All India Mayors Conference: Prime Minister Narendra Modi ने अखिल भारतीय महापौर सम्मेलन में शहरों के कायाकल्प के लिए दिया कई सुझाव

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से अखिल भारतीय महापौर सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस सम्मेलन में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी भी उपस्थित थे।

Prime Minister Narendra Modi  ने अखिल भारतीय महापौर सम्मेलन में शहरों के कायाकल्प के लिए दिया कई सुझाव

नई दिल्ली, एजेंसी।  
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से अखिल भारतीय महापौर सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस सम्मेलन में  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी भी उपस्थित थे। 
सभा को संबोधित करते हुए पीएम ने प्राचीन शहर वाराणसी में हाल के घटनाक्रमों के बारे में चर्चा की। उन्होंने कहा कि काशी का विकास पूरे देश का रोडमैप हो सकता है।

हमारे देश में ज़्यादातर शहर पारंपरिक शहर ही हैं, पारंपरिक तरीके से ही विकसित हुए हैं। आधुनिकीकरण के इस दौर में हमारे इन शहरों की प्राचीनता की भी उतनी ही अहमियत है।

ये शहर हमें विरासत और स्थानीय कौशल को संरक्षित करना सिखा सकते हैं। 
प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि मौजूदा संरचनाओं को नष्ट करना कोई समाधान नहीं है, बल्कि कायाकल्प और संरक्षण पर जोर दिया जाना चाहिए। 
इसे आधुनिक समय की आवश्यकताओं के अनुरूप किया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री ने स्वच्छता के लिए शहरों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का आह्वान किया।


उन्होंने स्वच्छता के साथ-साथ शहरों के सौंदर्यीकरण पर भी जोर दिया। उन्होंने महापौर से इस संबंध में अपने शहरों में वार्डों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करने को कहा।
उन्होंने महापौरों से स्वतंत्रता संग्राम पर आधारित 'रंगोली' प्रतियोगिताएं, स्वतंत्रता संग्राम पर गीत प्रतियोगिता और लोरी  प्रतियोगिता जैसे 'आजादी का अमृत महोत्सव' से संबंधित कार्यक्रम चलाने के लिए भी कहा। प्रधानमंत्री ने यह भी सुझाव दिया कि महापौरों को समय निकालकर शहरों का जन्मदिन मनाना चाहिए।
नदियों वाले शहरों को नदी उत्सव मनाना चाहिए। उन्होंने नदियों की महिमा को फैलाने की आवश्यकता पर बल दिया ताकि लोग उन पर गर्व करें और उन्हें स्वच्छ रखें।
प्रधानमंत्री ने कहा, नदियों को शहरी जीवन के केंद्र में वापस लाया जाना चाहिए। उन्होंने महापौर से सिंगल यूज प्लास्टिक के खात्मे के खिलाफ अभियान को फिर से शुरू करने को कहा। 
पीएम ने महापौरों से कचरे से धन बनाने के तरीके तलाशने को कहा। प्रधानमंत्री ने महापौरों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि उनके शहरों की स्ट्रीट लाइटों और घरों में एलईडी बल्बों का व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाए।
उन्होंने इसे एक मिशन मोड में लेने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि हमें हमेशा मौजूदा योजनाओं को नए उपयोग के लिए इस्तेमाल करने और उन्हें आगे ले जाने के बारे में सोचना चाहिए। 
एक जिला एक उत्पाद कार्यक्रम का जिक्र
प्रधानमंत्री ने 'एक जिला एक उत्पाद' कार्यक्रम का जिक्र करते हुए महापौरों से शहर में किसी विशिष्ट उत्पाद या स्थान द्वारा प्रचारित अपने शहरों की एक विशिष्ट पहचान के लिए जोर देने को कहा।
प्रधानमंत्री ने उनसे शहरी जीवन के विभिन्न पहलुओं के संबंध में जनहितैषी सोच विकसित करने को भी कहा। 
उन्होंने कहा कि हमें सार्वजनिक परिवहन के उपयोग को बढ़ावा देने की जरूरत है। 
उन्होंने महापौरों से सुगम्य भारत अभियान-सुलभ भारत अभियान के अनुसार यह ध्यान रखने के लिए कहा कि उनके शहर में हर सुविधा दिव्यांगों के अनुकूल हो। 
प्रधानमंत्री ने हमारे विकास मॉडल में एमएसएमई को मजबूत करने की आवश्यकता को दोहराया।


स्ट्रीट वेंडर्स को हर संभव मदद की अपील
प्रधानमंत्री ने कहा कि रेहड़ी-पटरी वाले हमारी अपनी ही यात्रा के अंग है, इनकी मुसीबतों को हम हर पल देखेंगे। 
उनके लिए हम पीएम स्वनिधि योजना लाए हैं। यह योजना बहुत ही उत्तम है। 
आप अपने नगर में उनकी लिस्ट बनाइए और उनको मोबाइल फोन से लेन-देन सिखा दीजिए। 
इससे बेहतर शर्तों पर बैंक वित्त की सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि महामारी ने स्ट्रीट वेंडर्स के महत्व को दिखाया है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि सरदार पटेल अहमदाबाद के महापौर थे और देश उन्हें आज भी याद करता है। 
प्रधानमंत्री ने कहा कि महापौर का पद एक सार्थक राजनीतिक करियर के लिए एक ठोस आधार हो सकता है, जहां आप इस देश के लोगों की सेवा कर सकते हैं।

Must Read: जयपुर कोचिंग संस्थान में कोरोना गाइड लाइन की पालना नहीं करने पर प्रशासन ने 2 संस्थान को किया सील, ऐसी ही कार्रवाई की उम्मीद उप चुनावों में भी

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :