वैक्सीनेशन बर्बादी पर पीएम की सलाह: देश में वैक्सीन की बर्बादी अभी अधिक, इसे कम करने की जरूरत:पीएम मोदी

देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत के टीकाकरण अभियान की प्रगति की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। बैठक के दौरान, अधिकारियों ने टीकाकरण अभियान के विभिन्न पहलुओं पर अपनी विस्तृत प्रस्तुति दी। प्रधानमंत्री को टीकों की वर्तमान उपलब्धता और इसे बढ़ाने की योजना के बारे में जानकारी दी गई।

देश में वैक्सीन की बर्बादी अभी अधिक, इसे कम करने की जरूरत:पीएम मोदी

नई दिल्ली।
देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने भारत के टीकाकरण अभियान (vaccination campaign)की प्रगति की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। बैठक के दौरान, अधिकारियों ने टीकाकरण अभियान के विभिन्न पहलुओं पर अपनी विस्तृत प्रस्तुति दी। PM को टीकों की वर्तमान उपलब्धता और इसे बढ़ाने की योजना के बारे में जानकारी दी गई। उन्हें विभिन्न वैक्सीन निर्माताओं को टीकों के उत्पादन में तेजी लाने में मदद करने के लिए किए गए प्रयासों से भी अवगत कराया गया। भारत सरकार(Indian Government) वैक्सीन निर्माताओं के साथ सक्रिय रूप से काम कर रही है और अधिक उत्पादन इकाइयों की सुविधा, कच्चे माल के वित्तपोषण और आपूर्ति के मामले में उन्हें सहायता प्रदान कर रही है। PM ने स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों के साथ-साथ अग्रिम पंक्ति के कर्मियों में टीकाकरण कवरेज की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने 45 वर्ष से अधिक आयु के के साथ-साथ 18-44 आयु वर्ग में भी टीकाकरण कवरेज का जायजा लिया। PM ने विभिन्न राज्यों में वैक्सीन की बर्बादी ( wastage of Corona Vaccine) की स्थिति की भी समीक्षा की। PM ने निर्देश दिया कि वैक्सीन की बर्बादी की संख्या अभी भी अधिक है इसे कम किए जाने के लिए जरूरी कदम उठाए जाने की आवश्यकता है। अधिकारियों ने टीकाकरण की प्रक्रिया को लोगों के और अधिक अनुकूल बनाने के लिए तकनीकी मोर्चे पर किए जा रहे विभिन्न उपायों के बारे में भी प्रधानमंत्री को जानकारी दी। अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को टीके की उपलब्धता पर राज्यों को उपलब्ध कराई जा रही अग्रिम जानकारी के बारे में बताया। उन्होंने प्रधानमंत्री को यह भी बताया कि राज्यों को यह जानकारी जिला स्तर पर देने को कहा गया है ताकि लोगों को कोई असुविधा न हो। बैठक में रक्षा मंत्री, गृह मंत्री, वित्त मंत्री, वाणिज्य और उद्योग मंत्री, सूचना एवं प्रसारण मंत्री, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, कैबिनेट सचिव, स्वास्थ्य सचिव और अन्य महत्वपूर्ण अधिकारियों ने भाग लिया।

Must Read: रीट परीक्षा का परिणाम जारी करने के बाद ही मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग में 60 हजार पदों पर शीघ्र भर्ती करने की घोषणा की

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :