हिन्दू और हिन्दुत्ववाद पर फोकस: महंगाई हटाओ रैली में राजस्थान की धरा से राहुल गांधी की री-लांचिंग

राहुल गांधी ने अपने स्पीच का अधिकांश हिस्सा हिन्दू और हिन्दुत्ववाद पर फोकस रखा, जबकि प्रियंका गांधी ने भाजपा की सरकार को जवाबदेह बनाने पर जोर दिया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आंकड़े प्रस्तुत कर मोदी सरकार की नाकामियों को गिनाया।

महंगाई हटाओ रैली में राजस्थान की धरा से राहुल गांधी की री-लांचिंग

जयपुर। देश में लगातार बढ़ती महंगाई के खिलाफ राजधानी जयपुर में रविवार को आयोजित हुई महारैली में कांग्रेस ने राहुल गांधी की री-लांचिंग की।

महारैली के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा की टीम ने जिस अंदाज में विद्याधरनगर स्टेडियम और एयरपोर्ट से लेकर महारैली स्थल तक के मार्ग पर तैयारियां की थी, उससे अनुमान लगाया जा रहा था कि महंगाई के खिलाफ कांग्रेस के अभियान का शंखनाद के साथ राहुल गांधी की री-लांचिंग की तैयारियां की जा रही है। राहुल गांधी ने महारैली में हालांकि महंगाई को लेकर ज्यादा कुछ तो नहीं कहा, लेकिन उन्होंने सीधे तौर पर महंगाई और देश की वर्तमान स्थितियों को लेकर मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया। राहुल गांधी ने अपने स्पीच का अधिकांश हिस्सा हिन्दू और हिन्दुत्ववाद पर फोकस रखा, जबकि प्रियंका गांधी ने भाजपा की सरकार को जवाबदेह बनाने पर जोर दिया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आंकड़े प्रस्तुत कर मोदी सरकार की नाकामियों को गिनाया। कांग्रेस की 'महंगाई हटाओ' राष्ट्रीय रैली में पार्टी नेता राहुल गांधी काफी एग्रेसिव नजर आए। उन्होंने हिंदू और हिंदुत्ववादी शब्दों को टारगेट करते हुए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने केवल एक बार महंगाई शब्द का प्रयोग किया। अपने 31 मिनट के भाषण में 35 बार हिंदू और 26 बार हिंदुत्ववादी बोले।

महंगाई के खिलाफ कांग्रेस की महारैली में शामिल होने के लिए महिलाओं में भी खासा उत्साह रहा। यही कारण है कि रैली स्थल पर अधिकतर महिलाएं नाचते गाते पहुंची। उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार को महंगाई का जनक बताया। महिलाओं का कहना था कि केंद्र की जन विरोधी नीतियों के कारण आज महंगाई चरम पर है, जिससे आमजन का जीना मुहाल हो गया है। एनएसयूआई की प्रदेश उपाध्यक्ष संजीता सिहाग के नेतृत्व में आई इन महिलाओं ने सभा स्थल पर नाच गाकर कांग्रेस की रैली का समर्थन किया।

सोनिया गांधी व राहुल गांधी विशेष विमान से जयपुर पहुंचे। रैली के आरंभ होने से पहले सोनिया गांधी के जयपुर आने को लेकर संशय था, लेकिन ऐनवक्त पर सोनिया गांधी का कार्यक्रम बन गया और वे राहुल गांधी के साथ जयपुर पहुंची। कयास लगाए जा रहे थे कि रैली में वे राहुल गांधी के बाद संबोधन देकर मोदी सरकार के खिलाफ हल्ला बोलेगी। लेकिन, रैली में उन्होंने संबोधन नहीं दिया। प्रियंका गांधी भी दिल्ली से कार के माध्यम से जयपुर पहुंची। ओटीएस में कांग्रेस के बड़े नेताओं से ब्रेकफास्ट पर चर्चा नहीं कर वे सीधे मंच पर पहुंची। पहले प्रियंका का हवाई मार्ग से आने का कार्यक्रम था। लेकिन ऐनवक्त पर प्रियंका के कार्यक्रम में बदलाव हो गया।

जयपुर में रविवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की ओर से आयोजित महंगाई हटाओ महारैली में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी हिस्सा नहीं ले पाए। उनका विमान देरी से जयपुर पहुंचा। जब तक महारैली में सभी के संबोधन समाप्त हो चुके थे। पंजाब के सीएम एयरपोर्ट पर फंसे रहे। वे चाहकर भी रैली स्थल तक नहीं पहुंच सके और बाद में उन्हें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी के साथ प्रियंका गांधी से मिलना पड़ा।

राहुल गांधी ने महारैली में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी का नाम लेकर भी संबोधित किया, लेकिन वे रैली में मौजूद नहीं थे। इसके बावजूद राहुल गांधी ने पंजाब के सीएम चन्नी के कार्यों की तारीफ की और कहा कि किसान आंदोलन में शहीद हुए पंजाब के चार सौ किसानों को पांच लाख का मुआवजा दिया जा चुका है और 152 किसान परिवार जनों को नौकरी दे दी गई है और आने वाले समय में भी शेष बचे किसानों के सहित परिवारों को नौकरी दे दी जाएगी। राहुल गांधी रैली में उन्हें शाबाशी देने के लिए खड़ा करना चाहते थे। उन्होंने कहा कि चन्नी आए और बताएं लेकिन चन्नी समय पर जयपुर नहीं पहुंच पाने के कारण रैली में मौजूद नहीं रह सके।

मंच की कमान राजस्थान कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने संभाली। धन्यवाद सीडब्ल्यूसी सदस्य रघुवीर सिंह मीणा ने ज्ञापित किया।

Must Read: सचिन पायलट जल्द होंगे हमारे !

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :