सचिन पायलट का जवाब: जनता समझ गई, अब आपको चुनने की चूक नहीं करेगी

जयपुर के चौमूं में एक सभा में गजेंद्र सिंह ने कहा कि राजस्थान में सचिन पायलट से चूक हो गई। यदि 2020 में मध्यप्रदेश के विधायकों ने जैसा फैसला किया, उसी तरह राजस्थान में हो गया होता तो आज 13 जिले प्यासे नहीं होते और ईस्टर्न कैनाल प्रोजेक्ट पर काम चालू हो चुका हाेता।

जनता समझ गई, अब आपको चुनने की चूक नहीं करेगी

जयपुर। जुलाई 2020 में राजस्थान में पॉलिटिकल क्राइसेस को लेकर एक बार फिर केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और कांग्रेस नेता सचिन पायलट आमने-सामने हो गए हैं। गजेंद्र सिंह ने कहा कि उस समय सचिन पायलट से चूक हो गई, राजस्थान के विधायक मध्यप्रदेश जैसा फैसला नहीं ले पाए। गजेंद्र सिंह के इस बयान पर सचिन पायलट ने पलटवार किया है। पायलट ने कहा कि जनता समझ गई है, अब वह आपको चुनने की चूक नहीं करेगी और झूठे वादों में नहीं फंसेगी। इस पूरे विवाद की शुरुआत गजेंद्र सिंह शेखावत के बयान से हुई। जयपुर के चौमूं में एक सभा में गजेंद्र सिंह ने कहा कि राजस्थान में सचिन पायलट से चूक हो गई। यदि 2020 में मध्यप्रदेश के विधायकों ने जैसा फैसला किया, उसी तरह राजस्थान में हो गया होता तो आज 13 जिले प्यासे नहीं होते और ईस्टर्न कैनाल प्रोजेक्ट पर काम चालू हो चुका हाेता।

सोमवार रात जयपुर के चौमूं में BJP की जनआक्रोश रैली की सभा को केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा- गहलोत ERCP पर केवल राजनीतिक फायदे के लिए कुंडली मारकर बैठे हैं। 13 जिलों के प्यासे कंठों की प्यास बुझाने के लिए राजस्थान सरकार को प्रोजेक्ट में संशोधन करके भारत सरकार को भेजना है। शेखावत ने कहा कि सरकार संशोधन करके आज भेज दे, तो 2 महीने में इस योजना को लागू करवा दूंगा। अगर ये (गहलोत सरकार) दो महीने में नहीं भेजेंगे, तो आप 2023 में इनको भेज देना। उसके बाद में अपनी (BJP) सरकार आएगी, वो इसको लागू करवा देगी। इन 13 जिलों के लोगों को मैं कहना चाहता हूं कि ये सरकार केवल राजनीति करना चाहती है।

गजेंद्र शेखावत के आरोपों पर सचिन पायलट ने कहा कि ERCP (ईस्टर्न राजस्थान कैनाल प्रोजेक्ट) में बीजेपी ने राजस्थान के साथ वादाखिलाफी की है। वे अपनी विफलता का ठीकरा जनता पर फोड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान के मंत्री होने के बावजूद शेखावत अपने गृह राज्य की राज्य की मांग पूरी नहीं कर पा रहे हैं, जबकि प्रधानमंत्री ने मंच से घोषणा की थी कि ERCP प्रोजेक्ट शुरू किया जाएगा। सरकार की कमी को दूर करने की बजाय उस गलती को छिपाने के लिए मंत्री जुटे हुए हैं। गलती ताे जनता से हो गई कि वह बीजेपी के झूठे वादों में फंस गई।

केंद्र के मंत्री तोते की तरह झूठा प्रचार करने में लगे पायलट ने कहा कि पहले किसान कृषि बिल की पूरी सरकार ने तोते की तरह प्रशंसा की और बाद में माफी मांग कर बिल वापस ले लिया, लेकिन हमने इतने किसानों को खोया, इसे देश माफ नहीं करेगा। अब अग्निपथ योजना में केंद्र सरकार ने जिस तरह से नौजवानों के साथ छल किया है, उससे पूरे देश का मनोबल कम हुआ है। भारत माता की सेवा करने वाले नौजवान पूरे देश में आक्रोशित हैं तो केंद्र के सभी मंत्री और नेता फिर तोते की तरह योजना का झूठा प्रचार करने में लगे हैं।

पायलट ने कहा कि सरकार को इन सब पर सोचना चाहिए क्योंकि जनता को तो समझ आ गया है कि उनसे क्या गलती हुई है। उन्होंने कहा कि ERCP को लेकर राज्य सरकार और सभी कांग्रेसी एकजुट हैं। राजस्थान के हित में जल संसाधन मत्री और पूरी बीजेपी राजनीति करने की बजाय निराकरण करवाए। हम सब मिलकर यह योजना पूरी कर सकते हैं। पायलट ने कहा कि देश में केंद्र सरकार के दमन से जनता पीड़ित है। एंफोर्समेंट डायरेक्ट्रेट(ईडी) और सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इनवेस्टिगेशन (सीबीआई) के नाम पर डराया धमकाया जा रहा है। प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार कुछ लोगों के स्वार्थ के बजाय आम जनता का हित सोचे।

Must Read: प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षण शिविर में दस जुलाई से माउंट आबू में जुटेगी भाजपा

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :