जिला परिषद चुनाव-2020: जालोर में एक बार फिर बीजेपी का बनेगा जिला प्रमुख, बीजेपी 19 और कांग्रेस 12 सीटों पर जीते

जिले में पंचायतीराज संस्थाओं के आम चुनाव 2020 के तहत मंगलवार को वीर वीरमदेव राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में हुई जिला परिषद सदस्य चुनाव की मतगणना में जिला परिषद के कुल 31 निर्वाचन क्षेत्रों में से भारतीय जनता पार्टी के 19 एवं कांग्रेस के 12 उम्मीदवार जीते। अब यहां बीजेपी का जिला प्रमुख बनना तय माना जा रहा है।

जालोर में एक बार फिर बीजेपी का बनेगा जिला प्रमुख, बीजेपी 19 और कांग्रेस 12 सीटों पर जीते

जालोर | जिले में पंचायतीराज संस्थाओं के आम चुनाव 2020 के तहत मंगलवार को वीर वीरमदेव राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में हुई जिला परिषद सदस्य चुनाव की मतगणना में जिला परिषद के कुल 31 निर्वाचन क्षेत्रों में से भारतीय जनता पार्टी के 19 एवं कांग्रेस के 12 उम्मीदवार जीते। अब यहां बीजेपी का जिला प्रमुख बनना तय माना जा रहा है। जालोर जिले में सबसे पहले जिले की दस पंचायत समितियों के परिणाम जारी हुए। यहां कई स्थानों पर मुकाबले नजदीक रहे तो कई पर त्रिकोणीय संघर्ष रहा। आहोर और रानीवाड़ा में कांग्रेस ने भारी बहुमत से जीत हासिल करते हुए बड़े अंतराल से सीटें जीती है। जबकि सांचौर, सायला, भीनमाल व बागोड़ा में भाजपा ने बहुमत प्राप्त किया है। इसी प्रकार चितलवाना, जालोर, जसवंतपुरा और सरनाउ में नजदीकी पेंच में फंस गई है। अब देखना यह है कि इन सीटों पर जोड़ तोड़ करके प्रधान पद पर कौन काबिज हो पाता है।

जिला परिषद सदस्य आम चुनाव-2020 के रिटर्निंग ऑफिसर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि जिला परिषद सदस्य आम चुनाव 2020 के तहत कुल 31 निर्वाचन क्षेत्रों में से 19 निर्वाचन क्षेत्रों में भारतीय जनता पार्टी तथा 12 निर्वाचन क्षेत्रों में इण्डियन नेशनल कांग्रेस के अभ्यर्थी विजयी हुए। निर्वाचन क्षेत्र सं. 1 में आईएनसी के कमलेश, निर्वाचन क्षेत्र सं. 2 में बीजेपी के प्रवीण, निर्वाचन क्षेत्र सं. 3 में बीजेपी की राधा, निर्वाचन क्षेत्र सं. 4 में बीजेपी के जयन्तिलाल, निर्वाचन क्षेत्र सं. 5 में बीजेपी के महेन्द्र चौधरी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 6 में आईएनसी के प्रवीण कुमार, निर्वाचन क्षेत्र सं. 7 में आईएनसी की माया कुमारी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 8 में आईएनसी की रमीला कुमारी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 9 में बीजेपी के हरीशचन्द्र राणावत, निर्वाचन क्षेत्र सं. 10 में बीजेपी की मनीषा देवी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 11 में आईएनसी की हवन कुंवर, निर्वाचन क्षेत्र सं. 12 में आईएनसी की लक्ष्मी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 13 में आईएनसी के मांगीलाल, निर्वाचन क्षेत्र सं. 14 में बीजेपी के गोपाल एवं निर्वाचन क्षेत्र सं. 15 में बीजेपी की शान्ति देवी विजयी हुई।

