बेटी की शादी छोड़ दिल्ली का सफर: आबू-पिंडवाड़ा के विधायक गरासिया होंगे राष्ट्रपति चुनाव में द्रोपदी के प्रस्तावक

एनडीए की राष्ट्रपति पद की पहली आदिवासी उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के लिए भाजपा ने प्रस्तावकों का चुनाव करना शुरू कर दिया है। राजस्थान के आदिवासी क्षेत्र सिरोही जिले से आदिवासी विधायक समाराम गरासिया को और उदयपुर के पांच विधायकों का चुनाव कर दिल्ली रवाना कर दिया गया है।

आबू-पिंडवाड़ा के विधायक गरासिया होंगे राष्ट्रपति चुनाव में द्रोपदी के प्रस्तावक

सिरोही। एनडीए की राष्ट्रपति पद की पहली आदिवासी उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के लिए भाजपा ने प्रस्तावकों का चुनाव करना शुरू कर दिया है। राजस्थान के आदिवासी क्षेत्र सिरोही जिले से आदिवासी विधायक समाराम गरासिया को और उदयपुर के पांच विधायकों का चुनाव कर दिल्ली रवाना कर दिया गया है।

दिल्ली से फोन आने के बाद आबू - पिण्डवाड़ा विधायक समाराम गरासिया दिल्ली रवाना हो गए। गरासिया ने बताया की उन्हें खुशी है के देश में पहली बार आदिवासी महिला को राष्ट्रपति के लिए भाजपा ने उम्मीदवार बनाया है। इससे आदिवासी समुदाय में खुशी की लहर है, वहीं उनके प्रस्तावक के रूप में मुझे दिल्ली बुलाया गया है इसके लिए में राजस्थान के सभी आदिवासियों की ओर से आभार व्यक्त करता हूं। उदयपुर संभाग के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र से आने वाले पांच सांसद और विधायक का भी भाजपा ने प्रस्तावक के तौर पर चयन किया है। ये सभी विधायक गुरुवार सुबह उदयपुर के डबोक एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए रवाना हो गए। इससे पूर्व बुधवार को भाजपा के संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर एवं नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने उदयपुर ग्रामीण विधायक फूलसिंह मीणा, सलूंबर विधायक अमृतलाल मीणा, झाड़ोल विधायक बाबूलाल खराड़ी और बांसवाड़ा जिले के गढ़ी से विधायक कैलाश मीणा को फोन कर सूचना दी।

विधायकों को सूचना मिलने के बाद जरूरी दस्तावेजों के साथ सब दिल्ली रवाना हो गए। एयरपोर्ट पर विधायकों ने ग्रुप फोटो खिंचवाई और जीत का विक्ट्री सिंबल दिखाया। उदयपुर ग्रामीण विधायक फूल सिंह मीणा ने मीडिया से बातचीत करते हुए पार्टी का आभार जताया। खुशी जताई कि एनडीए ने एक आदिवासी महिला को सर्वोच्च पद पर बिठाने का फैसला किया। जनजाति के विधायक समाराम गरासिया को प्रस्तावक बनाए जाने के बाद जनजाति समाज में खुशी की लहर है।

भाजपा सिरोही के पदाधिकारियों ने इसे सिरोही जिले के लिए गौरव का विषय बताया है। पिंडवाड़ा के घरठ गांव के मूल निवासी समाराम गरासिया अब तक 5 बार विधायक का चुनाव लड़ चुके हैं। इसमें एक बार निर्दलीय तथा चार बार पार्टी से चुनाव लड़े थे। इसमें तीन बार विजयी रहे। बुधवार को बेटी का विवाह करने के तुरंत बाद गुरुवार अलसुबह वे पिंडवाड़ा से उदयपुर से होते हुए बाई प्लेन दिल्ली के लिए रवाना हो गए। बेटी के विवाह में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, सांसद देवजी भाई पटेल समेत विधायक और पूर्व मंत्री ओटाराम देवासी मौजूद रहे।

विधायक समाराम गरासिया तीन बार विधायक चुने गए हैं और उससे पूर्व भारतीय मजदूर संघ के वॉल्केम इंडिया लिमिटेड में यूनियन के लीडर रहे हैं। फैक्ट्री में काम करते हुए गरासिया एक मजदूर के रूप में रहते हुए सुपरवाइजर बने। समाराम गरासिया को BJP ने पहली बार उम्मीदवार बनाया तब फैक्ट्री के सभी मजदूरों ने उनके चुनाव लड़ने के लिए एक दिन का पेमेंट दिया था। उल्लेखनीय है कि चुनाव प्रचार प्रसार के लिए धनराशि कम होने के कारण उनके स्वयं की 25 हजार रुपए एफडी बीच में तूड़वाकर चुनाव में खर्च की थी।

Must Read: जालोर के रामसीन उपतहसीलदार कार्यालय पर सोमवार को शाम 4 बजे तक लटके ​मिले ताले, जिम्मेदारों ने जता दी लाचार

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :