी व बरसात होने का अलर्ट जारी किया है।

राजस्थान के 13 जिलों में ताऊ ते के बाद अब यास ने बदला मौसम, राजस्थान इस बार बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवात से चेतावनी

जयपुर। 
ताऊ ते का असर खत्म होने के दो दिन के बाद प्रदेश में मौसम एक बार फिर पलट गया। जयपुर, बीकानेर, सीकर, डूंगरपुर, टोंक, नागौर में तेज हवा के साथ शनिवार शाम को बारिश हुई। मौसम विभाग ने 13 जिलों में दो दिन आंधी व बरसात होने का अलर्ट जारी किया है। बीकानेर, टाेंक में लगातार बादल रहे और शाम को बारिश हुई। बांसवाड़ा व डूंगरपुर में सुबह से दोपहर तक बादल छाए रहे। दोपहर बाद आसमान खुला। 10 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली।
वहीं सीकर जिले में खाचरियावास, लक्ष्मणगढ़ व नागौर जिले के कुचामन में हल्की बारिश हुई। कई जगहों पर ओले भी गिरे। बाडमेर में दिन में तेज गर्मी रही। उदयपुर और चितौडगढ़ में दिन भर मौसम सामान्य रहा। सामान्य धूप के साथ बादल नहीं थे। मौसम विभाग के मुताबिक शुक्रवार देर रात को भी अजमेर, बीकानेर, गंगानगर, नागौर, सीकर, झुंझुनूं जिले में तेज हवाओं के साथ बरसात हुई। बीकानेर के खाजूवाला, लूणकरणसर सहित कई जगह पर ओले भी गिरे। वहीं सीकर व झुंझुनूं में तेज आंधी के साथ बरसात से कई जगहों पर बिजली के पोल व पेड़ उखड़ गए। शुक्रवार देर रात तक बारिश का दौर जारी रहा।
आज से दो दिन का अलर्ट
मौसम विभाग ने पश्चिम विक्षोभ के कारण प्रदेश में आंधी व बरसात का अलर्ट जारी किया है। 22 मई से फिर से मौसम में बदलाव नजर आएगा। 23 व 24 मई को पूर्वी राजस्थान और पश्चिमी राजस्थान में 40 से 50 किलोमीटर की रफ्तार से आंधी व बरसात होने की संभावना है। राजस्थान में बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़, गंगानगर, जोधपुर, जैसलमेर, नागौर, जयपुर, अलवर, सीकर, अजमेर, टोंक, भीलवाड़ा में मेघ गर्जन के साथ 40 किमी रफ्तार से धूल भरी आंधी के साथ हल्की बरसात होने की संभावना बनी हुई है।

ताउ ते के बाद यास चक्रवात की चेतावनी
तूफान ताऊ ते के बाद अब देश के पूर्वी तटीय क्षेत्रों में चक्रवात यास का खतरा मंडराने लगा है। बंगाल की खाड़ी में उठने वाला चक्रवाती तूफान यास ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में तबाही मचा सकता है। मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक, बंगाल की खाड़ी में लो प्रेशर एरिया बन गया है। 24 मई की सुबह तक इसे चक्रवात में बदलने की आशंका है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, चक्रवाती तूफान में तब्दील होकर यह उत्तर-पश्चिम दिशा की ओर बढ़ सकता है। इसके अलावा 26 मई की शाम तक पश्चिम बंगाल-ओडिशा के तटों तक पहुंच सकता है। तूफान को लेकर पहले से ही आंध्र प्रदेश, ओडीशा, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और अंडमान-निकोबार में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसका सबसे ज्यादा असर बंगाल और ओडिशा पर पड़ेगा। अंडमान और निकोबार और पूर्वी तट के कुछ इलाकों में तेज बारिश होने की संभावना है। इससे बाढ़ का खतरा भी बन सकता है। 25-26 मई के बीच उड़ीसा, 26 मई को झारखंड, सिक्किम, बंगाल के हिमालयी इलाकों और 25 - 26 मई को पश्चिम बंगाल के गंगा नदी के इलाकों बारिश हो सकती है। इधर, ओडिशा सरकार ने तूफान के संभावित खतरे को देखते हुए अपने 30 से 40 जिलों को अलर्ट जारी कर दिया है।

Must Read: दिल्ली के आजाद मार्केट में धमाके के साथ गिरी चार मंजिला इमारत, कई लोग दबे, बचाव-राहत कार्य जारी

पढें दिल्ली खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :