भाजपा के प्रदर्शन पर पुलिस के डंडे: राजस्थान में कांग्रेस के धरना—प्रदर्शन में पुलिस की सुरक्षा, वहीं आज राजधानी में भाजपा के युवा मोर्चा को मिले पुलिस के डंडे

राजस्थान में एक बार फिर सरकार की दोहरी नीति देखने को मिली है। एक ओर जहां 7 जुलाई से प्रदेशभर में कांग्रेस की ओर से महंगाई को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा  रहा है और जिला मुख्यालय पर पुलिस प्रशासन सुरक्षा के लिहाज से साथ खड़ी नजर आ रही है, वहीं दूसरी ओर राजधानी में इसी पुलिस का दूसरा रूप देखने को मिला।

राजस्थान में कांग्रेस के धरना—प्रदर्शन में पुलिस की सुरक्षा, वहीं आज राजधानी में भाजपा के युवा मोर्चा को मिले पुलिस के डंडे

जयपुर
राजस्थान में एक बार फिर सरकार की दोहरी नीति देखने को मिली है। एक ओर जहां 7 जुलाई से प्रदेशभर में कांग्रेस की ओर से महंगाई को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा  रहा है और जिला मुख्यालय पर पुलिस प्रशासन सुरक्षा के लिहाज से साथ खड़ी नजर आ रही है, वहीं दूसरी ओर राजधानी में इसी पुलिस का दूसरा रूप देखने को मिला। राजधानी में भाजपा के युवा मोर्चा की ओर से जयपुर कलेक्ट्र्रेट पर किए जा रहे प्रदर्शन के दौरा पुलिस ने जमकर लाठियां चलाई। भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने डंडे बरसाए तो कई घायल हो गए। ऐसे में आमजन एक ही सवाल कर रहा है कि कांग्रेस का प्रदर्शन शांति पूर्ण और भाजपा का प्रदर्शन उग्र उपद्रव कैसे!
जानकारी के मुताबिक राजस्थान में अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (Scheduled Castes and Scheduled Tribes) पर बढ़ रहे अत्याचार के विरोध में भारतीय जनता युवा मोर्चा (Bharatiya Janata Yuva Morcha)कड़ा रुख अख्तियार किया है। शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सर्किल पर कांग्रेस सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। सुबह करीब साढ़े 10 बजे काफी संख्या में इकट्‌ठे हुए भाजयुमो कार्यकर्ता कलेक्ट्रेट के बाहर जयसिंह हाईवे पर धरना देने लगे। Police ने प्रवेश द्वार बंद कर दिए थे। इसके बाद दोपहर करीब साढ़े बारह बजे कार्यकर्ताओं को जबरन उठाने के दौरान पुलिस से झड़प हो गई। इसके बाद पुलिस ने कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। पदाधिकारियों का दावा है कि दर्जनभर से ज्यादा कार्यकर्ता घायल हुए हैं। इस मामले में पुलिस ने फिलहाल चुप्पी साध रखी है।


कलेक्ट्रेट परिसर में प्रवेश करने की कोशिश, एसीपी से उलझे कार्यकर्ता
प्रदर्शन के दौरान युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट परिसर में प्रवेश करने की कोशिश की। इसी दौरान भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ता सदर एसीपी नवाब खान (Sadar ACP Nawab Khan) से उलझ गए। मामला तूल पकड़ लिया और पुलिसकर्मियों ने भाजयुमो के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज कर दिया। युवा मोर्चा के प्रदेश महामंत्री राजकुमार बिंवाल (Rajkumar Binwal), प्रदेश मंत्री रामकिशन मीणा(Ramkishan Meena), विजेंद्र गुर्जर (Vijender Gurjar), विक्रम सिंह शेखावत (Vikram Singh Shekhawat)और आशीष शर्मा धायल हो गए। घायलों को एसएमएस अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर पहुंचाया गया।


इस लिए कलेक्ट्रेट पर कर रहे थे प्रदर्शन
भाजयुमो प्रदेश महामंत्री राजकुमार बिंवाल (Rajkumar Binwal) ने बताया कि पिछले दिनों झालावाड़ के झालरापाटन में कृष्णा वाल्मीकि पर दिनदहाड़े एक समुदाय विशेष के लोगों ने लाठी, भाला, सरिया से हमला बोल दिया था। आखिरकार उसकी हत्या कर दी गई थी। यह घटना प्रदेश में अनुसूचित जाति एवं जनजाति पर हो अत्याचार को दर्शाती है। प्रदेश में गहलोत सरकार एसटी एससी पर हो रहे हमलों को रोकने में नाकाम है। इस तरह की घटनाओं पर प्रदेश सरकार कोई कड़े कदम नहीं उठा रही है। इन अत्याचारों पर अंकुश लगाने एवं दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग को लेकर भारतीय जनता युवा मोर्चा ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सर्किल पर धरना प्रदर्शन किया था।

Must Read: बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव आए मुश्किल में, कोर्ट में परिवाद हुआ दायर

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :