अमेरिका की दादागिरी: अमेरिकी नौसेना ने भारत की अनुमति बिना लक्षद्वीप के नजदीक किया ऑपरेशंस

अमेरिकी नेवी ने परमिशन के बिना लक्षद्वीप के पास भारत के एक्सक्लूसिव इकोनॉमिक जोन में अभ्यास किया है। अनुमति तो दूर अमेरिकी नेवी ने आगे भी इस तरह का अभ्यास करने का दावा किया है। जानकारी के मुताबिक अमेरिकी नेवी ने दावा किया है कि इस एक्सरसाइज के लिए भारत की परमिशन लेने की जरूरत नहीं है।

अमेरिकी नौसेना ने भारत की अनुमति बिना लक्षद्वीप के नजदीक किया ऑपरेशंस

नई दिल्ली। 
अमेरिकी नेवी ने परमिशन के बिना लक्षद्वीप के पास भारत के एक्सक्लूसिव इकोनॉमिक जोन में अभ्यास किया है। अनुमति तो दूर अमेरिकी नेवी ने आगे भी इस तरह का अभ्यास करने का दावा किया है। जानकारी के मुताबिक अमेरिकी नेवी ने दावा किया है कि इस एक्सरसाइज के लिए भारत की परमिशन लेने की जरूरत नहीं है। अमेरिकी नौसेना का कहना है वह फ्रीडम ऑफ नेविगेशन ऑपरेशंस करती रही है और आगे भी करती रहेगी। यूएस नेवी के सातवें बेड़े ने बयान जारी कर कहा है कि 7 अप्रेल को युद्धपोत USS जॉन पॉल जोन्‍स ने भारत से इजाजत लिए बिना ही लक्षद्वीप से 130 समुद्री मील की दूरी पर भारतीय इलाके में एक्सरसाइज की और यह अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों के मुताबिक है। अमेरिकी नौसेना ने कहा है कि भारत के इकोनॉमिक जोन में सैन्‍य अभ्‍यास या आने-जाने से पहले सूचना देने की बात अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों से मेल नहीं खाती। इस तरह उसने भारत के दावे को चैलेंज किया है। हालांकि, अमेरिकी नेवी के बयान पर भारत की ओर से अभी कोई कमेंट नहीं आया है। अमेरिका का यह बयान इसलिए भी चिंता की बात है, क्योंकि भारत-अमेरिका करीबी स्ट्रैटजिक पार्टनर हैं और दोनों देश चीन के समुद्री विस्तार का विरोध करते रहे हैं। भारत और अमेरिका की नौसेनाएं एक साथ अभ्यास भी करती रही हैं। इस साल फरवरी में क्वाड ग्रुप में शामिल देशों की मीटिंग में भारत और अमेरिका ने इंडो-पैसिफिक रीजन में आपसी सहयोग बढ़ाने की बात भी कही थी।