 
इसी प्रकार निर्वाचन क्षेत्र सं. 16 में बीजेपी की दरिया देवी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 17 में बीजेपी की पेपी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 18 में बीजेपी की गुलाबी देवी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 19 में आईएनसी के रामाराम चौधरी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 20 में बीजेपी की रेखा कंवर निर्विरोध निर्वाचित, निर्वाचन क्षेत्र सं. 21 में बीजेपी की धौली देवी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 22 में आईएनसी की सजनी देवी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 23 में आईएनसी के मोडाराम, निर्वाचन क्षेत्र सं. 24 में आईएनसी की निकिता, निर्वाचन क्षेत्र सं. 25 में बीजेपी की सुखी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 26 में बीजेपी की रतन कंवर, निर्वाचन क्षेत्र सं. 27 में बीजेपी की उषा देवी, निर्वाचन क्षेत्र सं. 28 में बीजेपी के रमेश, निर्वाचन क्षेत्र सं. 29 में बीजेपी के राजेश कुमार, निर्वाचन क्षेत्र सं. 30 में बीजेपी की सुशीला एवं निर्वाचन क्षेत्र सं. 31 में आईएनसी के मांगीलाल विजयी हुए।

जिले में तीन विधायकों के उल्टे आए परिणाम...
उल्लेखनीय है कि जिले में पांच विधानसभा सीटों में चार पर भाजपा व एक पर कांग्रेस काबिज है। यहां पांचों में से तीन विधायकों के लिए पंचायतराज के परिणाम ठीक नहीं कहे जा सकते। जहां कांग्रेस के विधायक है, उस सांचौर बेल्ट में भाजपा ने कांग्रेस को बड़ी शिकस्त दी है। सांचौर में भाजपा ने काफी सीटें जीती है, वहीं चितलवाना में भी मुकाबला कड़ा रहा। पंचायतराज के यह परिणाम जिले से सांचौर से कांग्रेस के एकमात्र विधायक व सरकार में वनमंत्री सुखराम विश्नोई के लिए ठीक नहीं कहे जा सकते। इसी प्रकार आहोर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के विधायक छगनसिंह राजपुरोहित के लिए भी यह परिणाम चिंताजनक है। आहोर क्षेत्र में कांग्रेस ने एकतरफा जीत हासिल करते हुए 17 सीटों पर विजयी हासिल की है। जबकि भाजपा को केवल 6 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा। वहीं बात रानीवाड़ा की करें तो विधानसभा क्षेत्र की रानीवाड़ा पंचायत समिति में कांग्रेस ने एकतरफा जीत हासिल करते हुए 22 सीटें हासिल की है। भाजपा को केवल 5 सीट ही मिल पाई है। हाल ही में भाजपा में प्रदेश उपाध्यक्ष का पद हासिल करने वाले नारायणसिंह देवल के लिए यह अच्छे संकेत नहीं कहे जा सकते।


यह रहा जालोर पंचायती राज चुनावी समीकरण
यहां जालोर में बीजेपी 9 और कांग्रेस 8 स्थानों पर विजयी रही। वहीं इसी तरह चितलवाना
में क्रमश : 8 और 9, आहोर में 6 और 17 सायला में 14 तथा 9 सीटों पर दोनों पार्टियों ने जीत हासिल की। आहोर सीट पर दो 2 निर्दलीयों ने भी बाजी मारी। इसी तरह सांचौर में बीजेपी 15 और कांग्रेस 9, सरनाऊ में भाजपा 7 , कांग्रेस 7 तथा निर्दलीय 1 स्थान पर काबिज हो पाया। रानीवाड़ा में भाजपा 5 और कांग्रेस 22, जसवंतपुरा में क्रमश : 9 और 10 भीनमाल में 13 , कांग्रेस 5 और निर्दलीय 3, बागोड़ा में भाजपा 14, कांग्रेस 8 तथा निर्दलीय 1 प्रत्याशी ने जीत का परचम लहराया।

सायला की हॉट सीट पर निर्दलीय ने मारी बाजी
इस बार सायला पंचायत समिति का प्रधान पद सामान्य महिला के लिए आरक्षित है। भाजपा ने यहां वरिष्ठ भाजपाई के परिवार से वीरी देवी को उम्मीदवार बनाया। जिन्हें प्रधान के दावेदार मान रहे थे। लेकिन स्थानीय लोगों का मानस इनके साथ नहीं था। प्रधान पद महिला होने के चलते यहां कांग्रेस ने भी युवा मुस्लिम नेता की पत्नी को टिकट दे दिया। इधर, ग्रामीणों ने मिलकर जब्बरसिंह चौहान को निर्दलीय खड़ा कर दिया था। लिहाजा परिणाम यह रहा कि निर्दलीय ने बाजी मार ली।

Must Read: माउंट आबू के इको-सेंसिटिव जोन पर राजस्थान HC का केंद्र और राज्य को नोटिस

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :