राजस्थान: प्रेमिका से मिलने भाई के नाते ससुराल आता प्रेमी और फिर... दुल्हन हम ले जाएंगे

प्रेमी अपनी प्रेमिका से मिलने उसके ससुराल में भाई के नाते आता और अपनी प्रेम की लीला कर चला जाता।

प्रेमिका से मिलने भाई के नाते ससुराल आता प्रेमी और फिर... दुल्हन हम ले जाएंगे
Demo Pic

सीकर | राजस्थान में दो प्रेमियों की अलग ही कहानी सामने आई है। जिसमें प्रेमी अपनी प्रेमिका से मिलने उसके ससुराल में भाई के नाते आता और अपनी प्रेम की लीला कर चला जाता। सुसराल में दुल्हन भी नई नवेली थी तो किसी को उस पर शक भी नहीं हुआ कि आखिर माजरा क्या है। ऐसे करते करते ही प्रेमी भाई बन नई नवेली दुल्हन को ले उड़ा। ये मामला राजस्थान के सीकर जिले से सामने आया है। 

जानकारी के अनुसार, सीकर जिले के बाजौर में रहने वाले पीड़ित खेमचंद ने एसपी को इस मामले में शिकायत दी है जिसमें कहा गया कि, पिछले महीने 10 जुलाई को उसकी शादी चीपलाटा गांव निवासी कृष्णा से हुई थी। शादी के तीन दिन बाद नई नवेली दुल्हन अपने पिता के साथ पीहर गई थी। उसी रात उसके गांव के श्रीराम जाट ने पीड़ित को फोन कर अपनी पत्नी को भूल जाने की बात कही और धोस जमाते हुए थोई थानाधिकारी से खुद की जान-पहचान होने की धमकी देते हुए ऐसा नहीं करने पर झूठे मुकदमे में फंसाने की बात कही। 

सिंजारे पर बहू से मिलने गए तो खुला राज
पीड़ित के अनुसार, 30 जुलाई को उसके पिता सिंजारे पर अपनी बहू से मिलने गए तो बहू अपने पीहर से गायब थी। जिसके बाद कई लोगों से जानकारी मिली की बहू तो अपने प्रेमी के श्रीराम के साथ भाग गई है।

ये भी पढ़ें:-  सूत्रों का दावा: मान गए तो राहुल, नहीं तो सीएम अशोक गहलोत को मिल सकती है कांग्रेस अध्यक्ष पद की कमान!

भाई बनकर शादी में शामिल हुआ था प्रेमी
पीड़ित ने शिकायत में बताया कि श्रीराम सगाई के बाद से ही कृष्णा को अपनी बहन बताते हुए उसके घर आने-जाने लगा था। वह शादी में भी शामिल हुआ था। लेकिन, शादी होने के तीन दिन बाद ही वह दुल्हन कृष्णा को भगा ले गया। पीड़ित का आरोप है कि, नई नवेली दुल्हन कृष्णा घर से 22 हजार रुपए व गहने भी साथ ले गई थी।

ये भी पढ़ें:- मानसिक विमंदित बालिका पुनर्वास गृह: संचालिका समेत 2 गिरफ्तार, पुलिस ने पीड़िता के कोर्ट में दर्ज करवाए बयान

पीड़ित का आरोप, पुलिस नहीं किया सहयोग
पीड़ित ने इस मामले में थोई थाना पुलिस के आरोपियों के साथ मिलीभगत का आरोप भी लगाया है। इस घटना के बाद जब वे पुलिस के पास गए तो पुलिस ने उनका कोई सहयोग नहीं किया। हालांकि, इस मामले में बोलते हुए थोई थानाधिकारी ने इन सभी आरोपों को गलत बताया है। 

Must Read: कालंद्री थानाधिकारी क्यों नही करती पीड़ितों की एफआईआर दर्ज, बार बार कालंद्री क्षेत्र के पीड़ित ही एफआईआर दर्ज क्यों पहुंचते हैं एसपी कार्यालय?

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :