भारत: ऑस्ट्रेलियाई सीनेट प्रेसिडेंट से मुलाकात के दौरान ओम बिरला ने दोनों देशों के बीच ज्यादा क्रिकेट मैच खेलने की वकालत की

ऑस्ट्रेलियाई सीनेट प्रेसिडेंट से मुलाकात के दौरान ओम बिरला ने दोनों देशों के बीच ज्यादा क्रिकेट मैच खेलने की वकालत की
Meeting with the Australian Senate President.
नई दिल्ली/टोरंटो, 24 अगस्त। लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला और ऑस्ट्रेलिया की सीनेट प्रेसिडेंट सू लायन्स के बीच मुलाकात के दौरान दोनों देशों के बीच संसदीय सहयोग बढ़ाने और संबंधों के दायरे को मजबूत करने के कई महत्वपूर्ण आयामों पर तो चर्चा हुई ही, इसके साथ ही इस चर्चा का एक केंद्र बिंदु दोनों देशों के बीच क्रिकेट संबंध भी रहा।

ऑस्ट्रेलियाई सीनेट प्रेसिडेंट सू लायन्स के साथ मुलाकात के दौरान लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने दोनों देशों के बीच खेल संबंधों का उल्लेख करते हुए दोनों देशों के बीच ज्यादा से ज्यादा क्रिकेट खेलने की वकालत करते हुए कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया दोनों ही देशों में क्रिकेट बहुत लोकप्रिय है, इसलिए दोनों देशों की क्रिकेट टीमों को नियमित रूप से स्पर्धा करनी चाहिए। उन्होने जोर देते हुए कहा कि इससे दोनों देशों के लोगों के बीच परस्पर संपर्क को और ज्यादा बढ़ाने में मदद मिलेगी।

दरअसल, लोक सभा अध्यक्ष भारतीय सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ कनाडा में आयोजित हो रहे 65वें राष्ट्रमंडल संसदीय सम्मेलन में शामिल होने के लिए कनाडा गए हुए हैं। अपनी इस कनाडा यात्रा के दौरान बिरला अन्य राष्ट्रमंडल देशों की तरफ से आए प्रतिनिधियों से लगातार मुलाकत कर रहे हैं और इसी क्रम में उन्होने आज ऑस्ट्रेलिया सीनेट की प्रेसिडेंट सू लायन्स के नेतृत्व में ऑस्ट्रेलिया से आए संसदीय शिष्टमंडल के साथ मुलाकात कर दोनों देशों के बीच विभिन्न द्रिपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की।

बातचीत के दौरान, बिरला ने राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका का उल्लेख करते हुए इस बात पर जोर दिया कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के युवाओं को मिलकर काम करना चाहिए और अपने ज्ञान और अनुभवों को साझा करने के लिए उन्हें नियमित रूप से एक दूसरे के साथ संवाद करना चाहिए, जिससे दोनों देशों में विकास को बढ़ावा मिलेगा। उन्होने द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने के लिए दोनों देशों के लोगों के बीच परस्पर संपर्क को बढ़ावा देने का आग्रह भी किया।

ऑस्ट्रेलियाई संसदीय शिष्टमंडल के साथ बातचीत के दौरान, बिरला ने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि ऑस्ट्रेलिया में भारतीय बड़े पैमाने पर आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, जिससे अपनी मातृभूमि के प्रति उनकी प्रतिबद्धता का पता चलता है।

भारत-ऑस्ट्रेलिया मैत्री समूह के बारे में बात करते हुए लोक सभा अध्यक्ष ने कहा कि दोनों देशों के बीच संसदीय सहयोग को मजबूत करने की दिशा में यह सही निर्णय था। भारत और ऑस्ट्रेलिया के जनप्रतिनिधियों को नियमित रूप से आपस में बातचीत करने और सर्वोत्तम प्रथाओं और कार्य पद्धतियों का आदान-प्रदान करने की वकालत करते हुए उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई सांसदों और अधिकारियों को प्राइड की प्रशिक्षण सुविधा का लाभ लेने के लिए भारत आने का निमंत्रण भी दिया।

इसके बाद बिरला 65वें राष्ट्रमंडल संसदीय सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में शामिल हुए, जहां उन्होने अन्य राष्ट्रमंडल देशों के पीठासीन अधिकारियों और सांसदों के साथ बातचीत की। उन्होंने संसदीय लोकतंत्र को मजबूत करने और विधानमंडलों को समावेशी बनाने की भारत की प्रतिबद्धता को दोहराया। आज लोक सभा अध्यक्ष बिरला जन संसद : नवाचार के माध्यम से पहुंच नामक एक कार्यशाला में पैनलिस्ट के रूप में भी शामिल होंगे।

आपको बता दें कि, वर्तमान सम्मेलन के दौरान, लोक सभा सदस्य अनुराग शर्मा को सीपीए कार्यकारी समिति द्वारा भारी बहुमत से सीपीए कोषाध्यक्ष के रूप में नामित किया गया है।

एसटीपी/एएनएम

Must Read: तेलंगाना में केमिकल फैक्ट्री धमाका में छह घायल

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :