विश्व जल दिवस:मोदी ने शुरू किया अभियान : वर्ल्ड वॉटर डे पर पीएम मोदी ने कैच द रेन अभियान का किया आगाज, मनरेगा का पैसा पानी बचाने में आना चाहिए काम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वर्ल्ड वॉटर डे पर जल शक्ति अभियान की शुरुआत की। इस अभियान को 'कैच द रेन' नाम दिया गया है। PM मोदी ने वीसी के जरिए इसकी शुरुआत की। उन्होंने कहा कि मनरेगा का पैसा और कहीं नहीं जाना चाहिए।

वर्ल्ड वॉटर डे पर पीएम मोदी ने कैच द रेन अभियान का किया आगाज, मनरेगा का पैसा पानी बचाने में आना चाहिए काम

नई दिल्ली।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वर्ल्ड वॉटर डे पर जल शक्ति अभियान की शुरुआत की। इस अभियान को 'कैच द रेन' नाम दिया गया है। PM मोदी ने वीसी के जरिए इसकी शुरुआत की। उन्होंने कहा कि मनरेगा का पैसा और कहीं नहीं जाना चाहिए। इसकी एक-एक पाई पानी बचाने के काम आनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मानसून आने में अभी कुछ हफ्ते का समय है, इसलिए हमें पानी बचाने की तैयारियां अभी से जोरों से करनी है। टैंकों, तालाब और कुओं की सफाई हो जाए। वर्षा जल के रास्ते में कोई रुकावट हो, तो उसे हटाना है। इसमें कोई बहुत बड़ी इंजीनियरिंग की जरूरत नहीं है। मनरेगा का पैसा और कहीं नहीं जाना चाहिए।

केन-बेतवा लिंक के लिए बड़ा कदम
पीएम ने कहा कि मुझे खुशी है कि जलशक्ति के प्रति जागरूकता बढ़ रही है। प्रयास भी बढ़ रहे हैं। पूरी दुनिया आज जल के महत्व को उजागर करने के लिए इंटरनेशनल वॉटर डे मना रही है। हम दो महत्वपूर्ण उद्देश्य के लिए यहां जुटे हैं। दुनिया के सामने उदाहरण पेश हो और भारत में पानी की समस्या का समाधान हो, इसलिए केन-बेतवा लिंक के लिए बहुत बड़ा कदम उठाया गया है। अटलजी ने उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की पानी की समस्या दूर करने के लिए जो सपना देखा था, उसे पूरा किया जा रहा है। आज अगर कोरोना नहीं होता और हम अगर झांसी बुंदेलखंड में आकर यह उद्घाटन करते, तो इसमें लाखों लोग आते। यह इतना महत्वपूर्ण काम हो रहा है।
गहराता जा रहा है जलसंकट 
हम अगर जन भागीदारी से पानी बचाने की पहल करेंगे, तो यह समस्या नहीं लगेगी, बल्कि पानी पैसे से भी ज्यादा मूल्यवान लगेगा। यह काम दशकों पहले होना था, लेकिन नहीं हुआ। भारत जैसे-जैसे विकास की तरफ बढ़ रहा है, जलसंकट भी वैसे-वैसे बढ़ता जा रहा है। इसलिए हमें इस बार पानी बचाने में कोई कसर नहीं छोड़नी है। आजादी के बाद पहली बार पानी की टेस्टिंग को लेकर किसी सरकार द्वारा इतनी गंभीरता से काम किया जा रहा है। मुझे इस बात की भी खुशी है कि पानी की टेस्टिंग के इस अभियान में हमारे गांव में रहने वाली बहनों-बेटियों को जोड़ा जा रहा है।
30 मार्च से 30 नवंबर तक चलेगा अभियान
इस अभियान को मानसून की शुरुआत से पहले और उसके खत्म होने के बीच 30 मार्च से 30 नवंबर के बीच चलाया जाएगा। जमीनी स्तर पर जल संरक्षण में जन भागीदारी के लिए इस अभियान को जन आंदोलन के रूप में शुरू किया जाएगा। इसका मकसद बारिश के पानी को बचाने और संरक्षित करने के लिए लोगों को आगे लाना है। इस दौरान केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केन-बेतवा संपर्क परियोजना के लिए ऐतिहासिक समझौते पर भी साइन किया। नदियों को आपस में जोड़ने की यह राष्ट्रव्यापी योजना देश की यह पहली परियोजना है।

Must Read: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंत्रिमंडल का किया विस्तार, 15 कैबिनेट तो 28 राज्य मंत्रियों ने ली शपथ, अश्विनी वैष्णव होंगे देश के रेल मंत्री

पढें दिल्ली खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :