President कोविंद की बांग्लादेश यात्रा: India and Bangladesh के लोगों के बीच आध्यात्मिक व सांस्कृतिक बंधन का एक प्रतीक है ढाका का ऐतिहासिक रमना काली मंदिर: राष्ट्रपति कोविन्द

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कांग्लादेश की यात्रा पर हैं। यात्रा के अंतिम दिन राष्ट्रपति कोविंद ने बांग्लादेश के ढाका में भारतीय समुदाय और भारत के मित्रों के स्वागत समारोह में शामिल हुए। बांग्लादेश में भारत के उच्चायुक्त विक्रम कुमार ने इस समारोह की मेजबानी की। 

India and Bangladesh के लोगों के बीच आध्यात्मिक व सांस्कृतिक बंधन का एक प्रतीक है ढाका का ऐतिहासिक रमना काली मंदिर: राष्ट्रपति कोविन्द

नई दिल्ली, एजेंसी। 
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बांग्लादेश की यात्रा पर हैं। यात्रा के अंतिम दिन राष्ट्रपति कोविंद ने बांग्लादेश के ढाका में भारतीय समुदाय और भारत के मित्रों के स्वागत समारोह में शामिल हुए। 
बांग्लादेश में भारत के उच्चायुक्त विक्रम कुमार ने इस समारोह की मेजबानी की। 
समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा ​कि इससे ठीक पहले उन्हें ढाका में नवीनीकृत ऐतिहासिक रमना काली मंदिर का उद्घाटन करने का सौभाग्य मिला है। 
राष्ट्रपति ने इस बात का उल्लेख किया कि बांग्लादेश और भारत की सरकार व लोगों ने उस मंदिर के फिर से निर्माण करने में सहायता की। 
इस मंदिर को मुक्ति संग्राम के दौरान पाकिस्तानी सेना ने ध्वस्त कर दिया था।


इतना ही नहीं, उस दौरान हमलावरों की संख्या अधिक होने पर बड़ी संख्या में लोगों की हत्या तक की गई थी। 
रमना काली मंदिर भारत और बांग्लादेश के लोगों के मध्य  आध्यात्मिक व सांस्कृतिक बंधन का एक प्रतीक है।
उन्होंने कहा कि बांग्लादेश के प्रति भारतीयों के दिल में विशेष स्थान हैं। इसके चलते दोनों देशों के बीच एक अद्वितीय घनिष्ठ संबंध है। यह संबंध हमारी सदियों पुरानी रिश्तेदारी और साझी भाषा व संस्कृति पर आधारित है। 
भारत—बांग्लादेश के बीच संबंधों को यहां के कुशल नेतृत्व ने आगे भी बढ़ाया है।
राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि एक प्रगतिशील, समावेशी, लोकतांत्रिक और समरसतापूर्ण समाज के बांग्लादेश के मूलभूत मूल्यों को बनाए रखना प्रधानमंत्री शेख हसीना के प्रमुख योगदानों में से एक रहा है।
उन्होंने आगे आश्वासन दिया कि भारत उस बांग्लादेश के समर्थन में खड़ा रहेगा, जो इस देश के मुक्ति आंदोलन से उत्पन्न मूल्यों का प्रतीक है।
उन्होंने दोनों पक्षों के व्यापारिक समुदायों से विशेष रूप से बांग्लादेश और भारत के उत्तर पूर्वी क्षेत्र के बीच व्यापार व आर्थिक संबंधों को नई ऊंचाइयों तक ले जाने के लिए इस अवसर का लाभ उठाने का आग्रह किया। 
राष्ट्रपति ने कहा कि भारतीय नागरिकों ने विभिन्न महत्वपूर्ण क्षेत्रों में अपनी पहचान बनाई है। 
उन्होंने बांग्लादेश के आर्थिक और सामाजिक विकास में योगदान देने के साथ भारत-बांग्लादेश की दीर्घ कालिक घनिष्ठ द्विपक्षीय संबंधों को भी मजबूत किया है। 
भारतीय समुदाय हमारे क्षेत्र में समृद्धि लाकर भारत को गौरवान्वित कर रहा है। 

Must Read: विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर जारी की चेतावनी, ओमिक्रॉन को नजरअंदाज नहीं करें जनता

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :