Rajasthan कोरोना वैक्सीनेशन पर सख्ती: राजस्थान में कोरोना को लेकर नई गाइड लाइन आज से लागू, बाजार रात 10 बजे तक तो 10वीं से 12वीं तक स्कूलें 1 फरवरी से खुलेंगी

राज्य में कोरोना की पाबंदियों में आज से कुछ हद तक छूट मिलेगी। कोरोना गाइड लाइन के नए प्रावधान आज से लागू हो जाएंगें। जहां आज से बाजार रात 10 बजे तक खुल सकेंगें, वहीं वीकेंड कर्फ्यू से भी अब छूट मिल जाएगी। 

राजस्थान में कोरोना को लेकर नई गाइड लाइन आज से लागू, बाजार रात 10 बजे तक तो 10वीं से 12वीं तक स्कूलें 1 फरवरी से खुलेंगी

जयपुर। 
राज्य में कोरोना की पाबंदियों में आज से कुछ हद तक छूट मिलेगी। कोरोना गाइड लाइन के नए प्रावधान आज से लागू हो जाएंगें। जहां आज से बाजार रात 10 बजे तक खुल सकेंगें, वहीं वीकेंड कर्फ्यू से भी अब छूट मिल जाएगी। 
हालांकि बाजारों में लोगों को कोविड की पालना करनी होगी। इसमें लापरवाही पर प्रशासन की ओर से आप पर जुर्माना लगाया जा सकता है। वहीं दूसरी ओर 1 फरवरी से 10वीं से लेकर 12वीं तक स्कूलें खुल जाएगी। 
इसके साथ ही 1 फरवरी से हर संस्था, फर्म, दुकान के लिए अपने यहां काम करने वाले लोगों के वैक्सीन के बारे में सूचना बोर्ड पर चस्पा करनी होगी। 
इसमें कर्मचारियों के सिंगल और डबल डोज दोनों की अलग—अलग जानकारी देनी होगी। इसके साथ ही कितने कर्मचारियों ने वैक्सीन नहीं लगाई है, इसकी भी जानकारी देनी होगी। 
अगर किसी संस्था की ओर से ऐसा नहीं किया गया तो उसके खिलाफ महामारी एक्ट में कार्रवाई हो जाएगी। 
शादी—समारोह में 100 लोगों की लिमिट
सरकार की ओर से जारी गाइड लाइन के मुताबिक अब शादियों में लोगों की लिमिट बढ़ाकर 100 कर दी गई हैं। 100 लोगों में बैंड वाले शामिल नहीं होंगे। 
वहीं शहरी क्षेत्रों में प्रदर्शन, धरने, रैली और जुलूस सहित धार्मिक, सामाजिक कार्यक्रमों में 100 लोग शामिल हो सकेंगे। 

कोरोना वैक्सीनेशन में टारगेट अभी दूर
राजस्थान सरकार ने 31 जनवरी तक सभी को वैक्सीन लगाने का टारगेट रखा था, लेकिन इसके विप​रीत प्रदेशभर में अब तक 23 ऐसे जिले हैं, जहां वैक्सीन की सिंगल डोज का भी टारगेट पूरा नहीं किया गया। 
प्रदेश में केवल एक मात्र जिला प्रतापगढ़ है, जहां 18 साल से अधिक वाले आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीनेशन लगाई जा चुकी है। 
नए साल पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना की दोनों डोज लगाने के लिए 1 माह का समय दिया था। 
इसके बाद सरकार की ओर से सख्ती शुरू करने की भी निर्देश दिए थे। इसमें सरकारी सुविधाओं को रोकने या अन्य सख्ती हो सकती है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक जयपुर, बूंदी, सीकर, उदयपुर, सवाई माधोपुर, कोटा, अलवर, चित्तौड़गढ़ और हनुमागढ़ ऐसे जिले है, जहां 18 साल या इससे अधिक उम्र के लोगों को पहली डोज लगाई जा चुकी है। 
जबकि अजमेर जिले में करीबन 30 हजार से अधिक लोगों को पहली डोज तक नहीं लगी। राजस्थान में 6 जिले ऐसे है, जहां टारगेट ग्रुप के 90 फीसदी लोगों को भी वैक्सीन की सिंगल डोज नहीं लगी।

Must Read: सचिन पायलट जल्द होंगे हमारे !

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :