Good News: जालोर: मांडोली में अतिरिक्त संकाय विज्ञान वर्ग की स्वीकृति जारी, ग्रामवासियों में खुशी की लहर

जालोर जिले में रामसीन निकटवर्ती ग्राम मांडोली में राज्य सरकार द्वारा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में अतिरिक्त संकाय के रूप में विज्ञान वर्ग की प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति जारी होने के बाद से ग्रामवासियों में खुशी की लहर है।

जालोर: मांडोली में अतिरिक्त संकाय विज्ञान वर्ग की स्वीकृति जारी, ग्रामवासियों में खुशी की लहर

जालोर | राजस्थान के जालोर जिले में रामसीन निकटवर्ती ग्राम मांडोली में राज्य सरकार द्वारा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में अतिरिक्त संकाय के रूप में विज्ञान वर्ग की प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति जारी होने के बाद से ग्रामवासियों में खुशी की लहर है। गावं के सभी लोग राज्य सरकार व स्थानीय जनप्रतिनिधियों का आभार जता रहे है।

लंबे समय से उठ रही थी मांग
ग्राम मांडोली व यहां पढ़ने वाले अन्य गांवों के छात्रों के अभिभावक लंबे समय से अतिरिक्त संकाय के रूप में विज्ञान वर्ग की स्वीकृति की मांग राज्य सरकार से कर रहे थे और स्थानीय जनप्रतिनिधियों के माध्यम से ज्ञापन भी दिया था। गांव में बनी युवाओं की हनुमान सेवा समिति भी पिछले 2 वर्षों से स्थानीय विद्यालय में विज्ञान वर्ग खोलने की मांग जनप्रतिनिधियों से कर रही थी।

विज्ञान संकाय में अध्ययन करना चाहते हैं विद्यार्थी
ग़ौरतलब है कि स्थानीय विद्यालय में सत्र 2021-22 में कुल 550 विद्यार्थी अध्यनरत है। जिसमें कक्षा 10 में 115 विद्यार्थी अध्ययन कर रहे हैं। इनमें से अधिकांश विद्यार्थी विज्ञान संकाय (जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान) में अध्ययन करने के इच्छुक है। आस पास के अधिकांश गांवों के विद्यार्थी भी विज्ञान संकाय में अध्ययन करने के इच्छुक है। लेकिन ब्लॉक जसवंतपुरा में मात्र दो विद्यालयों में ही विज्ञान संकाय है। जिनकी दूरी 35 किलोमीटर से अधिक है। 

ये भी पढ़ें:- अलवर: उदयपुर घटना का वीडियो देखना पड़ा भारी, मारपीट के बाद गांव में तनाव

विद्यार्थियों ने 10वीं में प्राप्त किए 96.33 प्रतिशत अंक 
इस वर्ष कक्षा 10वीं में 42 बच्चों के 60 प्रतिशत से अधिक अंक है और टॉपर विद्यार्थी ने 96.33 प्रतिशत अंक प्राप्त किये हैं। वहीं द्वितीय व तृतीय स्थान पर रहने वाले छात्रों ने भी क्रमशः 93 प्रतिशत व 91 प्रतिशत अंक हासिल किये हैं। ये सभी छात्र विज्ञान विषय लेना चाहते है लेकिन, स्थानीय विद्यालय में विज्ञान संकाय नहीं होने से इन छात्रों को मजबूरन आर्ट्स (कला) विषय लेना पड़ रहा था। हालांकि, अब स्थानीय विद्यालय में अतिरिक्त संकाय के रूप में विज्ञान वर्ग की स्वीकृति जारी होने से इन बच्चों को अन्ययत्र नहीं जाना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें:- जयपुर एयरपोर्ट पर तीन महिलाएं गिरफ्तार, करने जा रही थी कुछ ऐसा काम

इस संबंध में स्थानीय गांव के अध्यापक राजेन्द्र सिंह मांडोली ने अतिरिक्त संकाय विज्ञान वर्ग की प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति जारी होने पर राज्य सरकार व स्थानीय जनप्रतिनिधियों का आभार जताते हुए कहा है कि, मांडोली में विज्ञान संकाय खुलने से न केवल स्थानीय बल्कि आस-पास के गांव के छात्रों को भी फायदा होगा।

Must Read: 7 जिलों में बाढ़ के हालात, गांव बने टापू, धौलपुर में 27 अगस्त तक स्कूलों में अवकाश, सेना बचा रही लोगों को

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :