जालोर में अवैध बजरी खनन: जालोर के रामसीन पुलिस थाना इलाके में कोटकास्ता नदी में दिन दहाड़े चल रहा है बजरी खनन, शिकायत के बावजूद कार्रवाई नहीं

जिले के रामसीन थाना क्षेत्र के कोटकास्ता नदी से दिन रात अवैध बजरी का खनन हो रहा है। नदी से दिन दहाड़े सरेआम  बजरी माफिया ट्रैक्टर को भरवा रहे है। दिन भर में करीब 150 से 200 ट्रैक्टर बजरी के भर कर यहां से सप्लाई किए जा रहे है। इन्हे कोई रोकने टोकने वाला नहीं है। यह वजह है कि बजरी माफियाओं के हौंसले बढ़े हुए है....

जालोर के रामसीन पुलिस थाना इलाके में कोटकास्ता नदी में दिन दहाड़े चल रहा है बजरी खनन, शिकायत के बावजूद कार्रवाई नहीं

राजेन्द्रसिंह दूदौड़

जालोर।
जिले के रामसीन थाना क्षेत्र के कोटकास्ता नदी से दिन रात अवैध बजरी का खनन हो रहा है। नदी से दिन दहाड़े सरेआम  बजरी माफिया ट्रैक्टर को भरवा रहे है। दिन भर में करीब 150 से 200 ट्रैक्टर बजरी के भर कर यहां से सप्लाई किए जा रहे है। इन्हे कोई रोकने टोकने वाला नहीं है। यह वजह है कि बजरी माफियाओं के हौंसले बढ़े हुए है। पुलिस को शिकायत करने के बावजूद भी बजरी माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही है। जानकारी के मुताबिक कोटकास्ता नदी में बजरी माफिया स​क्रिय हो गए। बजरी माफिया बाजार में एक ट्रैक्टर को 1800 से 2000 हजार रुपए में बेच रहे है।  प्रतिदिन करीब 3 से 4 लाख रूपए बजरी का खनन कर बजरी माफिया लाखों रुपए कमा रहे है।
नदी में हो रहे गड्ढे
कोटकास्ता नदी में बजरी खनन से करीब 10 से 30 फीट तक गहरे गड्ढे हो गए है। बजरी खनन होने से नदी छलनी हो रही है। यही स्थिति रही तो नदी आने पर किसानों के कृषि कुंए रिचार्ज नहीं होंगे। नदी से बजरी भरवाने वाला लोडर मालिक पुलिस का भी ठेका लेता है। लोडर मालिक ट्रैक्टर चालाकों को गांरटी देता है कि पुलिस नहीं आएंगी। आराम से नदी से बजरी भर कर जाओं। पुलिस की गारंटी मेरी है।

अवैध खनन पर करेंगे कार्रवाई
कोटकास्ता नदी से बजरी खनन की जानकारी नहीं है। अगर बजरी खनन हो रहा है तो ट्रैक्टर व लोडर जब्त कर कार्रवाई करेंगे।
अरविन्द राजपुरोहित,

थानाधिकारी रामसीन  

Must Read:  3 महीने पहले युवती की संदिग्ध आत्महत्या के मामले में पुलिस की ढिलाई, पिता ने एसपी से मिल लगाए गंभीर आरोप

पढें जालोर खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :