सिरोही वाले माधव विश्वविद्यालय पर भी आंच: हिमाचल के राजकुमार राणा ने 17 राज्यों में बेच दी 36 हजार फर्जी डिग्रियां, पूरे देश में मचा हड़कंप, 11 साल में खड़ा किया 450 करोड़ का साम्राज्य

हिमाचल के राजकुमार राणा ने 17 राज्यों में बेच दी 36 हजार फर्जी डिग्रियां, पूरे देश में मचा हड़कंप, 11 साल में खड़ा किया 450 करोड़ का साम्राज्य
madhaw university sirohi

सिरोही | कैसे 11 साल तक एक संस्था हजारों लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ कर सकती है। कितने फर्जी डिग्री वाले देश में किन-किन पदों पर बैठे होंगे? ना जाने कितने लायक लोगों के हक फर्जी डिग्री से मारे गए होंगे और क्या अब उनकी भरपाई हो सकेगी? सवाल कई हैं, जिनके जवाब फिजाओं में नहीं है। नेताओं की जेबे भरी गईं या अफसरों की! यह तो पता नहीं परन्तु सिरोही माधव विश्वविद्यालय चलाने वाले राजकुमार राणा ने तो बहुत ही बड़ा खेल कर डाला है। इसी विश्वविद्यालय की सिस्टर कंसर्न सोलन में मानव भारती विश्वविद्यालय के कुल 41 हजार में से 80 फीसदी से ज्यादा छात्रों की डिग्री फर्जी है। मानव भारती चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष राजकुमार राणा ने सिर्फ 11 साल में 440 करोड़ का साम्राज्य खड़ा कर दिया।
मामले में शिमला की एपीजी यूनिवर्सिटी के खिलाफ भी जांच जारी है। इस मामले पर डीजीपी संजय कुंडू ने कहा कि उस पर भी जांच की जा रही है लेकिन फिलहाल प्राथमिकता मानव भारती केस है। उन्होंने कहा कि मानव भारती के मामले में अब तक 275 लोगों से पूछताछ की गई है। जिनमें मुख्य आरोपी राजकुमार राणा समेत कुल 8 लोग गिरफ्तार किए गए हैं जबकि 2 आरोपी न्यायिक हिरासत में हैं। इस मामले में ईडी ने जो संपत्ति अटैच की है उनमें राज कुमार राणा और उनके परिवार के सदस्यों के नाम दर्ज करीब 186 करोड़ रुपये की जमीन, रिहायशी घरों और व्यावसायिक भवनों के अलावा 7.72 करोड़ रुपये की 6 एफडी शामिल हैं। ईडी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत ये कार्रवाई की है। मानव भारती विवि के खिलाफ सोलन जिले के धर्मपुर थाने में 3 एफआईआर दर्ज हैं। सीआईडी के एडीजी एन वेणुगोपाल एसआईटी के अध्यक्ष हैं और उनके अंडर 4 टीमें जांच में जुटी हुई हैं। इसके अलावा प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग के अधिकारी भी जांच में शामिल हैं।

17 राज्यों में हड़कम्प
हिमाचल प्रदेश के सोलन में मानव भारती विश्वविद्यालय में हिमाचल पुलिस ने बड़े घोटाले का पर्दाफाश किया है। तार ​सिरोही से भी जुड़े हैं। हिमाचल के फर्जी डिग्री घोटाले से 17 राज्यों में हडकंप मच गया है। फर्जी डिग्रियों का ये घोटाला 194 करोड़ 17 लाख का बताया जा रहा है, इस मामले में एसआईटी की टीम ने 75 जगहों पर छापेमारी की और 275 लोगों से पूछताछ की। राजकुमार राणा मुख्य आरोपी के तौर पर गिरफ्तार किया गया है। घोटाले के तार 17 राज्यों तक फैले है। एसआईटी को अंदेशा है कि घोटाला और बड़ा भी हो सकता है। मानव भारती विश्वविद्यालय में ये डिग्री घोटाला कैसे हुआ। एसआईटी की टीम इसकी भी जांच करेगी।

80 फीसदी से ज्यादा छात्रों की डिग्री फर्जी
हिमाचल प्रदेश के सोलन में स्थित मानव भारती विश्वविद्यालय में घोटाले की ये कहानी लिखी गई. राजधानी शिमला में जब कल हिमाचल के सबसे बड़े पुलिस अधिकारी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की तो हड़कंप मच गया। डीजीपी संजय कुंडू और उनकी टीम मानव भारती विश्वविद्यालय मेंच ल रहे फर्जी डिग्री के घोटाले की एक एक तार खोलकर रख दिए।

कैश में होता था पूरा सौदा
प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान डीजीपी ने बताया कि पूरी डील कैश में होती थी। एक—एक डिग्री लाखों में बेची गई है। इस खेल का पता लगाने के लिए पुलिस को काफी मश्कक्त करनी पड़ी और 4 टीमों ने शानदार कार्य किया। इस मामले में जांच अब भी जारी है और पुलिस तह तक पहुंचने में कामयाब रहेगी। पुलिस इस एंगल पर भी जांच कर रही है कि फर्जीवाड़े में किस-किस ने मानव भारती विवि की मदद की है।

इनकी हुई है गिरफ्तारी
इस मामले में राजकुमार राणा के अलावा अनुपमा ठाकुर, पंजाब के रहने वाले मुनीष गोयल, पश्चिम बंगाल निवासी कृष्ण कुमार, करनाल के प्रमोद कुमार, दिल्ली के केवल शर्मा और जम्मू के रहने वाले एजेंट मनु सिंह को गिरफ्तार किया जा चुका है।

करनाल का रहने वाला है मुख्य आरोपी
डीजीपी ने बताया कि इस मामले का मुख्य आरोपी हरियाणा के करनाल का रहने वाला है, जहां ये छोटा सा फार्मेसी कॉलेज चलाता था। पहली पत्नी को तलाक देने के बाद इसने ऊना की रहने वाली अश्वनी कंवर से शादी की, अश्वनी कंवर के पिता आर्मी में थे। अशवनी कंवर के पिता ने अपनी बेटी को कुछ जमीन दे दी, जिसके बाद वो भूमि का मालिक बनी। यूनिवर्सिटी शुरू करने के लिए साल 2008 में आवेदन किया था जिसे राज्य सरकार ने कुछ कारणों से खारिज कर दिया था। साल 2009 में तत्तकालीन सरकार ने राज कुमार राणा को लेटर ऑफ इंटेन्ट जारी किया था। उसके बाद से ये पूरा खेल शुरू हुआ। यहां से अवैध तरीके से पैसे कमा कर राजस्थान के सिरोही में माधव विश्वविद्यालय शुरू की। राजकुमार राणा की पत्नी, बेटी और बेटा इस वक्त ऑस्ट्रेलिया में हैं।

Must Read: गहलोत सरकार ने शाम 4 बजे से रात 10 बजे तक सार्वजनिक आयोजनों की दी छूट, लोगों ने कहा धुलंडी शाम को नहीं दिन में खेलते है

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :