Sirohi माउंट का शरद महोत्सव में अश्लीलता: Mount Abu के शरद महोत्सव में नगर पालिका ने सजाई अश्लीलता की शाम,सरकारी कार्यक्रम में भोंडा प्रदर्शन

नगरपालिका माउंट आबू के नेताओं ने यहां अश्लीलता परोस कर सारी गरिमा तार तार कर दी। अश्लीलता का यह सार्वजनिक संदेश दूरगामी परिणाम ला सकता है।

Mount Abu के शरद महोत्सव में नगर पालिका ने सजाई अश्लीलता की शाम,सरकारी कार्यक्रम में भोंडा प्रदर्शन


माउंट आबू।
माउंट आबू नगर पालिका की ओर से आयोजित शरद महोत्सव इस बार लोगों की जुबां पर आ गया। पहले जहां कवि सम्मेलन में कवि कुमार विश्वास द्वारा राजस्थान के ऐतिहासिक तथ्यों को मनगढ़त तौर से पेश करने पर जानकारों ने इसकी काफी निंदा की, वहीं अब न्यू ईयर सेलिब्रेशन के नाम पर शरद महोत्सव में अश्लीलता परोसने का मामला लोगों की जुबां पर चढ़ गया। 
अपनी खूबसूरत वादियों और हसीन मौसम के चलते पर्यटकों को आकर्षित करता माउंट आबू अब अल्कोल टूरिज्म की ओर बढ़ रहा है। ऐसे में अब आधुनिकता के नाम पर सरकारी कार्यक्रम में अश्लीलता से इस नगरी पर बदनामी का दाग ना लग जाए। 
जानकारी के मुताबिक राजस्थान सरकार के पर्यटन विभाग, जिला प्रशासन और माउंट आबू नगर पालिका की ओर से शरद महोत्सव आयोजित किया गया। 
तीन दिवसीय महोत्सव का आगाज 29 दिसंबर से किया गया। इस बार नगरपालिका के नेताओं ने यहां अश्लीलता परोस कर सारी गरिमा तार तार कर दी। अश्लीलता का यह सार्वजनिक संदेश दूरगामी परिणाम ला सकता है। 
ऐसे में आने वाले समय में यहां आने वाला पर्यटक, होटलों में कोई ' डिमांड ' करता हैं तो इसमें कोई आश्चर्य नहीं होगा।
अरावली रंगमंच से बॉलीवुड नाइट के नाम पर जिस तरह का नृत्य पर्यटकों को दिखाया गया, वो हमारे नगर पालिका के नेताओं की मानसिकता को दर्शाता है।

ऐसे में मन में कई विचार और सवाल भी उठ रहे है। हम पर्यटकों को क्या संदेश देना चाहते हैं ?,
क्या है माउंट आबू ?,  क्या माउंट आबू का टूरिज्म अश्लीलता के नाम पर प्रमोट किया जाएगा?
जिन्हें यह तय करना है वह खुद अश्लीलता के इस कार्यक्रम का हिस्सा है।
यह पूरा कार्यक्रम नगर पालिका द्वारा आयोजित था। नगरपालिका पर पर्दे के पीछे से किसका कब्जा है यह सभी जानते हैं। इस शर्मनाक स्थिति से उबरने के लिए कई परिवार कार्यक्रम बीच में छोड़कर चले गए। इससे पहले आयोजक नेताओं ने स्थानीय स्तर पर चल रहे फैशन शो के कार्यक्रम को बीच में रोक दिया।


इस बात का दबाव डाला गया कि पहले अभद्र नृत्यों की यह श्रृंखला शुरू होनी चाहिए । 
जनता के पैसों पर अश्लीलता परोसने का अधिकार नेताओं को कैसे मिल गया इस बात की गहन पड़ताल होनी चाहिए।
इस बॉलीवुड नाइट में न सिर्फ अभद्र नृत्य हुए बल्कि आज खुली पोशाकों से अश्लीलता प्रदर्शित की गई, इधर देह दर्शन को लालायित नेता वहां बैठकर तालियां बजाते रहे। वहां बुलाई गई सेलिब्रिटी ने बार-बार हरामखोर जैसे शब्दों का उच्चारण कर एक अलग ही मिसाल पेश की जिसकी भर्त्सना की जानी चाहिए।

Must Read: Corona के चलते प्रदेश में 17 जनवरी से शुरू होने वाले 12वीं बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षा स्थगित

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :