सरकार के वाहनों में एयर बैग के आदेश: Ministry of Roads and Highways ने एम 1 वर्ग के वाहनों ने एयरबैग किया अनिवार्य, 2 टॉरसो एयर बैग और 2 कर्टन एयर बैग लगाने के निर्देश

भारत सरकार के सड़क यातायात और राजमार्ग मंत्रालय ने वाहनों में एयरबैग अनिवार्य कर दिया। इसके लिए अधिसूचना का मसौदा जारी करते हुए एम 1 वर्ग के वाहनों में ड्राइवर एयरबैग लगाना अनिवार्य कर दिया। सरकार के निर्देशों के मुताबिक एम1 वर्ग में वे यात्री वाहन आते हैं, जिनमें ड्राइवर सीट के अलावा आठ से अधिक सीटें नहीं होतीं।

Ministry of Roads and Highways ने एम 1 वर्ग के वाहनों ने एयरबैग किया अनिवार्य, 2 टॉरसो एयर बैग और 2 कर्टन एयर बैग लगाने के निर्देश

नई दिल्ली, एजेंसी। 
भारत सरकार के सड़क यातायात और राजमार्ग मंत्रालय ने वाहनों में एयरबैग अनिवार्य कर दिया। इसके लिए अधिसूचना का मसौदा जारी करते हुए एम 1 वर्ग के वाहनों में ड्राइवर एयरबैग लगाना अनिवार्य कर दिया।
सरकार के निर्देशों के मुताबिक एम1 वर्ग में वे यात्री वाहन आते हैं, जिनमें ड्राइवर सीट के अलावा आठ से अधिक सीटें नहीं होतीं। 
ड्राइवर एयरबैग को वाहन चालकों की सुरक्षा के लिए उन सभी वाहनों के लिए अनिवार्य कर दिया गया था, जो वाहन एक जुलाई, 2019 को और उसके बाद निर्मित किए गए। 
एयरबैग ऐसी प्रणाली है, जो वाहन के डैशबोर्ड पर लगी होती है और दुर्घटना होने की स्थिति में वाहन चालक और गाड़ी के सामने वाले हिस्से के बीच गुब्बारे की तरफ फूलकर वाहन चालक को गंभीर रूप से घायल होने से बचाती है। 
इसके बाद अब मंत्रालय ने एम 1 वर्ग के वाहन के लिए यह अनिवार्य कर दिया कि वाहन चालक सहित आगे बैठने वाली सवारी की सुरक्षा के लिए फ्रंट एयरबैग लगाए जाएं। यह आदेश एक जनवरी, 2022 से प्रभावी कर दिया गया।
सरकारी आदेशों के मुताबिक वाहन में बैठे लोगों की भीषण टक्कर से सुरक्षा बढ़ाने के लिए, यह निर्णय किया गया कि केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 में संशोधन करके उसमें दिए गए सुरक्षा शर्तों में इजाफा किया जाए।
सरकारी अधिसूचना का मसौदा 14 जनवरी, 2022 को जारी किया गया। इसके तहत एम 1 वर्ग के वाहनों के लिए यह अनिवार्य कर दिया गया कि एक अक्टूबर, 2022 के बाद निर्मित सभी यात्री वाहनों में दो साइड/साइट टॉरसो एयरबैग लगाये जाए। 
इसके अलावा दो साइड कर्टन/ट्यूब एयरबैग लगा जाए। इस तरह आगे और पीछे दोनों कंपार्टमेंट में बैठे लोगों के सामने और पीछे से होने वाली टक्करों के असर को कम किया जा सकेगा।
टॉरसो और कर्टन एयरबैग लगाने से होगा लाभ
सरकारी आदेशानुसार साइड/साइड टॉरसो एयरबैग का अर्थ गुब्बारे की तरह फूलने वाली प्रणाली से है। इसे सीटों या वाहन के भीतर बगल वाले ढांचों में लगाया जाएगा। 
उसे इस तरह डिजाइन किया जाएगा कि बगल से होने वाली टक्कर के समय शरीर के धड़ में चोट को कम किया जा सके और सवारी को बाहर गिरने से बचाया जा सके। यह आगे बैठे लोगों की सुरक्षा के लिये है। 
 “साइड कर्टन/ट्यूब एयरबैग” का अर्थ गुब्बारे की तरह फूलने वाली प्रणाली से है, इसे वाहन के भीतर बगल वाले ढांचों में लगाया जाएगा। 
उसे इस तरह डिजाइन किया जाएगा कि बगल से टक्कर होने के समय या गाड़ी पलटने की स्थिति में सिर में चोट लगने से बचाया जा सके। यह पीछे बैठी सवारियों को सुरक्षित करने के लिए है।

Must Read: त्यागी महापंचायत के मंच पर आरोपियों का हुआ सम्मान, 15 दिन का अल्टीमेटम देकर खत्म हुई महापंचायत

पढें दिल्ली खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :