Punjab@ नए मुख्यमंत्री ने ली शपथ: पंजाब में नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने सीएम तो रंधावा और सोनी ने ली डिप्टी सीएम की शपथ, राहुल गांधी के इंतजार में 22 मिनट देरी से शुरू हुआ समारोह

पंजाब में विधायक दल के नेता चरणजीत सिंह चन्नी ने आज राज्य के 17वें मुख्यमंत्री की शपथ ली। चन्नी के साथ पंजाब के दो डिप्टी सीएम ने भी शपथ ली। डिप्टी सीएम के तौर पर सुखजिंदर सिंह रंधावा और ओपी सोनी को भी शपथ दिलाई गई। पंजाब में पहली बार दो डिप्टी सीएम बनाए गए हैं।

पंजाब में नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने सीएम तो रंधावा और सोनी ने ली डिप्टी सीएम की शपथ, राहुल गांधी के इंतजार में 22 मिनट देरी से शुरू हुआ समारोह

नई दिल्ली, एजेंसी। 
पंजाब में विधायक दल के नेता चरणजीत सिंह चन्नी(Charanjit Singh Channi) ने आज राज्य के 17वें मुख्यमंत्री की शपथ ली। चन्नी के साथ पंजाब के दो डिप्टी सीएम ने भी शपथ ली। डिप्टी सीएम के तौर पर सुखजिंदर सिंह रंधावा(Sukhjinder Singh Randhawa) और ओपी सोनी (OP Soni) को भी शपथ दिलाई गई। पंजाब में पहली बार दो डिप्टी सीएम बनाए गए हैं। वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण राहुल गांधी(Rahul Gandhi) के इंतजार में 22 मिनट देरी से शुरू हुआ। शपथ ग्रहण समारोह 11 बजे शुरू होना था,लेकिन राहुल गांधी के नहीं पहुंचने के चलते कार्यक्रम रोक दिया गया। इसके बाद राहुल गांधी राजभवन पहुंचे तो CM की शपथ दिलाई गई। वहीं पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह शपथ ग्रहण समारोह में नहीं पहुंचे।

पंजाब के पहले दलित सीएम
17वें मुख्यमंत्री की शपथ लेने के साथ ही चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री बन गए हैं। वहीं कांग्रेस पार्टी ने जट्टसिख कम्युनिटी से सुखजिंदर सिंह रंधावा और हिंदू नेता के तौर पर ओपी सोनी को डिप्टी सीएम बनाकर दोनों वोट बैंक को साधा। वहीं सोनी से पहले ब्रह्ममोहिंदरा का नाम तय बताया जा रहा था, लेकिन ये कैप्टन ग्रुप के होने के चलते अंतिम समय में इनका नाम डिप्टी सीएम की लिस्ट से हटा दिया गया।

सीएम की शपथ के बाद अब मंत्रिमंडल पर नजर
पंजाब में मुख्यमंत्री की शपथ ग्रहण समारोह के बाद अब सभी की नजर मंत्रिमंडल के विस्तार पर रहेगी। मुख्यमंत्री चन्नी अब तक राज्य की तकनीकी शिक्षा मंत्री थे, अब सीएम बनने के बाद उनके पास कौन सा मंत्रालय रहेगा और डिप्टी सीएम को कौनसी ​जिम्मेदारी दी जाएगी। अब कैप्टन के मंत्रिमंडल में से किस का पत्ता कटेगा और किस को नया मंत्री बनाया जाएगा, इस को लेकर कांग्रेस आलाकमान के निर्देशों की पालना की जाएगी।
पंजाब में 5 माह बाद चुनाव, कांग्रेस का मास्टर स्ट्रोक
पंजाब में पांच माह बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में कांग्रेस की ओर से दलित मुख्यमंत्री बनाकर 32 प्रतिशत दलित आबादी  को अपने पक्ष में करने का प्रयास किया है। चन्नी दलित नेता होने के साथ ही सिख समाज से होने का कांग्रेस पार्टी को सियासी लाभ मिल सकता हैं। इसमें विशेष तौर पर पंजाब के दोआबा क्षेत्र में कांग्रेस का दबदबा बढ़ सकता है। वहीं दूसरी ओर रंधावा को डिप्टी सीएम बनाकर जट्ट सिख कम्युनिटी को नाराज नहीं किया गया। जट्ट सिख अकाली दल का वोट बैंक माना जाता है। 

Must Read: तहलका मैगजीन के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल को गोवा सेशन कोर्ट ने किया बरी

पढें दिल्ली खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :